Panchatikta Ghrita(पंचतिक्त घृत) Details and Uses in Hindi

Panchatikta Ghrita is a polyherbal Ayurvedic formulation. This medicine is useful in skin diseases and variety of diseases.

Loading...

Here information is given about complete list of ingredients, properties, uses and dosage of this medicine in Hindi language.

पंचतिक्त घृत एक आयुर्वेदिक दवा है। यह दवा, पांच तिक्त/कडवी वनस्पतियों, घी और त्रिफला से तैयार की जाती है। ये पांच कडवी वनस्पतियों हैं: नीम, पटोल, कंटकारी, वासा, और गिलोय। पंचतिक्त घृत वात, पित्त और कफ को संतुलित करता है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है। यह दवा त्वचा रोगों के इलाज के लिए विशेष रूप से उपयोगी है।

नीचे इस दवा के घटक, गुण, सेवनविधि, और मात्रा के बारे में जानकारी दी गयी है.

घटक Ingredients

1. Nimba

नीम

Stem Bark

480 g

2. Patola

पटोल

Plant

480 g

3. Vyaghri Kantakari

कंटकारी

Plant

480 g

4. Guduchi 

गिलोय

Stem

480 g

5. Vasaka Vasa

वासा

Root

480 g

6. Water

पानी काढ़ा बनाने के लिए

for decoction

12.288 l reduced to 3.072 l

7. Haritaki

हर्रे

Pericarp

128 g

8. Bibhitaka

बहेड़ा

Pericarp

128 g

9. Amalaki

आवंला

Pericarp

128 g

10. Ghrita

गो घृत

Goghrita

768 g

मुख्य गुणधर्म और उपयोग Qualities and therapeutic uses

फायदे Benefits of Panchatikta Ghrita

  • शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करता है
  • त्वचा रोगों और घावों के इलाज में मददगार
  • वात, पित्त और कफ की ख़राबी की वजह से होने वाली बीमारियों के इलाज में कारगर

चिकित्सीय उपयोग

  • दुष्ट व्रण (न-ठीक होने वाले अल्सर) Non-healing ulcer
  • कुष्ठ (त्वचा के रोग), एक्जिमा Eczema
  • वात व्याधि (रोग के कारण वात दोष करने के लिए)
  • पित्त व्याधि (पित्त दोष का रोग)
  • कफ व्याधि (कफ दोष की ख़राबी के विकार)
  • कृमी Helminthiasis/Worm infestation)
  • अर्श (बवासीर) piles
  • कास (खांसी) Cough

सेवनविधि और मात्रा How to take and dosage

3-6 grams, दिन में दो बार, खाली पेट मिश्री के साथ चाट कर ऊपर से गाय का दूध पियें।

loading...

Where to buy

आप इस दवा को सभी फार्मेसी दुकानों पर या ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*