इरेक्टाइल डिसफंक्शन Erectile Dysfunction (ED) in Hindi

स्तंभन दोष या नपुंसकता या इरेक्टाइल डिसफंक्शन, संभोग के दौरान शिश्न के उत्तेजित न होने या उसे बनाए न रख सकने के कारण पैदा हुई यौन निष्क्रियता की स्थिति है। Erectile dysfunction (ED) is the inability to get or keep an erection firm enough to have sexual intercourse। It is also sometimes also referred to as impotence.

कभी कभी होने वाले स्तंभन दोष से कोई समस्या नहीं होती है। परन्तु पुरुष यदि उत्तेजित है और सेक्स करने की चाह रखता है लेकिन फिर भी उसे कभी इरेक्शन नहीं हो रहा तो निश्चित ही यह एक समस्या है जो की व्यक्ति की लाइफ क्वालिटी को प्रभावित करती है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने पर व्यक्ति को इसके सही कारण को जानने का प्रयास करना चाहिए। कई बार इसके होने का कारण डायबिटीज, हृदय रोग, पेनिस पर लगी चोट, ब्लड सर्कुलेशन में दिक्कत आदि हो सकते है। हो सकता है टेस्टोस्टेरोन की कमी हो या व्यक्ति भावनात्मक रूप से तैयार न हो। यदि सही कारणों का पता कर लिया जाए तो समस्या का समाधान करना सरल हो जाता है।

Erectile dysfunction is defined as the persistent inability to attain and maintain an erection sufficient to permit satisfactory sexual performance. ED affects physical-psychosocial health and quality of life. It can be due to many reasons including coronary artery and peripheral vascular disease, diabetes, physical damage to penis, Prostatic disease, Penile deformities etc.

पर्याय: Klaibya क्लैब्य, नपुंसकता, नामर्दी, impotence, Erectile Dysfunction (ED)

स्तंभन क्या है What is erection?

स्तंभन या इरेक्शन वह स्थिति है जिसमें यौनोत्तेजना में पुरुष का शिश्न / पेनिस का आकार बढ़ जाता है और कड़ा हो जाता है। यौन रूप से उत्तेजिटी होने पर शिश्न की धमनियाँ स्वतः फैल जाती हैं, जिसके कारण अधिक रक्त शिश्न के तीन स्पंजी ऊतक कक्षों मे भर जाता है और इसे लंबाई और कठोरता प्रदान करता है। यह रक्त से भरे ऊतक रक्त को वापस ले जाने वाली शिराओं पर दबाव डाल कर सिकोड़ देते है, जिसके कारण अधिक रक्त प्रवेश करता है और कम रक्त वापस लौटता है। ऐसा होने से शिश्न को एक निश्चित स्तंभन आकार मिलता है।

loading...

स्तंभन दोष / इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी) क्या है What is Erectile Dysfunction or ED?

इरेक्टाइल डिसफंक्शन या स्तंभन दोष वह स्थिति है जिसमें एक पुरुष संभोग के लिए पर्याप्त इरेक्शन / स्तम्भन को पाने या उसे बरकरार रखने में असमर्थ रहता है।

यह कहा जा सकता है की व्यक्ति को स्तम्भन दोष है, यदि

  • उसे कभी कभी इरेक्शन होता है, लेकिन हर बार नहीं
  • इरेक्शन होता है लेकिन यह संभोग के लिए पर्याप्त समय तक नहीं रहता
  • व्यक्ति कभी भी इरेक्शन पाने में असमर्थ

इरेक्शन न होने को नपुंसकता भी कहा जाता है।

स्तंभन दोष के कारण क्या हैं What are the causes of Erectile Dysfunction?

ऐसे बहुत से कारण है जिनके कारण इरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है। यह कारण शारीरिक, मानसिक या भावनात्मक हो सकते है। शारीरिक कारणों में लिंग में नसों को डैमेज, अथवा इसकी धमनियों, मांसपेशियों और ऊतकों को किसी भी कारण से होने वाला नुकसान शामिल है।

निम्न बीमारियों में पेनिस को नुकसान हो सकता हैं जो की स्तंभन दोष का कारण हो सकता है:

  1. उच्च रक्त चाप High blood pressure
  2. मधुमेह, उच्च रक्त ग्लूकोज Diabetes
  3. उच्च कोलेस्ट्रोल High cholesterol
  4. धमनियों के अंदर प्लाक Clogged blood vessels (atherosclerosis)
  5. हृदय और रक्त वाहिका रोग Heart disease
  6. गुर्दे की पुरानी बीमारी Chronic heart disease
  7. मल्टीप्ल स्केलेरोसिस Multiple sclerosis
  8. प्रोस्टेट कैंसर के लिए उपचार, विकिरण और प्रोस्टेट सर्जरी से चोट
  9. लिंग पर चोट Penis damage
  10. रीढ़ की हड्डी, प्रोस्टेट, मूत्राशय, या श्रोणि मूत्राशय कैंसर के लिए सर्जरी Surgeries or injuries that affect the pelvic area or spinal cord
  11. पेनिस में प्लाक
  12. पार्किनसंस Parkinson’s disease
  13. टेस्टोस्टेरोन का कम होना Low testosterone
  14. पेरोनीज डिसीज़ Peyronie’s disease, development of scar tissue inside the penis
  15. तम्बाकू का प्रयोग Tobacco use
  16. शराब, अफीम का सेवन Alcoholism and other forms of substance abuse
  17. जीवन शैली के रोग जैसे धूम्रपान, बहुत ज्यादा शराब पीना, ड्रग्स लेना, अधिक वजन, व्यायाम न करना आदि।

मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक कारण

Psychological causes of erectile dysfunction

  • तनाव-चिंता stress
  • डिप्रेशन Depression, other mental health conditions
  • यौन असफलता का भय anxiety
  • कम आत्म सम्मान low self esteem
  • समबन्धों में समस्या Relationship problems due to stress, poor communication or other concerns

दवाओं का सेवन

  • रक्तचाप की दवाएं
  • एंटीथिस्टेमाइंस
  • एंटीडेप्रेसंट
  • अवसाद पैदा करने की दवाएं
  • भूख कम करने की दवाएं
  • अल्सर की दवाएं

यदि पुरुष हार्मोन टेस्टोस्टेरोन कम हो तब भी स्तंभन दोष हो सकता है।

किनमें स्तंभन दोष होने की अधिक संभावना है?

शरीर में किसी रोग के होने पर और उम्र बढ़ने के साथ-साथ इसके होने की सम्भावना कुछ बढ़ जाती है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन से सम्बंधित दिक्कतें क्या हैं

What are the risk factors for Erectile Dysfunction?

इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने पर बहुत सी समस्याएं हो सकती हैं:

  • दाम्पत्य जीवन में यौन सुख न मिलना, असंतुष्ट पार्टनर
  • शारीरिक सुख न मिलने से अवसाद, चिंता, और कम आत्म सम्मान
  • जोड़े के बीच अंतरंगता की कमी, रिश्ते में तनाव आना
  • बच्चा होने में दिक्कत

इरेक्टाइल डिसफंक्शन का निदान कैसे होता है

What are the tests used to diagnose Erectile Dysfunction?

इरेक्टाइल डिसफंक्शन में डॉक्टर मरीज से उसकी मेडिकल और सेक्सुअल हिस्ट्री के बारे में पूछते हैं और कई टेस्ट कराते हैं।

  • मेडिकल और सेक्सुअल हिस्ट्री medical and sexual history
  • शारीरिक परीक्षा physical exam
  • ब्लड टेस्ट blood tests
  • पेशाब की जांच Urine tests (urinalysis)
  • नोक्टर्नल इरेक्शन टेस्ट erection test
  • इंजेक्शन परीक्षण injection test
  • डॉपलर अल्ट्रासाउंड Doppler ultrasound
  • मानसिक स्वास्थ्य परीक्षा Mental Health Exam

शारीरिक परीक्षा physical exam के दौरान निम्न को जांचा जाता है

लिंग को छू कर यह जांचा जाता है की क्या यह शारीरिक स्पर्श के प्रति संवेदनशील है। लिंग में यदि संवेदनशीलता का अभाव है, तो तंत्रिका तंत्र में किसी प्रकार की दिक्कत इरेक्टाइल डिसफंक्शन का कारण हो सकती है।

लिंग में देखने पर किसी प्रकार की असामान्यता। उदाहरण के लिए, Peyronie रोग में लिंग के सख्त होए पर वह मुड़ा हुआ या वक्र लगता है।

शरीर के बालों का गिरना या स्तनों का बढ़ना जो की हॉर्मोन असंतुलन low testosterone को दिखाता है।

ब्लड प्रेशर की जांच की जाती है।

कलाई में और एड़ियों में नाड़ी की जांच जिससे सर्कुलेशन blood circulation में होने वाली दिक्कत पता लग सके।

ब्लड टेस्ट blood tests में मधुमेह, atherosclerosis, क्रोनिक किडनी रोग, और हार्मोन संबंधी समस्याओं आदि है की नहीं जांचा जाता है।

नोक्टर्नल इरेक्शन टेस्ट में रात को होने वाले इरेक्शन के बारे में पता लगाया जाता है। हर स्वस्थ्य पुरुष को रात में तीन से पांच इरेक्शन होते हैं। यदि यह इरेक्शन व्यक्ति में देखे जा रहे हैं तो इसका मतलब है की उसमें इरेक्टाइल डिसफंक्शन का कारण मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक है।

इंजेक्शन परीक्षण में इंजेक्शन intracavernosal injection लगाकर लिंग में आये स्तम्भन और समय को देखते हैं।

डॉपलर अल्ट्रासाउंड, द्वारा लिंग में रक्त के प्रवाह को जांचा जाता है। इरेक्शन लाने के लिए इंजेक्शन भी लगाया जा सकता है। एक्स-रे तकनीशियन लिंग पर हल्के हाथ से डिवाइस गुजारता है। कंप्यूटर स्क्रीन पर रक्त वाहिका में रक्त प्रवाह की गति और दिशा देखी जाती है।

मानसिक स्वास्थ्य परीक्षा के द्वारा दंपति के भावनात्मक और शारीरिक संबंधों के बारे में जानकारी ली जाती है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन इलाज कैसे होता है

What are the treatments and medications for Erectile Dysfunction?

सही इलाज सही कारण पता लगने के बाद किया जा सकता है। निम्न सुझावों से भी बहुत मदद होती है:

  • जीवन शैली में परिवर्तन (सिगरेट, शराब ड्रग्स आदि का सेवन न करके, व्यायाम बढ़ा कर, और प्राणायाम करके )
  • काउंसलिंग (इमोशनल करणों को दूर करके, स्ट्रेस-एंग्जायटी कम करके)
  • अन्य रोगों में दी गई दवाई में बदलाव लाकर
  • इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए विशेष दवाएं देकर, सर्जरी से कोई शारीरिक दिक्कत दूर करके

एलोपैथिक दवाएं जो इरेक्टाइल डिसफंक्शन में दी जाती हैं:

  1. सिल्डेनाफिल (वियाग्रा) sildenafil
  2. वारडेनाफिल (Levitra, Staxyn) vardenafil
  3. टाडलाफिल (Cialis) Tadalafil
  4. अवनाफिल (Stendra) avanafil

यह सभी दवाएं पेनिस में खून के दौरे को बढ़ाती हैं। ये सभी दवाइयां ऐसे व्यक्ति को नहीं लेनी चाहिए जो की नाइट्रेट्स दवाएं nitrates, हृदय रोग के लिए ले रहा हो।

जिसमें टेस्टोस्टेरोन की कमी हो उसे टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने वाली दवाएं दी जाती हैं। लेकिन ऐसी दवाएं उस व्यक्ति में काम नहीं करेंगी जिसे इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने का कारण नसों की कमजोरी या खून के दौरे में दिक्कत है।

इसके अतिरिक्त पेनिस पंप Penis pumps, पेनाइल इम्प्लान्ट्स Penile implants, और ब्लड वेसेल सर्जरी Blood vessel surgery भी इलाज़ के रूप में उपलब्ध हैं

आयुर्वेदिक दवाएं जो इरेक्टाइल डिसफंक्शन में उपयोगी हैं

बहुत सी आयुर्वेदिक दवाएं उपलब्ध हैं जो की इरेक्टाइल डिसफंक्शन में उपयोगी हैं। लेकिन यह हमेशा ज़रूरी है की रोग के सही कारण का पता लगायें। तभी सही से उपचार संभव है।

स्तम्भन दोष में लाभप्रद जड़ी-बूटियाँ

इरेक्टाइल डिसफंक्शन को व्यक्ति में जीवन शैली में अवश्य परिवर्तन लाना चाहिए। उसे किसी भी प्रकार के मादक पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए। सिगरेट का प्रयोग तो बिलकुल बंद कर देना चाहिए। खून के दौरे को सही रखने के लिए व्यायाम करना चाहिए। भोजन में पौष्टिक, सुपाच्य और हल्का भोजन करना चाहिए। फल, सब्जी, अनाज, दूध आदि का सेवन करना चाहिए। नमक का सेवन कम करना चाहिए।

एल आरजिनिन, आयोडीन, नियासिन, सेलेनियम, जिंक, विटामिन सी और विटामिन ई L-Arginine, Iodine, Niacin, Selenium, Zinc, Vitamin C and E की कमी से भी स्तम्भन दोष हो सकता है। इसलिए इनकी कमी को दूर करना चाहिए।

मोटापा है तो उसे दूर करना चाहिए। प्राणायाम करना चाहिए जिससे शरीर में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा जाए और साथ ही अवसाद, स्ट्रेस आदि दूर हो।

loading...

13 thoughts on “इरेक्टाइल डिसफंक्शन Erectile Dysfunction (ED) in Hindi

  1. my age is 42.i am suffering from ed last 2 years.although have a good sex drive some time in between.please help me. please reffer me some herble medicines.i cannot pay more money for medical tests
    mam please help me

    • Occasional ED is not a problem. It is very common condition and can be due to stress, fatigue or low energy. You may be too stressed or tense about something. Do Pranayam and be happy. Do some exercise, drink plenty of water, avoid constipation and drink milk. Avoid depression, anxiety and too much thinking. Hope this help.

  2. स्वर्ण भस्म व मकरध्वज जीवनदायनी औषधी है मान गये पहचान गये …….

  3. Hi, I just consulted a doc (urologist) at a
    reputed hospital in Bangalore, all he did was just examined me for a few seconds and asked me to visit him after giving me a list of tests and scans all including some 13 (put together) which sounds almost like a postmortem and also cost a whooping 10k. Is this really necessary?

  4. Thank you and appreciate you quick reply but feeling kind of unsecured when I came to believe that I’ve to consult many doctors for the same treatment.

    • Take multiple opinion and finalise one Doctor. In these kind of problems multiple doctors opinion is good that is why i suggested. It is up to you and your financial condition.

  5. Hi , is tentex royal helpfull to me along with caverta 100 (caverta just before IC), if yes then what should be the dosage and duration? I’m 78 born and diabetic since 2004, I’m a smoker and alcoholic too but I’m sober now since 2 years from alcohol. I only realised I had ED when I got married in 2010, I never had an intercourse yet in my life although tried any failed with my wife, we lived together of 3 years only and now getting back together after 3.5years of separation… kindly advise.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*