टेंटेक्स फोर्ट Tentex forte Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

टेन्टेक्स फोर्ट पुरुषों की यौन कमजोरी को दूर करने और सेक्स समबंधित दिक्कतों के इलाज़ में प्रयोग की जाती है। हिमालय टेन्टेक्स फोर्ट में सभी प्राकृतिक तत्व होते हैं और यह एक गैर हार्मोनल सेक्स उत्तेजक है।

टेंटेक्स फोर्ट Tentex forte in Hindi, हिमालय ड्रग कंपनी द्वारा निर्मित कामोद्दीपक आयुर्वेदिक दवाई है। यह पुरुषों की यौन कमजोरी को दूर करने और सेक्स समबंधित दिक्कतों के इलाज़ में प्रयोग की जाती है।

टेंटेक्स फोर्ट, पुरुषों में कामेच्छा उत्तेजक के रूप में काम करता है और समग्र प्रदर्शन में सुधार करता है। पूरी तरह से स्वस्थ पुरुषों में साइकोपैथिक कारणों से फंक्शनल इम्पोटेंसी हो सकती है। ऐसे व्यक्ति कम यौन इच्छा, इरेक्शन में परेशानी, कमज़ोर इरेक्शन, नपुंसकता की शिकायत करते हैं।

हिमालय टेन्टेक्स फोर्ट में सभी प्राकृतिक तत्व हैं और यह एक गैर हार्मोनल सेक्स उत्तेजक है। इसके सेवन से यौन शक्ति सुधरती है। यह भावनात्मक तनाव को कम करने में लाभकारी है। इसके सेवन से शरीर में टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ जाता है। इस दवा में एंटीऑक्सिडेंट, एंटीस्ट्रेस, एडप्टोजन, और बल बढ़ाने के गुण हैं। यह टॉनिक और कामोद्दीपक है। यह पेनाइल ऊतक को मजबूत करता है जिससे इरेक्शन मजबूत होता है। यह सभी कारक अच्छे इरेक्शन को पाने और उसे बनाए रखने में मदद करते हैं। यह रोज़ के तनाव के कारण से होने वाली पुरुषों में यौन निष्क्रियता / इरेक्टाइल डिसफंक्शन को दूर करने में लाभप्रद है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन, का मतलब है इरेक्शन को प्राप्त करने की क्षमता नहीं होना। इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी), यौन गतिविधियों से संबंधित सबसे प्रमुख शिकायतों में से एक है। स्तंभन दोष या नपुंसकता या इरेक्टाइल डिसफंक्शन, होने पर संभोग के दौरान शिश्न के उत्तेजित होने या उसे बनाए रख सकने में दिक्कत होती है। यह अनुमान लगाया गया है कि 40 और 70 की उम्र के बीच के सभी आधे पुरुषों में यह समस्या कुछ हद तक पायी जाती है। इरेक्टाइल डिसफंक्शन, मनोवैज्ञानिक कारकों के कारण हो सकता है, जैसेकि प्रदर्शन की विफलता के डर के रूप में। हालांकि मनोवैज्ञानिक कारण इरेक्शन नहीं होने की समस्या का एक मुख्य कारण है लेकिन इस रोग की उत्पत्ति और विकास में कई शारीरिक कारण vascular pathology, and neurological, hormonal and drug-related factors हो सकते हैं।

ईडी के लिए उपचार कार्यक्रम आमतौर पर निम्नलिखित शामिल होते हैं:-

  • मनोचिकित्सा
  • पति-पत्नी में बात-चीत
  • दवाएं जैसे लगाने की दवा और खाने की कामोत्तेजक दवा

फंक्शनल इम्पोटेंस रोग के उपचार में टेंटेक्स फोर्ट और हिमकोलिन क्रीम का इस्तेमाल किया जा सकता है। टेंटेक्स फोर्ट और हिमकोलिन क्रीम से इरेक्शन की आवृत्ति, गुणवत्ता में सुधार किया जा सकता है। यह दवा उन पुरुषों के लिए फायदा कर सकती है जिनमें नोक्टरनल इरेक्शन होता हो, सेक्सुअल इंटरकोर्स करने लायक इरेक्शन दो सप्ताह पहले तक हुआ है, हस्तमैथुन या विजुअल सेक्स स्टीमुलेशन से इरेक्शन होता हो।

Loading...

यदि प्रजनन अंगों सम्बन्धी शारीरिक विकृतियां हैं, रेडिकल प्रोस्टेटैक्टोमी (पूरे प्रोस्टेट ग्रंथि को हटाना), रीढ़ की हड्डी की चोट, अस्थिर एनजाइना पेक्टोरिस और मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन है तो इसे नहीं लें। उच्च रक्तचाप या खराब मधुमेह, हार्मोनल उपचार, एंटीडिप्रेसेंट के साथ उपचार प्राप्त करने वाले मरीजों,एंटीसाइकोटिक या अन्य साइकोएक्टिव ड्रग्स, या मानसिक लक्षण वाले व्यक्ति को भी इससे अधिक लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

दवा के बारे में इस पेज पर जो जानकारी दी गई है वह इसमें प्रयुक्त जड़ी-बूटियों के आधार पर है। हम इस प्रोडक्ट को एंडोर्स नहीं कर रहे। यह दवा का प्रचार नहीं है। हमारा यह भी दावा नहीं है कि यह आपके रोग को एकदम ठीक कर देगी। यह आपके लिए फायदेमंद हो भी सकती हैं और नहीं भी। दवा के फोर्मुलेशन के आधार और यह मानते हुए की इसमें यह सभी द्रव्य उत्तम क्वालिटी के हैं, इसके लाभ बताये गए हैं। मार्किट में इसी तरह के फोर्मुले की अन्य फार्मसियों द्वारा निर्मित दवाएं उपलब्ध हैं। इस पेज पर जो जानकारी दी गई है उसका उद्देश्य इस दवा के बारे में बताना है। कृपया इसका प्रयोग स्वयं उपचार करने के लिए न करें। हमारा उद्देश्य दवा के लेबल के अनुसार आपको जानकारी देना है।

loading...

Tentex forte (Himalaya) is Ayurvedic medicine. It has aphrodisiac, nutritive and tonic. It can be helpful in funtional impotence. Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

  • दवा का नाम: टेंटेक्स फोर्ट Tentex forte
  • निर्माता: हिमालया हर्बल ड्रग कंपनी
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: हर्बल
  • मुख्य उपयोग: वाजीकरण
  • मुख्य गुण: टॉनिक और कामोद्दीपक
  • मूल्य MRP: Himalaya Tentex Forte 10 tablets @ MRP ₹ 120.00

टेंटेक्स फोर्ट के घटक Ingredients of Tentex forte

Each टेन्टेक्स फोर्ट tablet contains:

एक्सट्रेक्ट Exts

कस्तुरिलतिका (Hibiscus abelmoschus) 10mg

पाउडर Pdrs

  • अश्वगंधा (Withania somnifera) 81mg
  • वृद्धदारु (Argyreia speciosa) 32mg
  • कपिकच्छु (Mucuna pruriens) 32mg
  • त्रिवंग भस्म 32mg
  • शिलाजीत 32mg
  • कुमकुम (Crocus sativus) 25mg
  • कुपिलु (Strychnos nuxvomica) 16mg
  • मकरध्वज 16mg
  • अकरकरा (Anacyclus pyrethrum) 16mg
  • बला (Sida cordifolia) 16mg
  • शाल्मली (Bombax malabaricum) 16mg
  • मरीचा (Piper nigrum) 5mg

Processed in

बला (Sida cordifolia), शतावरी (Asparagus racemosus), विदारी (Ipomoea digitata), नागवल्ली (Piper betle), अश्वगंधा (Withania somnifera), गोक्षुर (Tribulus terrestris), गुडुची (Tinospora cordifolia), वृद्धदारु (Argyreia speciosa), खदिरा (Acacia arabica), और दशमूल

जाने दवा के प्रमुख द्रव्यों को

मकरध्वज

मकरध्वज, पारे पर आधारित आयुर्वेदिक सूत्रीकरण है। सिद्ध मकरध्वज एक लोकप्रिय कुपिपक्व रसायन है जिसमें स्वर्ण, पारा और सल्फर विशिष्ट अनुपात में (1: 8: 24) में हैं।

मकरध्वज (Makardhwaj) नपुंसकता, शीघ्रपतन, स्तंभन दोष, इरेक्टाइल डिसफंक्शन और अन्य स्थितियों के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है। यह एक इनोर्गानिक पदार्थ है तथा सल्फाइड ऑफ़ मरकरी और गोल्ड का कॉम्बिनेशन है। मकरध्वज को सोने, पारद और गंधक को एक निश्चित अनुपात में, आयुर्वेद में बताये गए तरीकों से बनाया जाता है। मकरध्वज का सेवन शरीर, दिल, और दिमाग को ताकत देता है।

अध्ययन सुझाव देते है कि सिद्ध मकरध्वज खुराक का 28 दिनों तक मानव खुराक में सेवन करने से सेरिब्रम, जिगर और गुर्दे पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं होता। लेकिन, हल्के उच्च खुराक पर हिस्टोपैथोलॉजिकल परिवर्तन देखा जाता है। अधिक मात्रा में मकरध्वज का सेवन अंगों पर बुरा असर दाल सकता है।

त्रिवंग भस्म

त्रिवंग भस्म में शुद्ध वंग, शुद्ध नाग और शुद्ध यशद है। यह प्रमेह, मूत्रपिण्ड या मूत्रवाहिनी नली श्वेत प्रदर, दर्द, मधुमेह, यकृत विकार, प्लीहा विकारों, त्वचा संबंधी विकार, सर्दी आदि से संबंधित रोगों में यह उत्तम लाभ करती है।

जिंक या जस्ता (यशद) मनुष्यों के लिए केवल आवश्यक तत्व है। यह 300 से अधिक एंजाइमों का एक घटक है। जिंक की ज़रूरत न्यूक्लिक एसिड और प्रोटीन चयापचय, साथ ही सेल की वृद्धि, विभाजन और कार्य, आदि में भी होती है। मानव शरीर में 2-3 ग्राम जस्ता होता है, और मांसपेशियों और हड्डी में करीब 90% पाया जाता है। जिन की अधिक सांद्रता वाले अंगों में प्रोस्टेट, लीवर, जठरांत्र संबंधी मार्ग, गुर्दे, त्वचा, फेफड़े, मस्तिष्क, हृदय, और अग्न्याशय शामिल हैं। जस्ता की पर्याप्त उपलब्धता प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए विशेष महत्व है। जस्ता neurodegenerative रोगों में भी शामिल है, उदाहरण के लिए, जस्ता और एक deregulated जस्ता होमोस्टैसिस अल्जाइमर रोग की शुरुआत और प्रगति के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है।

जस्ते की कमी से ऑलिगोस्पर्मिया, पुरुषों में विकास मंदता, हाइपोगोनैडिजम, त्वचा की असामान्यताएं और मानसिक अशक्तता हो सकती है।

वंग या बंग भस्म, स्टेनम या टिन की भस्म है। इसे आयुर्वेद में हल्का, दस्तावर, रूखा, गर्म, पित्तकारक माना गया है। इसे मुख्य रूप से प्रमेह, कफ, कृमि, पांडू, श्वास रोगों में प्रयोग किया जाता है। शुद्ध वांग को सम्पूर्ण प्राकर के प्रमेहों को नष्ट करने वाला कहा गया है। बंग भस्म का सेवन शरीर को बल देता है, इन्द्रियों को शक्ति देता है और पुरुषों के सभी अंगों को ताकत से भरता है तथा पुरुष होर्मोन का भी अधिक स्राव कराता है। यह मुख्य रूप से प्रजनन अंगों के लिए ही उपयोगी है। बंग भस्म वाजीकारक भी है।

अनिवार्य ट्रेस तत्व होने से, जीवित रहने के लिए छोटी मात्रा में जिंक का सेवन आवश्यक होती है। जस्ता के लिए अनुशंसित आहार भत्ता (आरडीए) पुरुषों के लिए 11 मिलीग्राम / दिन और महिलाओं के लिए 8 मिलीग्राम / दिन है।

अधिक मात्रा में जिंक लेने के तुरंत बाद पेट में दर्द, मतली और उल्टी होती है। अतिरिक्त प्रभावों में सुस्ती, एनीमिया और चक्कर आना शामिल हैं। लम्बे समय तक जिंक लेने से शरीर में कॉपर की कमी होती है। कॉपर की कमी से लोहे की कमी या अनीमिया होता है। तांबे की कमी से एनीमिया, विकसित होता है, क्योंकि यह लोहे के परिवहन और उपयोग के कई एंजाइमों के लिए आवश्यक है।

लम्बे समय तक जिंक का सप्लीमेंट नहीं लेना चाहिए। उच्च खुराक और दीर्घकालिक जिंक पूरक लेने से प्रोस्टेट कैंसर जोखिम बढ़ सकता है।

टिन खनिज शरीर में छोटी मात्रा में पाया जाता है और माना जाता है कि हमारे समग्र स्वास्थ्य और शारीरिक प्रक्रियाओं में भाग लेता है। टिन मानव के ऊतकों में और सुप्रा-गुर्दे ग्रंथियों, जिगर, मस्तिष्क, तिल्ली, और थायरॉइड ग्रंथि में सबसे बड़ी मात्रा में पाए जाते हैं । ताजे भोजन में पाए जाने वाले मात्रा में मिट्टी में पाए जाने वाले टिन की मात्रा के सापेक्ष है जहां भोजन उगाया जाता है।

टिन का अवसाद, थकान, दर्द, त्वचा की समस्याओं और पाचन के लिए कुछ सकारात्मक लाभ दिखता है। शरीर में टिन की औसत सांद्रता कोबाल्ट, आयोडीन, क्रोमियम, और सेलेनियम के समान श्रेणी है, जो महत्वपूर्ण पोषक तत्वों के नाम से जाना जाता है।

टिन एड्रेनल और थायरॉयड का समर्थन करता है, कार्डियक आउटपुट को प्रभावित करता है। टिन की कमी से बालों का गिरना, अवसाद, थकान, साँस लेने में कठिनाई हो सकती है या अस्थमा हो सकता है।

शिलाजीत

शिलाजीत पहाड़ों से प्राप्त, सफेद-भूरा मोटा, चिपचिपा राल जैसा पदार्थ है (संस्कृत शिलाजतु) जिसमे सूजन कम करने, दर्द दूर करने, अवसाद दूर करने, टॉनिक के, और एंटी-ऐजिंग गुण होते हैं। इसमें कम से कम 85 खनिजों पाए जाते है। शिलाजीत एक टॉनिक है जो पुरुषों में यौन विकारों के उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाता है। शिलाजीत रस में अम्लीय और कसैला, कटु विपाक और समशीतोष्ण (न अधिक गर्म न अधिक ठंडा) है।

  • ऐसा माना जाता है, संसार में रस-धातु विकृति से उत्पन्न होने वाला कोई भी रोग इसके सेवन से दूर हो जाता है। शिलाजीत शरीर को निरोगी और मज़बूत करता है।
  • यह पुरुषों के प्रमेह की अत्यंत उत्तम दवा है।
  • यह वाजीकारक है और इसके सेवन से शरीर में बल-ताकत की वृद्धि होती है।
  • यह पुराने रोगों, मेदवृद्धि, प्रमेह, मधुमेह, गठिया, कमर दर्द, कम्पवात, जोड़ो का दर्द, सूजन, सर्दी, खांसी, धातु रोग, रोगप्रतिरोधक क्षमता की कमी आदि सभी में लाभप्रद है।
  • यह शरीर में ताकत को बढाता है तथा थकान और कमजोरी को दूर करता है।
  • यह यौन शक्ति की कमी को दूर करता है।
  • यह भूख को बढाता है।
  • यह पुरुषों में नपुंसकता, शीघ्रपतन premature ejaculation, कम शुक्राणु low sperm count, स्तंभन erectile dysfunction में उपयोगी है।
  • यह शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने में मदद करता है।
  • शिलाजीत के सेवन के दौरान, आहार में दूध की प्रधानता रहनी चाहिए।

केवांच

कौंच या केवांच बीज Mucuna pruriens की गिरी है। केवांच की गिरी बहुत ही प्रभावशाली हर्बल दवा है तथा इसे हजारों वर्षों से पुरुष प्रजनन क्षमता में सुधार करने के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। यह हाइपोथेलेमस पर काम करता है। इसके सेवन से सीरम टेस्टोस्टेरोन, लुटीनाइज़िंग luteinizing हार्मोन, डोपामाइन, एड्रेनालाईन, आदि में सुधार होता है। यह शुक्राणुओं की संख्या और गतिशीलता में भी उचित सुधार करने वाली नेचुरल दवा है। मानसिक तनाव, नसों की कमजोरी, टेस्टोस्टेरोन के कम लेवल आदि में इसके सेवन से बहुत लाभ होता है।

अश्वगंधा

अश्वगंधा जड़ में कई एल्कलॉइड होते हैं जैसे की, विथानिन, विथानानाइन, सोमनाइन, सोम्निफ़ेरिन आदि। जड़ में फ्री अमीनो एसिड में जैसे की एस्पार्टिक अम्ल, ग्लाइसिन, टाइरोसीन शामिल एलनाइन, प्रोलाइन, ट्रीप्टोफन ,ग्लूटामिक एसिड और सीस्टीन aspartic acid, glycine, tyrosine, alanine, proline, tryptophan, glutamic acid and cysteine आदि भी पाए जाते हैं। विथानिन में शामक और नींद दिलाने वाला गुण है sedative and hypnotic। विथफेरिन एक अर्बुदरोधी antitumor, एंटीऑर्थरिटिक anti-arthritic और जीवाणुरोधी antibacterial है। अश्वगंधा स्वाद में कसैला-कड़वा और मीठा होता है। तासीर में यह गर्म hot in potency है। इसका सेवन वात और कफ को कम करता है लेकिन बहुत अधिक मात्रा में सेवन शरीर में पित्त और आम को बढ़ा सकता है। यह मुख्य रूप से मांसपेशियों muscles, वसा, अस्थि, मज्जा/नसों, प्रजनन अंगों reproductive organ, लेकिन पूरे शरीर पर काम करता है। यह मेधावर्धक, धातुवर्धक, स्मृतिवर्धक, और कामोद्दीपक है। यह बुढ़ापे को दूर करने वाली औषधि है।

अश्वगंधा (Withania somnifera) की जड़ें को इंडियन जिन्सेंग के नाम से भी जाना जाता है। यह पुरुष प्रजनन अंगों पर विशेष प्रभाव डालती है तथा यौन शक्ति बढ़ाने के लिए प्रयोग की जाती है। यह वीर्य की मात्रा और गुणवत्ता को बढ़ाने में भी मदद करती है। अश्वगंधा आयुर्वेद में टॉनिक, कामोद्दीपक, वजन बढ़ाने के लिए और शरीर की प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए increases weight and improves immunity प्रयोग की जाती है। अश्वगंधा तंत्रिका कमजोरी, बेहोशी, चक्कर और अनिद्रा nervous weakness, fainting, giddiness and insomnia तथा अन्य मानसिक विकारों की भी अच्छी दवा है।

कर्म Principle Action of टेंटेक्स फोर्ट

  • बाजीकरण: द्रव्य जो रति शक्ति में वृद्धि करे।
  • रसायन: द्रव्य जो शरीर की बीमारियों से रक्षा करे और वृद्धवस्था को दूर रखे
  • वृष्य: द्रव्य जो बलकारक, वाजीकारक, वीर्य वर्धक हो।
  • शुक्रकर: द्रव्य जो शुक्र का पोषण करे।
  • शोथहर: द्रव्य जो शोथ / शरीर में सूजन, को दूर करे।

टेंटेक्स फोर्ट के लाभ/फ़ायदे Benefits of Tentex forte

इसके सेवन पुरुषों में कामेच्छा में सुधार होता है।

टेंटेक्स फोर्ट, हाइपोथेलेमस या लिम्बिक प्रणाली को प्रभावित करती है जोकि भावनात्मक और यौन केंद्रों से संबंधित हैं। परिणाम बताते हैं कि टेन्टेक्स फोर्ट को यौन रोगों के विभिन्न रूपों में सुरक्षित रूप से अनुशंसित किया जा सकता है जैसे कि कम कामेच्छा, नसों की दुर्बलता, असमय स्खलन आदि।

  • यह इरेक्टाइल डिसफंक्शन और एनेक्ज़ाइटी को दूर करता है।
  • यह उन प्राकृतिक हर्बल घटकों से तैयार है जिन्हें हजारों सालों से यौन रोग और प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाता रहा है।
  • यह टॉनिक और कामोद्दीपक है, जो यौन इच्छा, ड्राइव और प्रदर्शन को बढ़ाते हैं।
  • यह तनाव को कम करता है।
  • यह दवा दिमाग के लोअर सेक्स सेंटर को उत्तेजित कर सकती है।
  • यह यौन इच्छा और प्रदर्शन में सुधार लाता है।
  • यह शरीर में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाता है।
  • यह स्तंभन दोष या नपुंसकता (erectile dysfunction) की समस्या में लाभप्रद हो सकता है।

टेंटेक्स फोर्ट के चिकित्सीय उपयोग Uses of Tentex forte

आयुर्वेद की मुख्य 8 शाखाएं हैं, इनमें से वाज़ीकरण यौन-क्रियायों की विद्या तथा प्रजनन Sexology and reproductive medicine चिकित्सा से सम्बंधित है। वाज़ीकरण के लिए उत्तम वाजीकारक वनस्पतियाँ और खनिजों का प्रयोग किया जाता है जो की सम्पूर्ण स्वास्थ्य को सही करती हैं और जननांगों पर विशेष प्रभाव डालती है। आयुर्वेद में प्रयोग किये जाने वाले उत्तम वाजीकरण द्रव्यों में शामिल है, अश्वगंधा, गोखरू, केवांच, शिलाजीत, आदि। यह द्रव्य कामोत्तेजक है, स्नायु, मांसपेशियों की दुर्बलता, को दूर करने वाले है तथा धातु वर्धक, वीर्यवर्धक, शक्तिवर्धक तथा बलवर्धक हैं।

loading...
  • अफीम से इरेक्शन प्रॉब्लम
  • अल्पभावनात्मक तनाव और चिंता
  • इरेक्टाइल डिसफंक्शन Erectile dysfunction
  • कम कामेच्छा Low libido
  • गांजा के कारण इरेक्शन समस्या
  • नसों की कमजोरी sexual neurasthenia
  • प्रदर्शन की चिंता Performance anxiety
  • मर्दाना कमजोरी
  • यौन कमजोरी Sexual weakness
  • शराब के कारण इरेक्शन नहीं होना
  • सेक्स में आनंद की कमी unsatisfactory sexual performance

सेवन विधि और मात्रा Dosage of Tentex forte

  • 30-45 दिनों तक 2 गोली, एक टैबलेट शाम को और एक सोने से पहले लें।
  • ज़रूरत पड़ने पर दवा के कोर्स को फिर से रिपीट करें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

टेंटेक्स फोर्ट के इस्तेमाल में सावधनियाँ Cautions

  • इसका इस्तेमाल चिकित्सक की सलाह के आधार पर 1 से 2 महीने तक किया जा सकता है।
  • इसे 18 वर्ष से कम, उच्च रक्तचाप, क्रोनिक किडनी रोग, गंभीर यकृत रोग, हृदय रोग, दिल की विफलता, महिलाओं द्वारा नहीं लिया जाना चाहिए।
  • इस औषधि को केवल विशिष्ट समय अवधि के लिए निर्धारित खुराक में लें।
  • इसे ज्यादा मात्रा में न लें।
  • यह हमेशा ध्यान रखें की जिन दवाओं में पारद, गंधक, खनिज आदि होते हैं, उन दवाओं का सेवन लम्बे समय तक नहीं किया जाता। इसके अतिरिक्त इन्हें डॉक्टर के देख-रेख में बताई गई मात्रा और उपचार की अवधि तक ही लेना चाहिए।

टेंटेक्स फोर्ट के साइड-इफेक्ट्स Side effects

  • निर्धारित खुराक में लेने से दवा का कोई दुष्प्रभाव नहीं है।
  • इसे लेने से वजन बढ़ सकता है।
  • इसमें मकरध्वज और त्रिवंग है।
  • मकरध्वज (Makardhwaj) नपुंसकता, शीघ्रपतन, स्तंभन दोष, इरेक्टाइल डिसफंक्शन और अन्य स्थितियों के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है। यह एक इनोर्गानिक पदार्थ है तथा सल्फाइड ऑफ़ मरकरी और गोल्ड का कॉम्बिनेशन है।
  • जिंक, टिन, शुद्ध पारद, शुद्ध गंधक आदि का लम्बे समय तक सेवन विषाक्तता का कारण हो सकता है यदि लंबे समय तक उपयोग किया जाता है जो किडनी और लीवर पर बुरा असर हो सकता है। इसलिए मेटल और मिनरल युक्त दवाओं को कम समय तक ही लेना चाहिए और कभी भी ओवरडोज़ नहीं करना चाहिए।

टेंटेक्स फोर्ट को कब प्रयोग न करें Contraindications

  • यदि दवा से किसी भी तरह का एलर्जिक रिएक्शन हों तो इसका इस्तेमाल नहीं करें।
  • किडनी, लीवर, हृदय या किसी अन्य अंग का कोई रोग है तो पहले डॉक्टर से परामर्श करें।

भंडारण निर्देश

  • सूखी जगह में स्टोर करें।
  • इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें।
loading...
Loading...

26 thoughts on “टेंटेक्स फोर्ट Tentex forte Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

  1. Mem ap ilaaj. Tho batao koi plz sigraptaan ka. Kyaa. Ye bimaari thik. Ho Sakti haai yaa naahi. Meri age 25 yr haai or meraa virya bhi bahut patla haai or meri. 6 th manth baad shaadi hone baali haai plz. Reply

    • ji shighra patan koi bimari nahi hoti hai, susu suru men aisa hota hai overexcitement ki wajah se. aap bas lage rahiye aur thoda apane dimag par kaaboo karana sikhiye.

    • Ten tex forte lenese sex kami ki samsya khatam ho jayegi esekaise lena h

  2. Hy mem meri age 25 yr hai or mene 16 sal ki age SE hasthmethun start kr diyaa aabhi meri shaadi naahi hui hai of jab bhi me. Aapni gf SE sex. Karta. Hu tho me aadhe minit me hee discharge. Ho jaataa hu koi uchit upaay baataye plz nex year meri shaadi hone baali haai

  3. Sir muje sigerpatan ki smasya hai ye kafi purani hai
    Or mai married Hu mai tentex fort tab Le rha Hu
    Kya ye shi hai or muje kitni der tek leni chahiye jis Se
    Meri smasya door ho ske
    Kirpya answer de

  4. Sir muje sigerpatan ki problem hai
    Meri umar 28 ki hai mai married Hu
    Kirpya smadan btaye ye problem kafi samay
    Se chal rhi hai iska ilaz btaye

  5. I am facing the problems of erectile dysfunction problem since last six month. Kindly suggest proper medicine to cure this problem without side effects.

  6. Respected sir.,l am 30 yrs old,
    Mujhe sigrapatan,comlete erectile ki problem h, aur mera pet fulna thik se pet saaf na hona ,kabhi bhuk tej hoti h,kabhi iksha nhi hoti,thakaan,kamjori hamesha rehti h,kirpaya medicine bataye!!

  7. I m 23 year old. Mujhe shighraptan ki problam h ……mai tentex forte le raha hu …..ye medicine sahi h ya nhi …..plz help me

  8. Sir,
    My problem is ..nill shukranu
    Plz talk to me true medicine..
    I am married 6year
    & no child …..i m very sad ..(but belong poor family in village…….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.