हिमालया हिमकोलिन Himcolin Gel Detail and Uses in Hindi

इस आयुर्वेदिक दवा का प्रयोग इरेक्टाइल डिसफंक्शन में किया जाता है। इसमें आयुर्वेद के कई जाने-माने तेल हैं जैसे की ज्योतिष्मती, लता कस्तूरी, बादाम, निर्गुन्डी, लौंग, आदि।

हिमकोलिन जेल, हिमालया फार्मा द्वारा निर्मित उनकी पेटेंट दवा है। यह जेल बेस्ड दवा है जो की क्रीम की तरह पुरुषों द्वारा इन्द्रिय पर लगाई जाती है जिससे बेटर इरेक्शन / लिंग स्तम्भन हो सके। इस आयुर्वेदिक दवा का प्रयोग इरेक्टाइल डिसफंक्शन functional ED में किया जाता है। इसमें आयुर्वेद के कई जाने-माने तेल हैं जैसे की ज्योतिष्मती, लता कस्तूरी, बादाम, निर्गुन्डी, लौंग, आदि।

हिम्कोलिन जेल, को पेनिस के ऊपर लगाकर अच्छे से मालिश करनी चाहिए। इसे पेनिस के हेड पर नहीं लगाना चाहिए।

टेंटेक्स फोर्ट और हिमकोलिन क्रीम Tentex Fort + Himcolin दोनों के इतेमाल से इरेक्शन की आवृत्ति, गुणवत्ता और स्थिरता में सुधार किया जा सकता है और यह फंक्शनल ईडी में फायदेमंद इलाज़ है। टेंटेक्स फोर्ट और हिमकोलिन क्रीम के साथ से थेरेपी पुरुषों में यौन इच्छा बढ़ जाती है और संभोग शुरू करने की तत्परता अधिक होती है। दोनों के इस्तेमाल से ऑरगामी प्रतिक्रिया और बढ़ जाती है और सम्पूर्ण संतुष्टि मिलने की सम्भावना बढ़ती है और पारस्परिक संबंधों में सुधार होता है। टैन्टेक्स फोर्ट और हिमकोलिन क्रीम आर्थिक और प्रयोग करने में आसान है। इस पेज पर इस दवा के बारे बताया गया है जो की केवल जानकारी देने के उद्देश्य से है।

  • निर्माता: Himalaya Drug Company
  • रोग: इरेक्टाइल डिसफंक्शन
  • ब्रांड का नाम : हिमालया
  • श्रेणी: आयुर्वेदिक क्रीम जेल
  • मूल्य: हिम्कोलिन जेल की 30 ग्राम की एक ट्यूब की कीमत रुपए 140 है।

पेनिस में इरेक्शन नहीं होने के कुछ कारण

पुरुष में दृष्टि, विचार या स्पर्श से यौन उत्तेजना आती है। उत्तेजना से मस्तिष्क संकेतों को भेजता है जिससे पेनिस की धमनियों के आसपास की चिकनी मांसपेशियों को रिलैक्स किया जाता है जो पेनिस में रक्त की आपूर्ति करती हैं। खून की बढ़ी हुई राशि से पेनिस कड़ा हो जाता है। त्वचा का दबाव आंशिक रूप से नसों के वाल्व को बंद कर देता है, जिससे इरेक्शन को बनाए रखने में मदद मिलती है। यह इरेक्शन सम्भोग के लिए ज़रूरी है। स्खलन या उत्तेजना के समाप्ति के बाद, रक्त शरीर में वापस लौट जाता है , पेनिस में रक्त के प्रवाह का स्तर सामान्य हो जाता है। शिश्न एक बार फिर वापस से नार्मल अवस्था में आ जाता है।

स्तंभन दोष, जो तकनीकी रूप से “संभोग के लिए पर्याप्त निर्माण को प्राप्त करने या बनाए रखने में असमर्थता” के रूप में परिभाषित किया गया है। यह पुरुषों में सबसे आम यौन बीमारियों में से एक है। यद्यपि स्तंभन दोष मुख्य रूप से मूल में मनोवैज्ञानिक हो सकता है, ज्यादातर पुरुषों के लिए यह आमतौर पर एक शारीरिक विकार है, अक्सर कुछ मनोवैज्ञानिक कारणों के साथ आता है। यह निर्धारित करना अक्सर मुश्किल होता है कि स्तंभन दोष का कारण शारीरिक या मनोवैज्ञानिक या संयोजन है।

मनोवैज्ञानिक नपुंसकता आचानक हो सकती है और हाल की स्थिति से संबंधित हो सकती है। इरेक्शन कुछ परिस्थितियों में सक्षम हो सकता है, लेकिन दूसरों में नहीं। सुबह जागने पर इरेक्शन अनुभव नहीं होना से पता चलता है कि समस्या मनोवैज्ञानिक नहीं शारीरिक है।

Loading...

शारीरिक नपुंसकता धीरे-धीरे होती है, लेकिन समय के साथ लगातार बढ़ती है। अगर नपुंसकता तीन महीने की अवधि में बनी रहती है और ऐसा किसी तनावपूर्ण घटना, नशीली दवाओं के उपयोग, शराब या चिकित्सा की स्थिति के कारण नहीं है, तो व्यक्ति को नपुंसकता के विशेषज्ञ urologist से सलाह करनी पड़ सकती है।

सामान्य स्वास्थ्य में कमी और शारीरिक थकावट इरेक्शन को प्रभावित कर सकते हैं। जब पुरुष बहुत थका हुआ हो, तो उसे केवल एक इरेक्शन हो सकता है, लेकिन फिर भी चरमोत्कर्ष करने में सक्षम हो सकता है। इरेक्शन का टाइम लगभग 30 – 45 मिनट के आसपास हो सकता है।

loading...

एंग्जायटी Anxiety में भावनात्मक और शारीरिक परिणाम होते हैं जो इरेक्शन को प्रभावित कर सकते हैं। यह मनोवैज्ञानिक नपुंसकता के लिए सबसे अधिक कॉमन कारणों में से एक है। यौन प्रदर्शन की चिंता, विफलता से आत्म-संदेह का गहन भय पैदा हो सकता है। इस प्रभाव से नपुंसकता का चक्र बन सकता है। एंग्जायटी के जवाब में, मस्तिष्क न्यूरोट्रांसमीटर के रूप में जाने वाले रसायनों को जारी करता है जो लिंग और उसकी धमनियों की चिकनी मांसपेशियों को बाधित करती है। यह रक्त के प्रवाह को कम कर देता है और पेनिस में कड़ापन नहीं आता। सरल तनाव मस्तिष्क के रसायनों की रिहाई को भी बढ़ावा दे सकता है जो पेनिस के इरेक्शन को प्रभावित करते हैं।

  • डिप्रेशन, स्तंभन दोष के साथ जुड़ा हुआ है। एक अध्ययन में, 82% पुरुषों ने मध्यम से गंभीर स्तंभन दोष से पीड़ित पुरुषों में अवसाद के लक्षण भी थे। अवसाद निश्चित रूप से यौन इच्छा कम कर सकता है
  • सामाजिक आर्थिक मुद्दों, जैसे नौकरी खोना या कम आय या होने से नपुंसकता का खतरा बढ़ जाता है।
  • धूम्रपान (विशेष रूप से भारी) को नपुंसकता के विकास में एक योगदानकारी कारक है
  • शराब भी नपुंसकता पैदा करने का कारक है। अधिक मात्रा में शराब यह केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को दबा सकता है और यौन क्रिया को कम कर सकता है।
  • हृदय की समस्याओं, रक्त वाहिकाओं में रुकावट, कोरोनरी हृदय रोग से इरेक्शन दोष हो सकता है। उच्च रक्तचाप में इरेक्शन की समस्या ज्यादा गंभीर है। उच्च रक्तचाप का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के दुष्परिणाम से भी नपुंसकता हो सकती है।
  • पार्किंसंस रोग नपुंसकता के लिए एक जोखिम कारक है।
  • मल्टीपल स्केलेरोसिस केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है और इरेक्शन कम करता है।
  • रीढ़ की हड्डी की चोट और पैल्विक आघात, जैसे कि पैल्विक फ्रैक्चर, तंत्रिका क्षति के कारण हो सकता है जो नपुंसकता का कारण बन सकता है।
  • मधुमेह नपुंसकता के मामलों के रूप में 40% के रूप में योगदान कर सकते हैं ।
  • अध्ययनों से संकेत मिलता है कि नियमित साइकिलिंग लिंग के रक्त प्रवाह को कम कर इरेक्शन का जोखिम पैदा कर सकता है।
  • पुरुष नसबंदी से स्तंभन दोष नहीं होता लेकिन यह मनोवैज्ञानिक ढंग से नपुंसकता का कारण हो सकता है।
  • हार्मोन की कमी से इरेक्शन पर असर पड़ सकता है।

Himcolin Gel from Himalaya Drug Company, is an herbal formulation containing well-known Ayurvedic Oils and used to have better erection for longer duration. This medicine is meant for topical use in males only. Its use is not recommended in children below the age of 14. It is applied on penis and pubic area 20 minutes before the sexual act. It should not be applied to the glans penis or the head of penis. Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

हिमालया हिमकोलिन के घटक Ingredients of Himcolin Gel

Each gm of Himcolin contains Oils of:

  • ज्योतिष्मति Jyotishmati (Celastrus paniculatus) 200mg
  • लताकस्तूरी Lathakasthuri (Hibiscus abelmoschus) 150mg
  • बादाम Vatada (Prunus amygdalus) 100mg
  • निर्गुन्डी Nirgundi (Vitex negundo) 100mg
  • कर्पसा Karpasa (Gossypium herbaceum) 50mg
  • मुकुलक Mukulaka (Pistacia vera) 50mg
  • जायफल Jatiphalam (Myristica fragrans) 30mg
  • जावित्री Jatipatri (Myristica fragrans (Mace) 30mg
  • लौंग Lavanga (Syzygium aromaticum) 30mg
  • तेजपत्ता Bay leaf (Cinnamomum cassia) 30mg
  • प्रोसेस्स करने के पदार्थ: अश्वगंधा, गूंजा, पीपल, अकरकरा, शतावर

ज्योतिष्मति, पेनिस की मसल्स को रिलैक्स करता है। यह लिंग की संवेदनशील नसों को उत्तेजित करता है। लताकस्तूरी, एक कामोद्दीपक है जो कि यौन इच्छा को बढ़ाता है और स्तंभन के समय को बढ़ाता है। जायफल या जातीफल एक प्रसिद्ध मसाला है। यह मिरिस्टिका फ्रेगरेंस वृक्ष के फल में पाए जाने वाले बीज की सुखाई हुई गिरी है। जायफल और जावित्री दोनों एक ही बीज से प्राप्त होते हैं। जायफल की बाहरी खोल outer covering या एरिल को जावित्री Mace कहते है।

जायफल और जावित्री दोनों ही स्वाद में कटु, तिक्त, गुण में लघु और तेज है। स्वभाव से गर्म है और कटु विपाक है। यह उष्ण वीर्य है।  जायफल और जावित्री को बाजिकारक aphrodisiac दवाओं और तेल को तिलाओं में डाला जाता है। यह पुरुषों की इनफर्टिलिटी, नपुंसकता, शीघ्रपतन premature ejaculationकी समस्याओं में उपयोगी है। इनके सेवन से इरेक्शन बढ़ता है लेकिन स्खलन रुकता है।

loading...

हिमालया हिमकोलिन के फायदे

यह ज्योतिष्मती और मस्क मॉल / लताकस्तूरी का एक अनूठा मिश्रण है। ज्योतिष्मती पेनिस (शिश्न) की संवहनी चिकनी मांसपेशियों को आराम देती है, जिससे वासोडिलेशन होता है और परिणामस्वरूप पेनिस खड़ा होता है। यह रूबेफिएन्ट के रूप में भी कार्य करता है, जो पुरुष यौन अंग के संवेदनशील तंत्र को उत्तेजित करता है। लताकस्तूरी एक कामोत्तेजक एजेंट है जो यौन इच्छा को बढ़ाता है और साथ ही पेनिस में आए इरेक्शन को बरकरार रखने में सहयोग करता है।

  • यह पेनिस की कमजोरी में फायदेमंद हो सकती है।
  • यह आयुर्वेदिक है और इसका कोई गंभीर साइड इफ़ेक्ट नहीं है।
  • इससे मालिश करने से लिंग की नसें उत्तेजित होती हैं।
  • इससे पुरुष यौन अंग में रक्त प्रवाह बढ़ता है, और अधिक देर तक संभोग करने में भी मदद मिलती है।
  • इसे संभोग के ठीक पहले पुरुष यौन अंग पर लगाने से पेनिस में अच्छा कड़ापन आता है।

हिमालया हिमकोलिन के चिकित्सीय उपयोग Uses of Himcolin Gel

Erectile dysfunction के लिए यह आयुर्वेदिक जेल है।

हिमालया हिमकोलिनन का इस्तेमाल अच्छे इरेक्शन के लिए किया जाता है। इसे बाहरी रूप से लगाया जाता है।

इसको लगाने से वैसोडायलेटेशन (dilatation of blood vessels, which decreases blood pressure) होता है, जिससे ब्लड वेसेल फैल जाते हैं और रक्त का प्रवाह अच्छा होता है। रक्त प्रवाह अच्छा होने से लिंग सख्त और कड़ा होता है। यह पेनिस को मॉइस्चराइजिंग असर भी देता है। इसको लगाने से मसल्स रिलैक्स होते है। यह मांसपेशियों को आराम देता है और सूजन दूर करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण हैं।

जेल का उपयोग कैसे करें How to Use Himcolin Gel

  • जेल संभोग करने से पहले लगाया जाता है। इस जेल की पर्याप्त मात्रा पेनिस और प्यूबिक एरिया पर आधे घंटे पहले मालिश करके लगाते है।
  • अधिकतम प्रभाव के लिए पूरी तरह से मालिश करें।
  • अच्छे परिणाम के लिए इसे अपनी सेक्स पार्टनर से पेनिस पर लगवाएं।
  • यह इरेक्टाइल पॉवर और सेक्सुअल पोटेंसी को बढ़ाता है।
  • इसे ग्लांस पेनिस पर न लगायें।
  • इसे ठंडी सूखी जगह पर रखें।
  • इसे खिड़की के पास, बाथरूम में, सिंक के पास आदि गीली और नम जगहों पर न रखें।
  • इसका इस्तेमाल 2 सप्ताह या अधिक तक करके देखें।
  • Tentex forte की 2 गोली, दिन में दो बार आंतरिक इस्तेमाल के लिए और हिम्कोलिन जेल से पेनिस पर लगाकर देखें।

हिम्कोलिन जेल निम्न पुरुषों के लिए फायदेमंद हो सकता है:

  • 18 वर्ष या उससे अधिक उम्र के पुरुष
  • 3 महीने की अवधि में इरेक्शन पाने या बनाए रखने में 50% या अधिक विफलता की दर
  • 2 सप्ताह पहले रात में इरेक्शन
  • 2 सप्ताह पहले पूरा सम्भोग किया हो
  • इरेक्शन नहीं आने का कोई शारीरिक कारण नहीं है।

हिम्कोलिन जेल निम्न पुरुषों के लिए फायदेमंद नहीं हो सकता, यदि:

  • पेनिस में शारीरिक विकृतियां
  • प्रोस्टेट ग्रंथि को निकाला गया है
  • रीढ़ की हड्डी की चोट
  • अस्थिर एनजाइना पेक्टोरिस
  • मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन
  • उच्च रक्तचाप
  • अनियंत्रित मधुमेह
  • हार्मोनल उपचार, एंटीडिप्रेसंट वाले पुरुष
  • एंटीसाइकोटिक या अन्य साइकोएक्टिव ड्रग्स लेने वाले पुरुष आदि।

इरेक्शन करने के लिए जीवनशैली में बदलाव

  • सामान्य स्वास्थ्य बनाए रखें। हृदय रोग की सम्भावना कम करें।
  • ताजे फल और सब्जियों, साबुत अनाज, और फाइबर खाएं। संतृप्त वसा और सोडियम में कम बहुत कम खाएं। चूंकि स्तंभन दोष अक्सर परिसंचरण की समस्याओं से संबंधित होता है, हृदय को लाभ देने वाले आहार विशेष रूप से महत्वपूर्ण होते हैं।
  • नियमित व्यायाम कार्यक्रम बेहद महत्वपूर्ण है।
  • शराब और धूम्रपान छोड़ना जरूरी है।
  • यौन सक्रिय रहने से नपुंसकता को रोकने में मदद मिल सकती है। बार बार होने वाले इरेक्शन से खून का पेनिस में दौरा ठीक रहता है।
  • Kegel व्यायाम करें। यह उन पुरुषों के लिए सहायक भी हो सकता है जिनके स्तंभन दोष विकृत रक्त परिसंचरण के कारण होता है।
  • यदि दवाएं नपुंसकता पैदा कर रही हैं, तो रोगी और चिकित्सक को विकल्पों या कम मात्रा में होने वाले खुराकों पर चर्चा करनी चाहिए।
loading...
Loading...

72 thoughts on “हिमालया हिमकोलिन Himcolin Gel Detail and Uses in Hindi

  1. Himalaya himcolin gel Lagan se आदमी कितने घंटे तक सेक्स कर सकता है is gel Ka Asar kitne ghante Tak Hota Hai

  2. सपनदोष भी ठीक हो जाता है क्या? और शीघ्रपतन भी ठीक हो जाता है क्या?

  3. मेडम इस जेल का उपयोग महिला की योनी में कोई इन्फेक्शन पैदा तो नहीं करता हे ना

  4. Mam merI penis bhot hi weak hai or erection bhi nhi aate or me ek virgin hu mam me sex nhi karta kya me ise aese hi laga sakta ED improve karne ko

    • जेल संभोग करने से पहले लगाया जाता है। इस जेल की पर्याप्त मात्रा पेनिस और प्यूबिक एरिया पर आधे घंटे पहले मालिश करके लगाते है।

  5. matlb agr hum sex nhi karty hn to kya fir bhi ling ki majbooti k liye hum eska use kar sakty hn??? Ya sirf or sirf sex karny sy pehly hi lagaty hn

  6. ये जेल सिर्फ सेक्स पावर बढ़ाने के लिए है या फिर पेनिस एनलार्जमेंट के लिए।

  7. हिमकोलिन जेल की मालिश कितने दिनो तक करनी चाहिए रोज मालिश करे तो चलेगा और कितने दिनो बाद उचित परिणाम देता है

    • Sir himcolin gel daily use kar sakte he jab sambhog nahi karte he to use kare ya nahi

    • जी ये अच्छी चीज नहीं है, ये बीमार लोगों के लिए है, अगर जरूरत नहीं है तो कोई भी चीज इस्तेमाल न करें

  8. हिमकोलिन ज़ेल की मालिश कितने दिनों तक करनी चाहिए और यह कितने समय या दिनों बाद उचित परिणाम देती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.