सहदेवी का पौधा की जानकारी और लाभ

सहदेवी के पौधे के आयुर्वेदिक औषधीय गुण, फायदे, नुकसान और प्रयोग की जानकारी। पारम्परिक रूप से इसे जख्म उपचार, अस्थमा, डाइसेंटरी, दस्त आदि में दिया जाता है।

वर्नोनिया सिनेरेआ Vernonia cinerea का हिंदी नाम सहदेवी है। यह एक औषधीय पौधा है तथा औषधीय प्रयोग के लिए पूरे ही पौधे को सुखा आकर इस्तेमाल किया जाता है। यह पौधा एस्टरेसिया फैमिली का है और 12-75 सेमी ऊंचा हो सकता है। यह पूरे भारत में 1800 मीटर की ऊंचाई तक पाया जाता है।

Loading...

सहदेवी, सहदेई, सहदेइया, सेदरडी। कुकसीम, झुरझुरी, वरन गोथा, आदि इसके कई अन्य नाम है। यह वनस्पति बारिश के बाद से ही अपने आप उगती है और अक्सर सड़कों के किनारे, उपेक्षित जगहों पर देखे जा सकते हैं। इसमें मौजूद विभिन्न घटक जैसे sesquiterpenes, लैक्टोन, पेंटैक्लेक्लिक, ट्राइटरपेन, अल्कोहल, तथा alkaloids इसे औषधीय गुण देते हैं।

सहदेवी एक खा सकने योग्य पौधा है और इसका दवा की मात्रा में सेवन कोई नुक्सान नहीं करता। आयुर्वेद में इसे स्वभाव से गर्म, कटुरस, और पचने में आसान और शरीर में ड्राईनेस करने वाला माना गया है। इसके प्रयोग से सूजन कम होती है, दर्द में राहत होती है, कृमि नष्ट होते हैं, पथरी की समस्या में लाभ होता है और पेशाब खुल के आता है। यह त्वचा के रोगों में भी इस्तेमाल की जाती है यह पसीना लाने वाली कुष्ठनाशक दवा है। पारम्परिक रूप से इसे जख्म उपचार, अस्थमा, डाइसेंटरी, दस्त आदि में दिया जाता है। इसका प्रयोग कैंसर, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकार, त्वचा विकारों और गर्भपात के इलाज के लिए किया जाता है।

सहदेवी हर्ब के आयुर्वेदिक गुण | Ayurvedic Properties of Sahdevi in Hindi

  • रस (taste on tongue): तिक्त / कड़वा
  • गुण (Pharmacological Action): लघु, रुक्ष
  • वीर्य (Potency): उष्ण
  • विपाक (transformed state after digestion): कटु
  • कर्म: शोथहर, ज्वरहर, नींद लाने वाला
  • दोष पर असर: कफ और वात शामक

सहदेवी वर्नोनिया सिनेरेआ का विवरण

वर्नोनिया सिनेरेरा एल (एस्ट्रेसे) वार्षिक जड़ी बूटी है, जिसे संस्कृत में सहदेवी के रूप में जाना जाता है, अंग्रेजी में बैंगनी फ्लेबेन, तेलुगु में गृता काम्मी। यह एंटीबैक्टीरियल एनाल्जेसिक, एंटीप्रेट्रिक, एंटी-इंफ्लैमेटरी सहित बहुत से अन्य फार्माकोलॉजिकल इफेक्ट्स से युक्त जड़ी बूटी है। इसमें हाइपोग्लाइकेमिक और एंटी-डाइबेटिक गतिविधिभी है। इसमें एंटीकैंसरस गतिविधियां हैं और कैंसर संबंधी विकृतियों के लिए अच्छा है।

Loading...

सहदेवी के पौधे 12-75 सेमी ऊंचाई तक के होते हैं तथा यह एकदम सीधे बढ़ते है। यह एक बेलनाकार, चमकदार, थोड़ा ब्रांडेड स्टेम 10-17 सेमी लंबा, 1-8 मिमी मोटी के साथ होते हैं। इसकी पत्तियां सरल, लेंसोलेट, 2।5-5 सेमी लंबी और 1।8-3।6 सेमी चौड़ी होती हैं। फूल गुलाबी रंग के बैंगनी होते हैं।

  • जड़ – 5-12 सेमी लंबी, 1-7 मिमी मोटी, तिरछी और फिर पतली; बाहरी सतह का रंग भूरा।
  • स्टेम – चमकदार, बेलनाकार, बालों वाली, थोड़ा ब्रंच; 10-17 सेमी लंबा, 1-8 मिमी मोटी,
  • और ribbed; शाखाओं के बेसल क्षेत्र हरे-भूरे, अपरिपक्व क्षेत्र गहरे हरे, शाखाओं पर कई फूल ।
  • पत्ता – सरल, गहरा हरा, चिकना, विपरीत, exstipulate, 2।5-5 सेमी लंबा,
  • 1।8-3।6 सेमी व्यापक, अंडाकार, लेंसोलेट, घुमावदार या तीव्रता से दांत; आकृति और माप
  • चर; पेटीओल छोटा; गंध, थोड़ा विशेषता

वर्नोनिया सिनेरेआ के स्थानीय नाम

  • Sanskrit: Uttamkanyaka, Dandototpala
  • Assamese: Schdevi
  • Bengali: Kuksim
  • English: Purple Fleabane, Fleabane
  • Gujrati: Sadoree, Sadodee
  • Hindi: Sahadevi
  • Kannada: Sahadevee, Okarchendhi
  • Malayalam: Poovan Kuruntala, Mukkuthaipo
  • Marathi: Sadodee, Sahdevee
  • Punjabi: Sehdei
  • Tamil: Naichotte Poonde
  • Telugu: Garita Kammi, Sehadevi

वर्नोनिया सिनेरेआ वर्गीकरण

  • किंगडम: प्लांटे
  • क्लास : मैग्नोलिओप्सीडा Magnoliopsida – द्विबीजपत्री
  • सबक्लास: एस्टीरिडेएइ Asteridae
  • आर्डर: ऐस्टेरेल्स Asterales
  • परिवार : ऐस्टेरेसिएई Asteraceae ⁄ Compositae – Aster family
  • जीनस: वर्नोनिया
  • प्रजाति Species:वर्नोनिया सिनेरेआ

मुख्य संघटक

सैपोनिन्स, सैपोजेन, फ्लैवोनॉयड्स।

सहदेवी वर्नोनिया सिनेरेआ का उपयोग

सहदेवी के पौधे में जीवाणुरोधी, एंटीमाइक्रोबायल, एंथेलमिंटिक, एंटीट्यूमर, एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-हाइपरग्लिसिमिक प्रभाव पाए जाते है।

सहदेवी का उपयोग निम्न में किया जाता है:

  • बुखार
  • विषम ज्वर
  • विस्फोट
  • भूत बाधा
  • ग्रह बाधा
  • प्रदर
  • श्लीपद
  • शुक्रकर
  • निद्राजनन
  • नाक से खून गिरना

सहदेवी के प्रयोग का तरीका

अपच से बुखार

सहदेवी की जड़ और तने से तैयार ठंडे जलसेक को 50-60 मिलीलीटर की खुराक में दिया जाता है।

अनिद्रा

सहदेवी की जड़ से तैयार पेस्ट सिर पर लगाते है।

घाव, स्थानीय सूजन

पत्तियों और तने का पेस्ट तैयार किया जाता है और उपचार के रूप में घावों और स्थानीय सूजन पर लगाया जाता है।

पेशाब की जलन, गुर्दे की पथरी

सहदेवी की जड़ और स्टेम से तैयार डेकोक्शन 40-50 मिलीलीटर की खुराक में दिया जाता है।

श्लीपद

सहदेवी की जड़ का पेस्ट प्रभावित क्षेत्र में बाहरी रूप से लागू किया जाता है।

त्वचा रोग

50 मिलीलीटर की खुराक में सहदेवी की जड़ों और पत्तियों से बने काढ़े को दिया जाता है।

आंतों के कीड़े

सहदेवी की जड़ का काढ़ा 30-40 मिलीलीटर की खुराक में दिया जाता है।

बुखार

सहदेवी की पत्तियों से तैयार डेकोक्शन 40-50 मिलीलीटर की खुराक में दिया जाता है।

सहदेवी कैसे दवा की तरह प्रयोग करते हैं और खुराक

10-20 मिलीलीटर पौधे का रस।

5-10 ग्राम (केवल बाहरी उपयोग के लिए पाउडर)।

वास्तु में सहदेवी

  • सहदेई का पौधा घर में होना शुभ माना जाता है।
  • सहदेवी को बहुत से लोग टोटके में भी इस्तेमाल करते हैं।
  • जिसे स्त्री के बच्चा नहीं हो रहा उसे सहदेवी की जड़ का पाउडर 1 ग्राम की मात्रा में गाय के घी के साथ देते हैं।
  • सहदेवी की जड़ को अच्छे मुहूर्त में निकाल कर भुजा पर बाँधने से जातक की जीत होती है।
  • बुखार में इसकी जड़ को बाल में बांधते हैं।
  • कमरे में सहदेवी का पौधा रखने से नींद अच्छी आती है।

सहदेवी प्लांट के नुकसान

सहदेवी जड़ी बूटी की सामान्य खुराक से कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं देखा जाता है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.