दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ Patanjali Arjun Kwath  Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ Patanjali Arjun Kwath in Hindi, में अर्जुन के वृक्ष की छाल है। इसे पानी में उबाल कर काढ़ा बनाकर दिन में दो बार पीने से हृदय रोगों में लाभ होता है। यह सभी प्रकार की हृदय रोगों में उपयोगी है।

loading...

अर्जुन की छाल, ज्वरनाशक, मूत्रल, और अतिसार नष्ट करने वाली होती है। यह उच्च रक्त्र्चाप को कम करती है। जब चोट पर नील पड़ जाए तो इसकी छाल का सेवन दूध के साथ करना चाहिए। लीवर सिरोसिस में इसे टोनिक की तरह प्रयोग किया जाता है। मानसिक तनाव, दिल की अनियमित धड़कन, उच्च रक्चाप में इसका सेवन लाभदायक है।  मासिक में अधिक रक्स्राव हो रहा हो तो, अर्जुन की छाल का एक चम्मच चूर्ण को एक कप दूध में उबालें। जब दूध आधा रह जाए तो थोड़ी मात्रा में मिश्री मिलकर, दिन में तीन बार सेवन करें।  इसका काढ़ा बनाकर छाले, घाव, अल्सर, आदि धोते हैं। अर्जुन के छाल का काढ़ा पीने से पेशाब रोगों में लाभ होता है। यह मूत्रल है। छाल का सेवन शरीर को बल देता है।

अर्जुन की छाल को रात भर पानी में भिगो, सुबह मसलकर छान कर पीते हैं। ऐसा एक महीने तक करने से उच्च रक्तचाप, चमड़ी के रोग, यौन रोग, अस्थमा, पेचिश, मासिक में ज्यादा खून जाना और पाचन में लाभ होता है। शरीर में विष होने पर छाल का काढ़ा लाभप्रद है। यह रक्त पित्त में भी बहुत उपयोगी है।

दवा के बारे में इस पेज पर जो जानकारी दी गई है वह इसमें प्रयुक्त जड़ी-बूटियों के आधार पर है। हम इस प्रोडक्ट को एंडोर्स नहीं कर रहे। यह दवा का प्रचार नहीं है। हमारा यह भी दावा नहीं है कि यह आपके रोग को एकदम ठीक कर देगी। यह आपके लिए फायदेमंद हो भी सकती हैं और नहीं भी। दवा के फोर्मुलेशन के आधार और यह मानते हुए की इसमें यह सभी द्रव्य उत्तम क्वालिटी के हैं, इसके लाभ बताये गए हैं।

इस पेज पर जो जानकारी दी गई है उसका उद्देश्य इस दवा के बारे में बताना है। कृपया इसका प्रयोग स्वयं उपचार करने के लिए न करें। हमारा उद्देश्य दवा के लेबल के अनुसार आपको जानकारी देना है।

यह पेज दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ के बारे में हिंदी में जानकारी देता है जैसे कि दवा का कम्पोज़िशन, उपयोग, लाभ/बेनेफिट्स/फायदे, कीमत, खुराक/ डोज/लेने का तरीका, दुष्प्रभाव/नुकसान/खतरे/साइड इफेक्ट्स/ और अन्य महत्वपूर्ण ज़रूरी जानकारी।

loading...
Loading...

Patanjali Arjun Kwath is Herbal Ayurvedic medicine। It is indicated in management of heart diseases। Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language।

  • दवा का नाम: दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ Patanjali Arjun Kwath
  • निर्माता: पतंजलि
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: हर्बल
  • मुख्य उपयोग: हृदय रोग
  • मुख्य गुण: हृदय को बल देना, हृदय के लिए टॉनिक, रक्त्त स्तंभक, रक्तपित्त शामक, प्रमेहनाशक, विषहर
  • दोष इफ़ेक्ट: कफहर, पित्तहर

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ के घटक Ingredients of Patanjali Arjun Kwath

अर्जुन के पेड़ की छाल

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ के लाभ / फ़ायदे Benefits of Patanjali Arjun Kwath

  • अर्जुन की छाल का चूर्ण, cardiac diseases, hypertension, heaviness in the chest में करना चाहिए। यह  cardio protective and cardio-tonic है।
  • इसका सेवन एनजाइना के दर्द को धीरे-धीरे कम करता है। prevents and helps in the recovery from angina
  • यह अनियमित धड़कन, संकुचन को दूर करता है। regulates heart beat
  • यह उच्च रक्तचाप को कम करता है।
  • यह कार्डियोटॉनिक है। Cardiac tonic and stimulant
  • यह कोलेस्ट्रोल को कम करता है।
  • यह दिल की मांसपेशियों को मज़बूत करता है।
  • यह ब्लड वेसल को फैला देता है।
  • यह रक्त प्रवाह के अवरोध को दूर करता है।
  • यह लिपिड, कोलेस्ट्रोल, ट्राइग्लिसराइड लेवल को कम करता है।
  • यह वज़न को कम करता है।
  • यह सभी प्रकार के हृदय रोगों में फायदेमंद है।
  • यह स्ट्रोक के खतरे को कम करता है। reduces blood clots, reverses hardening of the blood vessels
  • यह हृदय की सूजन को दूर करता है।
  • यह हृदय के अत्यंत लाभकारी है। prevents congestive heart failure, ischemic, heals heart tissue scars after surgery
  • यह हृदय के ब्लॉकेज में लाभदायक है।
  • यह हृदय को ताकत देने वाली औषध है। nourishes heart muscle,  prevents arterial clogging
  • हृदय रोगों में अर्जुनारिष्ट का सेवन या अर्जुन की छाल का चूर्ण दिन में दो बार पानी या दूध के साथ करना चाहिए।

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ के चिकित्सीय उपयोग Uses of Patanjali Arjun Kwath

अर्जुन के पेड़ की छाल का हृदय रोगों में बहुत प्रयोग होता है। यह अवरुद्ध धमनियों को खोलने में मदद करता है। टर्मिनलिया अर्जुन की छाल के प्रयोग से हृदय को बल मिलता है और धड़कन नियमित होती है।

  • अनियमित धड़कन Heart Palpitations
  • उच्च कोलेस्ट्रोल High Cholesterol
  • उच्च रक्तचाप Hypertension
  • कमज़ोर दिल Weak Heart
  • धमिनियों में रुकावट Blocked Arteries of Heart
  • हृदय रोग Heart Diseases

सेवन विधि और मात्रा Dosage of Patanjali Arjun Kwath

  • इसका काढ़ा बनाने के लिए करीब एक चम्मच पतंजलि क्वाथ पाउडर को 400 ml पानी में उबालें जब तक पानी केवल 100 ml बचे। इसे छान लें।
  • इस तरह बने काढ़े को दिन में दो बार लें।
  • इसे सुबह नाश्ते से पहले और रात के भोजन के पहले लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ के इस्तेमाल में सावधनियाँ Cautions

  • अर्जुन आयुर्वेद की एक निरापद औषध है।
  • इसका प्रयोग किसी भी तरह के साइड-इफेक्ट पैदा नहीं करता।
  • लम्बे समय तक इसका प्रयोग पूरी तरह से सुरक्षित है।
  • इसे गर्भावस्था में प्रयोग न करें।

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ के साइड-इफेक्ट्स Side effects

निर्धारित खुराक में लेने से दवा का कोई दुष्प्रभाव नहीं है।

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ को कब प्रयोग न करें Contraindications

  • इसे गर्भावस्था के दौरान न लें।
  • यदि दवा से किसी भी तरह का एलर्जिक रिएक्शन हों तो इसका इस्तेमाल नहीं करें।
  • समस्या अधिक है, तो डॉक्टर की राय प्राप्तकर सही उपचार कराएं जिससे रोग बिगड़े नहीं।

भंडारण निर्देश

  • सूखी जगह में स्टोर करें।
  • इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें।

उपलब्धता

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

दवा के बारे में पूछे जाने वाले कुछ सवाल

क्या इस दवा को एलोपैथिक दवाओं के साथ ले सकते हैं?

हाँ, ले सकते हैं। लेकिन दवाओं के सेवन में कुछ घंटों का गैप रखें।

क्या दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ को होम्योपैथिक दवा के साथ ले सकते हैं?

ले तो सकते हैं। लेकिन इस से हो सकता है कि दोनों ही दवाएं काम नहीं करें। इसलिए, दवा के असर को देखना ज़रूरी है।

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ को कितनी बार लेना है?

  • इसे दिन में 2 बार / 3 बार लेना चाहिए।
  • इसे दिन के एक ही समय लेने की कोशिश करें।

क्या दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ सुरक्षित है?

हां, सिफारिश की खुराक में लेने के लिए सुरक्षित है।

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ का मुख्य संकेत क्या है?

हृदय रोग।

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ का वात-पित्त या कफ पर क्या प्रभाव है?

  • पित्त कम करना।
  • कफ कम करना।

क्या इसमें गैर-हर्बल सामग्री शामिल है?

नहीं।

दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ लेने का सबसे अच्छा समय क्या है?

इसे भोजन के पहले लिया जाना चाहिए एक ही समय में दैनिक रूप में लेने की कोशिश करें।

क्या दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ एक आदत बनाने वाली दवा है?

नहीं।

क्या यह दिमाग की अलर्टनेस पर असर डालती है?

नहीं।

क्या दिव्य पतंजलि अर्जुन क्वाथ लेने के दौरान ड्राइव करने के लिए सुरक्षित है?

हाँ।

क्या मैं इसे पीरियड्स के दौरान ले सकती हूँ?

इसे लिया जा सकता है।

क्या मैं इसे गर्भावस्था के दौरान ले सकती हूँ?

डॉक्टर की राय प्राप्त करें।

क्या एक मधुमेह व्यक्ति इसे ले सकता है?

हाँ।

पतंजलि दिव्य अर्जुन काढ़े की कीमत क्या है?

100 grams @ Rs. 14.00

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.