औरतों में ठन्डेपन की समस्या का आयुर्वेदिक उपचार

औरतों में ठन्डेपन की समस्या को इंग्लिश में फ्रिजिडिटी कहते हैं। जिन स्त्रियों का सेक्स के लिए मन नहीं करता, जो सेक्स के लिए उत्तेजित नहीं हो पाती और सेक्स के दौरान पति का साथ नहीं देती उन्हें फ्रिजिड कहा जाता है। क्योंकि ऐसी औरतें सेक्स को एन्जॉय नहीं करती इसलिए उनमें चरम या ओर्गास्म भी नहीं होता। कई बार वे सेक्स केवल पति के कहने पर अपने शरीर को इस्तेमाल होने देती है और कई बार मना ही कर देती है। सेक्स एक जरूरत है जिसके पूरा नहीं होने पर एक दूसरे के लिए असंतोष और गुस्सा बढ़ता है। कई बार नौबत तलाक तक की आ जाती है। पति में कोई समस्या न होते हुए भी वह सेक्स नहीं कर सकता। यह एक ऐसी समस्या है जिससे पति और पत्नी दोनों को ही मानसिक समस्या होने लगती है। पति सेक्स के लिए परेशान रहता है जबकि पत्नी सेक्स नहीं करने के लिए परेशान रहती है।

औरतों में ठन्डेपन की समस्या का कारण मनोवैज्ञानिक या शारीरिक हो सकता है। मानसिक कारणों में चिंता, डर, अवसाद, तनाव, बलात्कार, यौन दुर्व्यवहार, या पति पत्नी के बीच एक दूसरे के प्रति दुर्भावना हो सकती है। पत्नी का पति को नहीं पसंद करना भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारक हो सकता है। शारीरिक कारक मासिक धर्म चक्र, गर्भावस्था, बच्चे को दूध पिलाना, प्रसवोत्तर अवधि, रजोनिवृत्ति, श्रोणि क्षेत्र की चोट या गर्भनिरोधक गोलियां / हार्मोन हो सकते हैं।

यह ज़रूरी है कि यदि किसी पत्नी में सचमुच यह समस्या है तो वह इसे दूर करने की इच्छा रखे। तभी यह इस समस्या का निवारण कर सकती है। यदि वह सब कुछ जानते बूझते ऐसा कर रही है, तो इस समस्या का निवारण नहीं किया जा सकता।

बिस्तर पर औरतों में ठन्डेपन की समस्या – फ्रिजिडिटी क्या है?

ठंडापन अक्सर महिलाओं में कम कामेच्छा (सेक्स ड्राइव) के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह एक तरह का फीमेल सेक्सुअल डिसफंक्शन है।

फ्रिजिडिटी होने के कौन से कारण हैं? पत्नी का सेक्स के लिए मन क्यों नहीं करता?

ठंडापन या महिलाओं में कामेच्छा में कमी के कई कारण हो सकते हैं। यह समस्या मानसिक या शारीरिक कारण से हो सकती है। इस समस्या से पीड़ित महिला सहवास की इच्छुक नहीं रहती। सेक्स के दौरान भी वह कोई उत्तेजना नहीं दिखाती और मानसिक रूप से तैयार होने से योनि का सूखापन होता है जिससे सेक्स पति और पत्नी दोनी के लिए दर्दनाक हो सकता है। यदि पति सेक्स करे भी तो यह एक रूटीन का काम हो जाता है जिसमें कोई आनंद नहीं रहता।

Loading...

ठंडेपन के भावनात्मक कारण

  • एक दूसरे से व्यवहार की समस्याएं, अनसुलझी भावनात्मक समस्या, लड़ाई-झगड़े
  • कम आत्मसम्मान या आत्मविश्वास की कमी
  • गर्भावस्था या यौन संचारित रोगों का डर
  • तनाव, चिंता, अवसाद
  • धार्मिक, व्यक्तिगत कारणों से अंतरंगता बाधाएं
  • नशे की लत
  • पति का पत्नी से बुरा व्यवहार
  • पति की हिंसक प्रवृति
  • पति को पसंद नहीं करना
  • पति पत्नी में स्वभाव का अंतर
  • पति से भावनात्मक दूरी
  • पिछला दर्दनाक यौन अनुभव जैसे बलात्कार, व्यभिचार, या यौन उत्पीड़न
  • रिश्ते में शर्म, अपराध, अवसाद, चिंता, या ऊब जैसी भावनाएं
  • ससुराल पक्ष से अनबन
  • सेक्स से घृणा महसूस होना, इसे गन्दा समझना

ठंडेपन के शारीरिक कारण

  • अन्य रोग के लिए ली जाने वाली दवाओं का प्रभाव
  • थकावट या थकान
  • पर्याप्त संभोग का अभाव
  • पुरुष का यौन प्रदर्शन अच्छा नहीं होना
  • योनि का सूखापन
  • रजोनिवृत्ति या हार्मोनल असंतुलन से संबंधित परिवर्तन
  • शराब या मादक द्रव्यों के सेवन के प्रभाव
  • संक्रमण या स्त्री रोग संबंधी समस्याएं
  • संभोग के दौरान दर्द या परेशानी (डिस्पेर्यूनिया)
  • सर्जरी या आघात के कारण नसों को नुकसान

औरतों में ठंडेपन के लिए घरेलू उपचार

Home Remedies for Frigidity

औरतों का ठंडापन, कामुक ठंडापन, औरत में सेक्स इच्छा की कमी, लो लिबिडो, frigidity आदि का अर्थ है किसी महिला में कम कामेच्छा या सेक्स ड्राइव की कमी। शरीरिक सम्बन्ध, वैवाहिक जीवन के लिए ज़रूरी है। पत्नी की सेक्स में रुचि न होने के कारण कई पुरुष घर के बाहर इसे पाने की कोशिश करते हैं या तलाक तक के बारे में सोच लेते हैं। इसलिए यह ज़रूरी है कि यदि किसी महिला में सेक्स में रूचि नहीं है तो वह इसे समझे और इसे दूर करने के उपाय करे। ज़रूरी हो तो डॉक्टर से भी सलाह ली जा सकती है। नीचे कुछ घरेलू उपचार दिए गए हैं, जो रसायन है और पूरे स्वास्थ्य को बेहतर करने में सहायक है। ये उपाय दिमाग और प्रजनन अंगों पर काम करते हैं और सेक्सुअल डिसफंक्शन को दूर करने में मदद करते है।

Loading...

औरत को उत्तेजित करने के लिए शतावरी और विदारी का प्रयोग

शतावरी Asparagus racemosus पौधे की जड़ को आयुर्वेद में स्त्री रोगों को लिए प्रमुखता से प्रयोग किया जाता है। यह एक एंटीऑक्सिडेंट और जीवाणुरोधी है, तथा प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करती है। यह खून की कमी से बचने में मदद करती है।

शतावर को माहवारी पूर्व सिंड्रोम (PMS), गर्भाशय से रक्तस्राव और नई मां में दूध उत्पादन शुरू करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसके अतिरिक्त शतावर को अपच, कब्ज, पेट में ऐंठन, और पेट के अल्सर, दर्द, चिंता, कैंसर, दस्त, ब्रोंकाइटिस, क्षय रोग, मनोविकार, और मधुमेह के लिए भी प्रयोग किया जाता है। यह एक aphrodisiac के रूप में यौन इच्छा को बढ़ाने के लिए भी प्रयोग की जाती है। इसका शरीर में स्त्री हॉर्मोन एस्ट्रोजन जैसा असर होता है।

विदारी एक पौधे Pueraria tuberosa का कंद है। यह वातहर, पित्तहर, हृदय, पौष्टिक, शुक्रल, बल्य, कंठ के लिए उत्तम, वर्ण्य, रसायन और वाजीकारक है। इसके सेवन से रक्तपित्त, शुक्र क्षय, रक्त दोष, जलन, कफ, शूल, मूत्रकृच्छ, विसर्प और विषमज्वर आदि दूर होते हैं।

विदारी रस में मधुर और मधुर विपाक है। यह गुण में गुरु और स्निग्ध है। वीर्य में यह शीत है और शरीर को बल देने वाली रसायनी औषध है।

1- शतावरी एक भाग और विदारी कन्द का पाउडर आधा भाग को मिला कर रख लें।

इसे एक कप गर्म दूध के साथ रात को सोने से पहले लें। इससे स्वास्थ्य अच्छा होगा और यौनेच्छा बढ़ेगी।

2- शतावरी पाउडर एक भाग, विदारी कन्द पाउडर का पाउडर एक भाग, जायफल पाउडर ⅛ part और टगर आधा भाग मिला कर रख लें।

इस पाउडर को 1 टी स्पून की मात्रा में गर्म दूध के साथ सुबह और शाम लें। ऐसा 1 महीने तक करें।

मालिश erotic massage

आप बाला तेल, शतावरी घी, एरंडर तेल या ब्राह्मी घी के साथ जघन की हड्डी को धीरे से मालिश कर सकते हैं।

चमेली की गंध कामुक प्रेरणा पैदा करती है। जैस्मीन तेल के कुछ बूंदों को बादाम के तेल के साथ मिलाकर शरीर पर मालिश करने पर स्त्री ठंडेपन में मदद होती है।

सूखे मेवे का प्रयोग

नाश्ते में 10 बादाम खाएं। बादाम रात भर पानी में भिगोएँ, और अगली सुबह खाने से पहले छील लें।

नाश्ते के बाद, 1 चम्मच शहद के साथ 3 अंजीर खाएं। एक घंटे बाद, एक ग्लास लस्सी पियें।

औरत को गरम करने के लिए भोजन में शामिल करें कुछ खाद्य पदार्थ

भोजन में लहसुन और प्याज शामिल करें।

लहसुन वाले दूध में भी कामोत्तेजक गुण हैं। 1 कप दूध, ¼ कप पानी, और 1 लहसुन की कली को मिलाएं और उबालें जब तक 1 कप बचे। इसे सोने से पहले नियमित पियें।

1 चम्मच प्याज का रस 1/4 चम्मच ताजा अदरक का रस दिन में दो बार मिला कर लें।

कब्ज़, पेट साफ़ नहीं होना

जब पेट नहीं होता तो लिबिडो कम हो जाता है। पेट में गैस बनती है, दर्द होता है। पाचन की विकृति आ जाती है। कब्ज़ और ठंडापन अक्सर एक साथ देखा जाता है। इसलिए पहले पेट की समस्या दूर करनी चाहिए। पेट साफ़ करने के लिए त्रिफला 1 टीस्पून की मात्रा में रात को सोते समय गर्म पानी के साथ लेना चाहिए। यदि सूखा त्रिफला पाउडर लेने में दिक्कत है तो इसे थोड़े से पानी में भिगो लें और 10 मिनट उबाल कर, पीने लायक तापमान पर ठंडा होने पर पी लें।

ध्यान, प्राणायाम, और व्यायाम

तनाव और मनोवैज्ञानिक समस्याओं से लिबिडो पर सीधे असर होता है। एंग्जायटी, अवसाद, स्ट्रेस आदि के लिए योगाभ्यास और ध्यान से लाभ होता है।

सेक्स का आनंद महिला में सेक्स अंगों से ज्यादा दिमाग से जुड़ा है। मस्तिष्क को औरत के सेक्स में रुचो और चरम में पहुँचने में बहुत अधिक महत्वपूर्ण है। उसके यौन प्रतिक्रिया चक्र के अधिकांश हिस्से उसके दिमाग में उत्पन्न होते है। दिमाग के केमिकल डोपामाइन, नोरेपिनफ्रिन, और सेरोटोनिन स्त्रियों में सेक्स में विशेष भूमिका निभाते हैं। ये रसायन न्यूरोट्रांसमीटर हैं और तंत्रिका तंत्र के माध्यम से मस्तिष्क और शरीर के अन्य भागों के बीच सिग्नल भेजने के लिए जिम्मेदार हैं। डोपामाइन, और नोरेपेनेफ्रिन यौन उत्तेजना में शामिल हैं। हालांकि, सेरोटोनिन यौन अवरोधन में योगदान देता है और सेक्स ड्राइव को कम कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि अगर ये रसायन संतुलन बिगड़ जाता है तो महिला में सेक्स के लिए रुचि कम हो सकती है। अगर डोपामिन और नॉरपिनफ्रिन का स्तर बहुत कम है और / या सेरोटोनिन का स्तर बहुत अधिक है – एक महिला को कम यौन इच्छा हो सकती है। जो महिलायें एंटी डिप्रेसेंट दवाएं लेती है उनमें सेरोटोनिन के लेवल बढ़ जाता है और सेक्स की इच्छा कम हो जाती है।

मानसिक समस्या के लिए योग और ध्यान से अच्छा कुछ नही है।

निम्न योगाभ्यास करने से लो लिबिडो की समस्या में विशेष लाभ होता है:

  • उष्ट्रासन
  • कुक्कुटासन
  • नटराजासन
  • वज्रासन

योग के हर सत्र के बाद करने से मस्तिष्क में जीएबीए GABA levels के स्तर में वृद्धि होती है। गामा-एमिनोब्यूटेरिक एसिड या जीएबीए, एक न्यूरोट्रांसमीटर है जो मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के माध्यम से रासायनिक संदेश भेजता है, और मस्तिष्क कोशिकाओं के बीच संचार को विनियमित करने में शामिल है। गाबा के सामान्य से कम स्तरों में मस्तिष्क में एक प्रकार का पागलपन, अवसाद, चिंता, और नींद संबंधी विकार देखे जाते है।

ध्यान

  • अनुलोम विलोम प्रणायाम
  • कपालभाति प्रणायाम
  • नाड़ीशोधन प्रणायाम
  • योग मुद्रा

मानसिक स्वास्थ्य ठीक करने में त्रिफला, त्रिकटु, जटामांसी, शतावर, ब्राह्मी, द्राक्षा, पेठे, आंवले, हींग और ब्राह्मी का सेवन भी लाभप्रद है। चिंता करना, काम, क्रोध, बहुत अधिक मेहनत करना, खाना नहीं खाना, तीखा, गर्म, भारी भोजन आदि को नहीं करने की सलाह दी जाती है। रात में बहुत देर तक नहीं जागने की भी सलाह दी जाती है। घी, दूध, फल और अन्य पौष्टिक पदार्थ खाने चाहिए। मानसिक रोगों में मेद्य रसायनों का प्रयोग किया जाना चाहिए। शंखपुष्पि के पौधे से निकाला ताजा रस भी अच्छा मेद्य रसायन है और मानसिक विकारों में प्रमुखता से प्रयोग होता है।

Loading...

आहार, जीवन शैली और अन्य सुझाव

  • धूम्रपान, शराब, चाय, कॉफी और पैकेज या संसाधित भोजन से नहीं खाएं।
  • पॉलिश चावल का उपयोग नहीं करें।
  • सलाद, ताजे फल, ड्राई फ्रूट्स मूड अच्छा कर्ण एवाले भोजन का उपयोग बढ़ाएं।
  • पानी अधिक मात्रा में पिएं।
  • जिस चीज में रूचि हो वे करें और खुश रहें।
  • पेट की समस्या, कब्ज़ का इलाज़ करें।
  • अन्य यौन गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करें, न कि सिर्फ संभोग करें।
  • आराम करें और अच्छी तरह से खाएं।
  • कैगल व्यायाम करें।
  • जन्म नियंत्रण जो आप और आपके साथी दोनों के लिए काम करता है का उपयोग करें।
  • योनि के सूखेपन में योनि स्नेहक का प्रयोग करें।
  • संभोग के लिए विभिन्न स्थितियों का प्रयास करें।
  • सेक्स में जल्दबाजी नहीं करें। अधिक समय लें। सुनिश्चित करें कि आप संभोग से पहले उत्तेजित हैं।
  • सेक्स से पहले रिलेक्स करें।
  • सेक्स से पहले मूत्राशय को खाली करें।

यदि आप,

  • सेक्स के साथ एक समस्या से परेशान हैं
  • अपने रिश्ते के बारे में चिंतित हैं
  • यौन संबंध के साथ दर्द या अन्य लक्षण हैं

तो डॉक्टर से संपर्क करें। यदि यौन इच्छा की कमी आपके रिश्ते में एक समस्या बन गई है, तो कारणों और विशिष्ट लक्षणों के आधार उपचार विकल्प देखें। यदि समस्या भावनात्मक है, तो पति से बात करें, ज़रूरत हो तो मनोवैज्ञानिक से मिलें। कम कामेच्छा, शारीरिक समस्या के कारण भी संभव है। अगर संदेह है, स्त्री रोग विशेषज्ञ की राय लें।

Frigidity is a persistent or recurrent deficiency or absence of sexual fantasies and desire for sexual activity causing marked distress or interpersonal difficulty. It is the most common form of female sexual dysfunction, related to sexual arousal, orgasm, pain and desire that interfere with normal sexual function.

Causes

The causes of Frigidity involve a multitude of psychosocial and biologic factors and can be attributed to a complex interplay of these factors.

Imbalance of neurotransmitters, or chemicals in the brain, could be the root cause of persistent and recurrent low sexual desire. Sexaul pleasure requires the complex interaction of multiple neurotransmitters and hormones, both centrally and peripherally.

Psychosocial

Personal and job stress, life-stage stressors, body image self-consciousness, low or fragile self-regulation or self-esteem, depressed mood and anxiety

Self-focused attention, including worries about pleasing her partner, fear of partner rejection, fear of pregnancy and STI, unease related to the inability to reach orgasm

Sexual abuse and emotional neglect in childhood or traumatic experiences during puberty

Biological

Chronic illnesses or existing medical conditions, such as diabetes, depression and cancer

Side effects from certain medications, such as anti-depressants, psychiatrics medications and beta blockers

Fluctuations in hormone levels related to pregnancy and menopause

Painful intercourse due vaginal/pelvic floor conditions, such as vestibulitis, vulvodynia or endometriosis and bladder conditions, such as interstitial cystitis or urinary incontinence

 Treatment

General issues related to improved well-being, such as diet, exercise, stopping possible alcohol and chemical substance abuse, and sleep should be addressed in all women. In addition, there are common treatment options for including psychotherapy and pharmacotherapy.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.