कर्पूर रस के फायदे, नुकसान और प्राइस

Loading...

कर्पूर रस Karpur Ras Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi, में कपूर, हिंगुल, अफीम आदि होता है तथा यह दवा अतिसार में इस्तेमाल की जाती है। दस्त, पेचिश, संग्रहणी रोग में इसका प्रयोग किया जाता है। इस दवा को अनार के जूस, या शहद लेना चाहिए। साथ ही भोजन में छाछ, मट्ठे, को शामिल करना चाहिए।

  • संदर्भ: सिद्धयोग संग्रह
  • दवा का नाम: कर्पूर रस Karpur Ras
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: हर्ब और शुद्ध पारद-शुद्ध गंधक युक्त आयुर्वेदिक दवा
  • मुख्य उपयोग: दस्त और पेचिश
  • मुख्य गुण: दस्त रोकना
  • गर्भावस्था में प्रयोग: नहीं करें
  • डायबिटीज में प्रयोग: कर सकते हैं

कर्पूर रस का वात-पित्त या कफ प्रभाव

  • वात कम करना।
  • कफ कम करना।

कर्पूर रस के घटक Ingredients of Karpur Ras

  • शुद्ध हिंगुल Shuddha Hingula Cinnabar (preparation of Cinnabar, very heavy mineral ore of mercury, Red Sulphide of Mercury) 10 g
  • अफीम Ahiphena Papaver somniferum (Opium Purification: Opium rubbed with fresh ginger juice seven times gets purified) Papaver Somniferum 10 g
  • मोथा Musta Cyperus rotundus 10 g
  • इन्द्र्यव Indrayava Holarrhena antidysenterica 10 g
  • जायफल Jatiphala Myristica fragrans 10 g
  • कपूर Karpoora Cinnamomum camphora 10 g

कर्पूर रस के लाभ/फ़ायदे Benefits of Karpur Ras

  • कर्पूर रस दीपन (पाचन अग्नि को बढ़ाता है) है ।
  • कर्पूर रस पाचक है ।
  • यह वातहर और ऐस्ट्रिनजेंट है ।
  • यह दस्त और पेचिश का इलाज़ करता है ।
  • यह उल्टी रोकने में मदद करता है ।

कर्पूर रस के आयुर्वेदिक गुण

  • दीपन: भूख को बढ़ावा लेकिन अपच भोजन को पचाने में सहायता नहीं करते
  • ग्राही: वे दवाइयाँ जो उनके पेट से, पाचन और ताप गुणों से शरीर के तरल पदार्थों को सुखाती हैं
  • कफहर: द्रव्य जो कफ को कम करे।
  • वेदनास्थापन: दर्द निवारक।

कर्पूर रस का बायोमेडिकल एक्शन

  • जीवाणुरोधी: बैक्टीरिया के खिलाफ सक्रिय।
  • कैंसर विरोधी: कैंसर के खिलाफ इस्तेमाल किया जाता है।
  • Antidiarrheal: दस्त में राहत देता है।
  • Antidysenteric: पेचिश को रोकता है और उपचार करता है ।
  • एंटीऑक्सीडेंट: मुक्त कण और अंय पदार्थों के ऑक्सीडेंट प्रभाव को बेअसर ।
  • एंटीसेप्टिक: रोग के कारण सूक्ष्मजीवों के विकास को रोकने।
  • Antispasmodic: अनैच्छिक मांसपेशी की ऐंठन को राहत देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  • ऐपेटाइज़र: भूख में सुधार।
  • वातहर: गैस कम करना।
  • Constipating: कब्ज करना।
  • पाचन: डाइजेस्टर ।

कर्पूर रस के उपयोग Uses of Karpur Ras

कर्पूर रस को मुख्यत: डायरिया, पेचिश में देते हैं । यह बुखार, gastroenteritis, malabsorption सिंड्रोम और अन्य समान गैस्ट्रो आंत्र शर्तों के मामले में दिया जाता है ।

चिकित्सीय रूप से आप कर्पूर रस को निम्नलिखित स्वास्थ्य स्थितियों में प्रयोग कर सकते हैं:

  • दस्त
  • पेचिश
  • Malabsorption सिंड्रोम

कर्पूर रस की औषधीय मात्रा Dosage of Karpur Ras

वयस्क इसको निम्न मात्रा में ले सकते हैं:

1 रत्ती (125mg)

loading...

कर्पूर रस को कैसे लें (सेवन विधि)?

इसे भोजन करने के बाद में लें।

कर्पूर रस का अनुपान क्या हो?

  • इसे शहद, अनार के जूस अथवा मोथा के काढ़े के साथ लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

कर्पूर रस कितने दिनों तक लें?

दवा को ज़रूरत के अनुसार कुछ दिन प्रयोग करें। लेकिन रोग और रोगी की स्थिति के अनुसार ही दवा का ट्रीटमेंट कोर्स होता है। अतः डॉक्टर की राय लें।

कर्पूर रस के इस्तेमाल में सावधनियाँ Cautions

  • इसे डॉक्टर की सलाह से लें।
  • इसे लम्बे समय तक नहीं लें। इसमें अफीम है जो की आदत बना सकता है।

कर्पूर रस का गर्भावस्था में प्रयोग

इसे गर्भावस्था में प्रयोग नहीं करना है।

कर्पूर रस के साइड-इफेक्ट्स Side effects

  • अधिक प्रयोग नहीं करना है। अफीम निर्भरता या व्यसन का कारण बनता है ।
  • इसकी ओवरडोज खतरनाक है ।

कर्पूर रस को कब प्रयोग न करें Contraindications

  • प्रेगनेंसी,स्तनपान, धीमा श्वसन, अल्सर, जिगर की बीमारियों, और सीएनएस अवसाद में इसे नहीं इस्तेमाल करें ।
  • बच्चों को नहीं दें

कर्पूर रस का ड्रग इंटरेक्शन Drug Interaction

इस बारे में जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसलिए डॉक्टर की राय प्राप्त करें।

भंडारण निर्देश

  • सूखी जगह में स्टोर करें।
  • इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें।

कर्पूर रस कैसे खरीदें

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

  • बैद्यनाथ Baidyanath Karpoor Ras Price: 5 GM for Rs। 494।00
  • Unjha Karpura Ras
  • तथा अन्य बहुत सी फर्मसियाँ।

Karpur Ras (Classical medicine) is Herbomineral Ayurvedic medicine. It is indicated in treatment of diarrhea, dysentery,fever, gastroenteritis, malabsorption syndrome etc. Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

Content Protection by DMCA.com
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.