हड़जोड़ के फायदे, नुकसान और उपयोग विधि

हड़जोड़ को अस्थिसंधानक, अस्थि श्रृंखला भी कहते हैं और इसे मुख्य रूप से टूटी हुई हड्डी को जोड़ने के लिए इस्तेमाल करते हैं। इसके प्रयोग से हड्डियों और जोड़ों को मजबूत करने में मदद होती है। इससे टूटी हड्डी की हीलिंग तेज होती है। हड़जोड़ में एंटीऑक्सीडेंट, दर्द निवारक और हड्डी को जोड़ने के गुण होते हैं।

हड़जोड़ के प्रयोग से हड्डी का खनिज घनत्व को बढ़ता है। हड़जोड़ को हड्डी के फ्रैक्चर, कमज़ोर हड्डियों, ऑस्टियोपोरोसिस, में प्रयोग करते हैं। इसे अन्य विकारों में भी प्रयोग करते हैं जैसे मोटापा, मेटाबोलिक सिंड्रोम, भूख नहीं लगना, पाचन की कमजोरी, आंतों में कीड़े, गठिया, आदि।

Loading...

हड़जोड़ को आयुर्वेद समेत दुनिया के कई पारम्परिक चिकित्सा में इस्तेमाल किया जाता है। इसे थाईलैंड और अफ़ीका में भी इस्तेमाल करते हैं। पौधे के सभी भाग दवा की तरह से इस्तेमाल किये जाते हैं।

हड़जोड़ के तने का जूस, दिन में दो बार 10 से 20 मिलीलीटर की मात्रा में फ्रैक्चर उपचार, कम अस्थि खनिज घनत्व और हड्डियों की कमजोरी सहित हड्डियों के कई रोगों में लिया जाता है।

हड़जोड़ का पौधा

Loading...

हड़जोड़ का वानस्पतिक नाम सीसस क्वाड्रैंगुलरिस | कैसस क्वाड्रैंगुलरिस Cissus quadrangularis है व यह अंगूर परिवार का बहुवर्षी पौधा है। यह एक बेल है।

देखने में हड़जोड़, खंडाकार चतुष्कोणीय तनेवाली लता है। हर इसके हर खंड से एक अलग पौधा उगाया जा सकता है। चतुष्कोणीय तने में हृदय के आकार वाली पत्तियां होती है। छोटे फूल लगते हैं। पत्तियां छोटी-छोटी होती है और लाल रंग के मटर के दाने के बराबर फल लगते हैं। यह बरसात में फूलती है और जाड़े में फल आते हैं।

हड़जोड़ में सोडियम, पोटैशियम और कैल्शियम कार्बोनेट पाया जाता है और इसे टूटी हड्डी जोड़ने में में बहुत लाभप्रद पाया गया है। हड्डी जोड़ने में इसका आंतरिक और बाह्य दोनों तरह से इस्तेमाल होता है। आंतरिक रूप से इसके तने का जूस 10 से 20 मिलीलीटर की मात्रा में लिया जाता है।

हड़जोड़ के स्थानीय नाम / Synonyms

  • Scientific name: Cissus Quadrangularis
  • Sanskrit: Asthisandhani, Asthisamhara, Asthisamhrit, Asthisamyojaka, Vajravalli
  • Assamese: Harjara
  • Bengali: Hadajora
  • Gujrati: Hadasankala
  • Hindi: Hadjod
  • Kannada: Mangaravalli, Vajravalli, Sanduballi
  • Malayalam: Changalam Parande
  • Marathi: Kandvel
  • Oriya: Hadbhanga
  • Punjabi: Haddjor
  • Tamil: Perandai
  • Telugu: Nalleru
  • Urdu: Hathjod
  • English: Adament creeper, Bone setter, Edible-stemmed vine
  • Unani: Hadjoda
  • Siddha: Piranda

वैज्ञानिक वर्गीकरण | Scientific Classification in Hindi

  • किंगडम Kingdom: प्लांटी Plantae – Plants
  • सबकिंगडम Subkingdom: ट्रेकियोबाईओन्टा Tracheobionta संवहनी पौधे
  • सुपरडिवीज़न Superdivision: स्परमेटोफाईटा Spermatophyta बीज वाले पौधे
  • डिवीज़न Division: मैग्नोलिओफाईटा Magnoliophyta – Flowering plants फूल वाले पौधे
  • क्लास Class: मैग्नोलिओप्सीडा Magnoliopsida – द्विबीजपत्री
  • सबक्लास Subclass: रोजेरिडेएइ Rosidae
  • आर्डर Order: Rhamnales
  • परिवार Family: Vitaceae – Grape family
  • जीनस Genus: सीसस Cissus L. – treebine
  • प्रजाति Species: Cissus quadrangularis  L..– veldt-grape

हड़जोड़ के औषधीय हिस्से

हड़जोड़ लता की पत्तियां और तने औषधीय भाग हैं। दवाई की तरह से ताज़ा पत्तियों और तने से निकाले गए रस का उपयोग किया जाता है।

हड़जोड़ के औषधीय हिस्सों में रासायन

हड़जोड़ के पत्तों और तने में कई बायोएक्टिव घटक होते हैं। इसमें सोडियम, पोटैशियम, कैल्शियम कार्बोनेट, विटामिन सी, विटामिन ई, Quercetin, Kaempferol, β-sitosterol, एसिटिलेटेड ग्लाइकोसाइड्स, रेल्वरेट्रोल ग्लाइकोसाइड्स, रेसवर्टरोल, पाइसैटैनोल, पैलिडोल, पार्टनोकिसिन ए, जेनिस्टीन, क्वाड्रैंगुलरिन एसी और डेडेज़िन समेत स्टिलबेन यौगिक आदि मौजूद होते हैं।

हड़जोड़ के प्रयोग के फायदे | Hadjod Benefits in Hindi

  • इसके इस्तेमाल से दर्द में राहत होती है।
  • इसके रस से कुल्ला करने से मसूड़ों की सूजन कम होती है।
  • इसमें एंथेलमिंटिक या कृमिघ्न गुण हैं।
  • इसमें कामोद्दीपक गुण हैं।
  • फ्रैक्चर में प्रयोग किये जाने पर यह हड्डी के बनने की दर को बढ़ाता है और हड्डी में रक्त परिसंचरण और पोषक आपूर्ति में सुधार करता है।
  • यह एचडीएल-कोलेस्ट्रॉल (अच्छा कोलेस्ट्रॉल) बढ़ाता है।
  • यह कुल कोलेस्ट्रॉल, एलडीएल-कोलेस्ट्रॉल, और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है।
  • यह खून साफ़ करता है।
  • यह चयापचय को बढ़ावा देता है।
  • यह जॉइंट्स की गतिशीलता में सुधार करता है।
  • यह पाचन उत्तेजक है।
  • यह पाचन क्षमता और यकृत समारोह में सुधार करता है।
  • यह फ्रैक्चर उपचार की दर में तेजी लाता है।
  • यह ब्लीडिंग को रोकता है।
  • यह मासिक धर्म के दौरान होने वाले अत्यधिक रक्तस्राव को कम करता है।
  • यह लीवर की रक्षा करता है।
  • यह शरीर की वसा को कम करता है और समग्र लिपिड प्रोफाइल में सुधार करता है।
  • यह श्रोणि, पेट, नितंब, और ऊपरी जांघों के आसपास वसा जमावट को कम करता है।
  • यह जोड़ों की सूजन और दर्द को कम करने में मदद कर सकता है।
  • यह हड्डियों और जोड़ों को मजबूत करता है।
  • यह हड्डियों का वजन बढ़ाता है।
  • यह हड्डी की ताकत बढ़ाता है और हड्डी द्रव्यमान को बहाल करता है।
  • यह हड्डी खनिज घनत्व (बीएमडी) बढ़ाता है।
  • यह हड्डी द्रव्यमान बढ़ाता है।
  • यह हड्डी में खनिजरण को बढ़ाता है और खनिज नोड्यूल के गठन को बढ़ावा देता है।

हड़जोड़ के औषधीय उपयोग | Medicinal Uses of Hadjod in Hindi

हडजोड या सिसस क्वाड्रैंगुलरिस का स्टेम हड्डी फ्रैक्चर, त्वचा संक्रमण, कब्ज, आंखों की बीमारियों, ब्लीडिंग पाइल्स, एनीमिया, अस्थमा, अनियमित मासिक धर्म, जलन और घावों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। स्टेम रस स्कर्वी और अनियमित मासिक धर्म में उपयोगी है। लाइम वाटर में उबला हुआ स्टेम पेस्ट अस्थमा में दिया जाता है। सूखे शूट का पाउडर पाचन समस्याओं में उपयोगी है।

हडजोड या हड्डी सेटर में टूटी हुई हड्डियों को जोड़ने की क्षमता है। अध्ययन दिखाता है, विटामिन और अनाबोलिक स्टेरॉयड की उपस्थिति, जो हड्डी के एस्ट्रोजेनिक रिसेप्टर्स पर कार्य कर सकती है। पौधे शुरुआती ossification और हड्डियों के पुनर्निर्माण में मदद करता है। पौधे का मौखिक सेवन, चयापचय की उत्तेजना और फ्रैक्चर हड्डी में ऑस्टियोबालास्ट्स द्वारा खनिज कैल्शियम, सल्फर और स्ट्रोंटियम खनिजों के बढ़ने से फ्रैक्चर की त्वरित उपचार में मदद करता है।

  • अपच
  • अभ्यास के कारण एथलीटों में जोड़ो दर्द
  • आंतरिक रक्तस्राव
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल
  • उदरशूल
  • उपदंश
  • उपापचयी लक्षण
  • ऑस्टियोपोरोसिस
  • कम हड्डी खनिज घनत्व
  • कमजोर और नाजुक हड्डियाँ
  • कान बहना
  • कामोद्दीपक
  • किसी भी प्रकार का हड्डी फ्रैक्चर
  • त्वचा रोग
  • कृमिनाशक
  • गाउट
  • जिंजीवाइटिस
  • जोड़ों का दर्द
  • ट्यूमर
  • पाचन में सुधार
  • पीरियड्स में ज्यादा ब्लीडिंग
  • पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस
  • पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस
  • बच्चों में हड्डी कमजोर होना
  • ब्लीडिंग पाइल्स
  • फ्रैक्चर
  • मधुमेह
  • मिरगी
  • मैक्सिलोफेशियल फ्रैक्चर
  • मोटापा
  • रजोनिवृत्ति, कम कामेच्छा, और मासिक धर्म विकार
  • सूजन
  • हड्डियों को मजबूत करने और हड्डी के विकास को बढ़ावा देने के लिए
  • हड्डी फ्रैक्चर

हडजोड की औषधीय मात्रा

सीसस क्वाड्रैंगुलरिस के स्वरस को पीते हैं और इसके पेस्ट को बाहरी रूप से लगाते हैं।

आंतरिक प्रयोग

  • हडजोड के ताजे तने से कूट पीस और दबा कर निकाले गए ताज़े रस की औषधीय मात्रा निम्न है:
  • वयस्क: 10 से 20 मिलीलीटर, दिन में दो बार।
  • बच्चों को इसकी आधी मात्रा (5 ml) दी जा सकती है। यदि बच्चा पांच साल से छोटा है तो उसे 2।5 ml की मात्रा दिन में दो बार दे सकते हैं।
  • Loading...
  • इसे भोजन के बाद लें। इसे दूध या घी के साथ ले सकते हैं।

बाह्य इस्तेमाल

सीसस क्वाड्रैंगुलरिस के स्टेम और पत्तियों से तैयार पेस्ट को फ्रैक्चरर्ड हिस्से पर लगाया जाता है और साफ कपड़े से ढक दिया जाता है।

हड़जोड़ के इस्तेमाल में सावधनियाँ | Cautions

  • गर्भावस्था, स्तनपान, मधुमेह, और उच्च रक्तचाप के मामले में किसी को डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।
  • इसका सेवन खाली पेट नहीं किया जाना चाहिए।
  • यह गैर-विषैला है।
  • यह एक खाद्य पदार्थ है और अच्छी तरह से सहन किया जाता है।
  • उचित खुराक उपयोगकर्ता की उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों जैसे कई कारकों पर निर्भर करती है। उचित खुराक निर्धारित करने के लिए पर्याप्त वैज्ञानिक जानकारी नहीं है।
  • ध्यान रखें कि प्राकृतिक उत्पाद हमेशा सुरक्षित हों ऐसा जरूरी नहीं हैं।
  • इसे ज्यादा मात्रा में न लें।
  • यह पित्त को बढ़ाता है। इसलिए पित्त प्रकृति के लोग इसका सेवन सावधानी से करें।

हड़जोड़ के साइड-इफेक्ट्स | Side effects of Hadjod in Hindi

  • यह पित्त को बढ़ाता है जो पित्त प्रकृति व्यक्ति वाले व्यक्ति में एसिडिटी, दिल की धड़कन इत्यादि का कारण बन सकता है।
  • कुछ दुष्प्रभावों में सिरदर्द, अत्यधिक गैस, नींद की समस्याएं आदि शामिल हैं।
  • इससे कुछ लोगों में पेट में जलन हो सकती है।
  • कुछ संवेदनशील लोगों में, इसके हीटिंग और ड्राईइंग गुणों के कारण, यह जलन, बेचैनी, अनिद्रा, सूखापन, शुष्क मुंह, पसीना आदि जैसे लक्षण कर सकता है।
  • अधिक मात्रा में सेवन पेट में जलन, एसिडिटी, आदि समस्या कर सकता है।
  • उच्च खुराक केंद्रीय तंत्रिका तंत्र अवसाद, sedation, मांसपेशी आराम, त्वचा चकत्ते या एलर्जी का कारण बन सकता है।
  • बाहरी रूप से लगाने के लिए पेस्ट का इस्तेमाल नरम ऊतकों पर निशान बना सकता है। तो, ध्यान से लागू करें।
  • लंबी अवधि की सुरक्षा अज्ञात है क्योंकि कोई अध्ययन नहीं किया गया है।

हड़जोड़ को कब प्रयोग न करें | Contraindications

  • गर्भावस्था या स्तनपान में इसकी सुरक्षा के बारे में अध्ययन उपलब्ध नहीं है। इसलिए, गर्भवती महिला और स्तनपान कराने के दौरान इसके उपयोग से बचें।
  • जिन्हें पेट में सूजन हो gastritis, वे इसका सेवन न करें।
  • शरीर में यदि पहले से पित्त बढ़ा है, रक्त बहने का विकार है bleeding disorder, हाथ-पैर में जलन है, अल्सर है, छाले हैं तो भी इसका सेवन न करें।
  • इसे बताई मात्रा से अधिकता में न लें।
  • यदि दवा से किसी भी तरह का एलर्जिक रिएक्शन हों तो इसका इस्तेमाल नहीं करें।
  • समस्या अधिक है, तो डॉक्टर की राय प्राप्तकर सही उपचार कराएं जिससे रोग बिगड़े नहीं।
  • यह रक्त शर्करा को कम कर सकता है। निर्धारित शल्य चिकित्सा से कम से कम 2 सप्ताह पहले इसका उपयोग करना बंद करें क्योंकि यह रक्त शर्करा का स्तर कम करता है।
  • अधिक मात्रा में सेवन पेट में जलन, एसिडिटी, आदि समस्या कर सकता है।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.