धातु रोग शुक्रमेह Spermatorrhoea धातु गिरना

जानिये शुक्रमेह Spermatorrhoea धातु गिरना क्या होता है और इसके लक्षण क्या क्या होते हैं। जानिये धातु रोज की आयुर्वेदिक हर्बल दवाइयां कौन कौन सी हैं और धात गिरने के घरेलु उपचार कैसे करते हैं।

Arthritis | आर्थराइटिस (गठिया) जानकारी, दवाएं और खान-पान

Arthritis symptoms, treatment in ayurveda, types of arthritis, diet chart for arthritis patients in hindi जांनिये आर्थराइटिस क्या है, आर्थराइटिस के लक्षण, अर्थराइटिस का इलाज इन हिंदी।

एमीवीटा टन कैप्सूल (उंझा फार्मेसी) Emivita Ton Capsule Detail and Uses in Hindi

इमिविटा टन कैप्सूल, उंझा फार्मेसी द्वारा निर्मित पुरुषों के लिए वाज़िकारक और शक्तिवर्धक दवाई है। यह एक टॉनिक औषधि है और कमजोरी को दूर करती है। यह पुरुषों की यौन शक्ति को बढ़ाती है और बहुत से यौन रोगों में

त्रिफला रसायन Triphala Rasayana in Hindi

triphala

त्रिफला (फलत्रिक, वरा) आयुर्वेद का सुप्रसिद्ध टॉनिक है। यह लगभग हर प्रकार के रोग में लाभदायक है। यह वात, पित्त और कफ को संतुलित करने, शरीर से गंदगी निकालने, आमपाचक गुण के कारण सर्वरोगनाशक माना गया है। यह दृष्टिवर्धक, रक्तवर्धक,

जानिये गुड़ के फायदे Jaggery (Gur or Gud) in Hindi

gud ke aushadiy upyog

आयुर्वेद के अनुसार पुराना गुड़ अधिक स्वास्थ्यवर्धक होता है। आयुर्वेदिक के आसव-अरिष्ट बनाते समय गुड के घोल में ही किण्वन किया जाता है। इसलिए पढ़े, जाने और अपनाएँ गुणवर्धक गुड़ को अपने भोजन में।

सालममिश्री Salep in Hindi

salep medicinal uses

पौधे की जड़ें कन्द होती है और देखने में पंजे या हथेली की तरह होती हैं। यह मीठी, पौष्टिक और स्वादिष्ट होती हैं। दवाई या टॉनिक के रूप में पौधे के कन्द जिन्हें सालममिश्री या सालमपंजा कहते हैं, का ही प्रयोग किया जाता है।

यवक्षार Yavakshara Carbonate of Potash information, Uses, Caution and More in Hindi

आयुर्वेद में यवक्षार को मुख्य रूप से कफ रोगों, जलोदर ascites, पथरी, पेशाब में जलन, प्लीहा-यकृत रोगों, हृदय के लिए टॉनिक और रक्त पित्त में प्रयोग किया जाता है।

जानिये हिमालयन वियाग्रा – यार्सागुम्बा के बारे में Himalayan Viagra – Yarsagumba in Hindi

यारसागुम्बा को विभिन्न रोगों जैसे की cancer, bronchial asthma, bronchitis, TB, diabetes, cough and cold, erectile dysfunction, BHP, jaundice, alcoholic hepatitis आदि में प्रमुखता से प्रयोग किया जाता है। यह लीवर, किडनी और हृदय रोगों hepatic, renal, and cardiovascular में फायदा करती है।