मेदोहर वटी – Divya Medohar Vati Ke Fayade

loading...

मेदोहर वटी, स्वामी रामदेव की पतंजलि दिव्य फार्मेसी में निर्मित आयुर्वेदिक दवा है। मेदोहर वटी वजन कम करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा है। वजन बढ़ने के कई महत्वपूर्ण कारण हैं जैसे की पाचन तंत्र की खराबी, थायराइड की समस्या, hormonal असंतुलन, आनुवंशिकी, धीमा चयापचय, , PCOD, निष्क्रिय जीवन शैली और अधिक वसा वाला खाना, भोजन की आदतें आदि। मोटापा या अधिक वजन बहुत से अन्य रोगों का कारण है। ये मधुमेह, उच्च रक्तचाप, बांझपन, हृदय, संचार की समस्याओं, आदि होने के रिस्क को बढाता है। मेदोहर वटी बढे हुए वजन को कम करने में मदद करती है।

नीचे इस दवा के घटक, गुण, सेवनविधि, और मात्रा के बारे में जानकारी दी गयी है।

Divya Medohar Vati is an herbal Ayurvedic medicine from Swami Ramdev’s Divya pharmacy. It is a useful medicine to treat obesity and hyperlipaemia. Hyperlipaemia is condition of an abnormally high concentration of fats or lipids in the blood. Medohar Vati is also gives relief in joint pain, pain in waist, knee pain, and arthritis. Here information is given about complete list of ingredients, properties, uses and dosage of this medicine in Hindi language.

  • निर्माता: पतंजलि
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: आयुर्वेदिक हर्बल और शिलाजीत युक्त
  • मुख्य उपयोग: मोटापा कम करना Weight Loss
  • मुख्य गुण: मेदोहर, कृमिघ्न, विरेचक
  • मूल्य MRP: Divya Medohar Vati 50 gram (100 tablets) Rs. 80.00

घटक Ingredients of Divya Medohar Vati

  1. आंवला Amla Emblica officinalis Fruit 94.93 mg त्रिदोषशामक Potency Cooling
  2. बहेड़ा Baheda Terminalia belerica Fruit 94.93 mg त्रिदोषशामक Potency Heating
  3. हरीतकी Harad Terminalia chebula Fruit 94.93 mg Rechak, त्रिदोषहर Potency Cooling
  4. कुटकी Kutki Picrorhiza kurroa Root 14.30 mg लेखन, कफघ्न Potency Heating
  5. निशोथ Nishoth Operculina turpethum Root 14.30 mg लेखन, रेचक Potency Heating
  6. विडंग Viavidang Embelia ribes Seed 28.60 mg कफवातशामक Potency Heating
  7. हरीतकी छिलका Harad chilka Terminalia chebula Fruit 28.60 mg त्रिदोषहर Potency Cooling
  8. गुग्गुलु Shudha guggul Commiphora mukul 86.50 mg मेदोहर, प्रमेह
  9. शिलाजीत Shilajeet Asphaltum Sat 14.30 mg मोटापा, स्वेदन
  10. बबूल गोंद Babul gond Acacia arabica Gond 28.60 mg ग्राही

Excipients: Gum acacia, Talcum, Aerosil, Magnesium stearate Q.S.

जाने दवा में प्रयुक्त जड़ी-बूटियों को

त्रिफला (फलत्रिक, वरा) आयुर्वेद का सुप्रसिद्ध रसायन है। यह आंवला, हर्र, बहेड़ा को बराबर मात्रा में मिलाकर बनता है। यह रसायन होने के साथ-साथ एक बहुत अच्छा विरेचक, दस्तावर भी है। इसके सेवन से पेट सही से साफ़ होता है, शरीर से गंदगी दूर होती है और पाचन सही होता है। यह पित्त और कफ दोनों ही रोगों में लाभप्रद है। त्रिफला प्रमेह, कब्ज़, और अधिक पित्त नाशक है। यह मेदोहर और कुछ दिन के नियमित सेवन से वज़न को कम करने में सहायक है। यह शरीर से अतिरिक्त चर्भी को दूर करती है और आँतों की सही से सफाई करती है।

कुटकी Picrorhiza kurroa, Tikta, Tiktarohi, Kutki, Katuka rohini, Katuku rohini, Kadugurohini, में पिकोरिजीन और ग्लाइकोसाइड पाए जाते हैं। इसमें कृमिनाशक, ज्वरनाशक, हृदय के लिए टॉनिक, शीतल, और भूख बढ़ाने के गुण हैं। इसके सेवन से भूख सही से लगती है। यह हिचकी, लीवर के रोगों, शरीर में जलन, पेट के कीड़े, आदि में लाभप्रद है। कुटकी को हलके विरेचक की तरह भी प्रयोग किया जाता है। इसे त्रिफला के साथ लेने पर कब्ज़ की समस्या दूर होती हैं और पेट सही से साफ़ होता है।

loading...

त्रिवृत / निशोथ Operculina Turpethum, भी एक विरेचक / दस्तावर है। यह तासीर में गर्म है और कटु विपाक है। दस्तावर होने के साथ ही है क्फ्हर, ज्वरहर, और भेदनीय अर्थात शरीर में जमे मल और कफ को निकालने वाला है।

इस दवा में त्रिफला, कुटकी, निशोथ का मुख्य काम रेचन और कफघ्न है।

वायविडंग Embelia Ribes कृमि रोग, मेदवृद्धि तथा कफ रोगों में विशेष रूप से उपयोगी है। यह अनुलोमन, एंटीबैक्टीरियल, कृमिनाशक, और एंटीबायोटिक है। यह आयुर्वेद में पेट के कीड़ों के लिए प्रयोग की जाने वाली प्रमुख वनस्पति है। यह पेट के सभी रोगों, कब्ज़, अफारा, अपच, पाइल्स आदि में उपयोगी है।

हरीतकी Terminalia chebula आयुर्वेद की रसायन औषधि है। यह पेट रोगों में प्रयोग की जाने वाली सबसे प्रभावी औषध है। इसमें लवण रस, को छोड़ बाकि सभी रस / स्वाद है। यह गुण में लघु, रूक्ष, और स्वभाव से गर्म है। यह एक कटु विपाक औषध है और शरीर के सभी धातुओं पर काम करती है। यह सूजन को दूर करती है। यह मूत्रल और दस्तावर है। यह अफारे को दूर करती है और पेट के कीड़ों को भी नष्ट करती है।

गुग्गुल एक पेड़ से प्राप्त गोंद है। यह मुख्य रूप से शरीर से किसी भी प्रकार की सूजन को दूर करने के लिए प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेद में यह आर्थराइटिस, गाउट, रुमेटिस्म, लम्बागो, तथा सूजन को दूर करने में प्रयोग की जाने वाली प्रमुख औषध है। यह मेदोहर antiobesity है। गुग्गुलु किसी भी वज़न कम करने की दवा का प्रमुख घटक है। यह शरीर से वसा को कम करती है। यह शरीर में कोलेस्ट्रोल के संश्लेषण को कम करती है। यह सीरम ट्राइग्लिसराइड, बुरे कोलेस्ट्रोल, और मेद को कम करती है।यह मेटाबोलिज्म में सुधार करती है और अतिरिक्त वज़न को कम करने में सहायक है।

शिलाजीत, हिमालय की चट्टानों से निकलने वाला पदार्थ है। आयुर्वेद में औषधीय प्रयोजन के लिए शिलाजीत को शुद्ध करके प्रयोग किया जाता है। यह एक adaptogen है और एक प्रमुख आयुर्वेदिक कायाकल्प टॉनिक है। यह पाचन और आत्मसात में सुधार करती है। आयुर्वेद में, इसे हर रोग के इलाज में सक्षम माना जाता है। इसमें अत्यधिक सघन खनिज और अमीनो एसिड है।

शिलाजीत प्रजनन अंगों पर काम करती है। यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करती है और प्रतिरक्षा में सुधार करती है। यह पुरानी बीमारियों, शरीर में दर्द और मधुमेह में राहत देता है। इसके सेवन शारीरिक, मानसिक और यौन शक्ति देता है।

मुख्य गुणधर्म Qualities

  1. विरेचन: द्रव्य जो पक्व अथवा अपक्व मल को पतला बनाकर अधोमार्ग से बाहर निकाल दे।
  2. कफहर: द्रव्य जो कफदोष निवारक हो।
  3. वातहर: द्रव्य जो वातदोष निवारक हो।
  4. अनुलोमन: द्रव्य जो मल व् दोषों को पाक करके, मल के बंधाव को ढीला कर दोष मल बाहर निकाल दे।
  5. शोथहर: द्रव्य जो शोथ / शरीर में सूजन, को दूर करे।
  6. पाचन: द्रव्य जो आम को पचाता हो लेकिन जठराग्नि को न बढ़ाये।
  7. दीपन: द्रव्य जो जठराग्नि तो बढ़ाये लेकिन आम को न पचाए।
  8. मेदोहर: मोटापे को दूर करना।
  9. कृमिघ्न: पेट के कीड़ों को नष्ट करना।
  10. भेदनीय: दस्तावर और शरीर में जमाव को दूर करना।
  11. लेखन: शरीर से विजातीय – विषैले पदार्थों को दूर करना।

मेदोहर वटी के फायदे

  1. यह Metabolism को सही करती है।
  2. यह पाचन को सही कर, फैट को कम करने में मदद करती है।
  3. यह हार्मोनल असंतुलन को दूर करती है।
  4. यह रक्त परिसंचरण में सुधार करती है।
  5. यह मांसपेशियों में दर्द, गठिया, जोड़ो का दर्द, स्पॉन्डिलाइटिस आदि में दर्द को कम करने में मदद करती है।
  6. यह यकृत को उत्तेजित करती है और फैटी लीवर जैसी स्थितियों में मदद करती है।
  7. यह मधुमेह जैसी वंशानुगत बीमारियों की शुरुआत को रोकने में मदद करती है।
  8. यह कोलेस्ट्रोल, ट्राइग्लिसराइड, और लिपिड लेवल को कम करती है।
  9. यह कृमिनाशक है।
  10. यह विरेचक है।
  11. यह मेदोहर है।
  12. यह शरीर से चर्बी कम करती है।

उपयोग Therapeutic uses

मोटापा / सौथुल्या Obesity or For weight loss

पेट पर चर्बी

सेवनविधि और मात्रा How to take and dosage

  • दिव्य मेदोहर वटी को आप दिन में दो अथवा तीन बार अपने वज़न को कम करने अनुसार ले सकते हैं।
  • इस दवा को गर्म पानी के साथ लेना चाहिए तथा उपचार के समय हो सके तो गर्म पानी का ही सेवन करें।
  • इसको लेने की निर्धारित मात्रा एक से तीन गोली है।
  • इस दवा को खाना खाने से आधा घंटा पहले या भोजन करने के एक घंटे बाद गर्म पानी से लें।

सुझाव / सावधनियाँ/ साइड-इफेक्ट्स/ कब प्रयोग न करें Cautions/Side effects/Contraindications

  1. दवा की सटीक मात्रा व्यक्ति के पाचन, उम्र, वज़न और स्वास्थ्य को देख कर ही तय की जा सकती है।
  2. दवा के साथ-साथ भोजन और व्यायाम पर भी ध्यान दें।
  3. पानी ज्यादा मात्रा में पियें।
  4. पीने के लिए हल्का गर्म पानी लें।
  5. खाने में सलाद ज़रूर लें।
  6. घी, मिठाई, चीनी, जंक फ़ूड, केक, बिस्किट, कोल्ड ड्रिंक, मैदे से बने भोज्य पदार्थ न खाएं।
  7. यह दवा बारह साल से छोटे बच्चों को न दें।
  8. गर्भावस्था में इसका प्रयोग न करें।
  9. महिलायें जो बच्चे के लिए प्लान कर planning for conception रही हों वे इसका सेवन न करें। क्योंकि इसमें कई उष्ण वीर्य, लेखन, भेदन जड़ीबूटियाँ है।
  10. यदि मासिक periods में इसके सेवन से ज्यादा ब्लीडिंग लगे तो इसका सेवन कुछ दिनों के लये बंद कर दें।
  11. इस दवा में विरेचक laxative गुण हैं।
  12. अधिक मात्रा में सेवन पेट में जलन कर सकता है।
  13. यह दवा कुछ महीनों तक प्रयोग की जा सकती है।
  14. अच्छे प्रभाव के लिए दवा के साथ-साथ जीवन शैली में भी परिवर्तन करें।
  15. डायबिटीज हो तो इसके सेवन के दौरान रक्त शर्करा के स्तर को बराबर जांचते रहें।
  16. गुग्गुलु के सेवन के समय खट्टे – तीक्ष्ण पदार्थों और अल्कोहल का सेवन न करें।

यह एक दवा है, इससे तुरंत जादुई असर नहीं होगा। दवा के साथ साथ खाने-पीने पर नियंत्रण और व्यायाम आवश्यक है। वज़न कितना ज्यादा है और कितने समय से है, खान -पान क्या, लाइफस्टाइल कैसी है, ये सभी फैक्टर दवा के परिणाम को प्रभावित करते हैं। धैर्य से सभी चीजों पर ध्यान दें, लाभ अवश्य होगा।

loading...

37 thoughts on “मेदोहर वटी – Divya Medohar Vati Ke Fayade

  1. Is dawai ko kitne month tak khani hai mne is medicine k bre pda acha lga kiya apka is medicine ka khana fat kam hoga iske aser kitne din main dikhi dage

  2. Mam mere bete ka weight 75 kg hai
    Or uski height 5.6 hai uski age
    17 year hai iska koi side effect
    Toh nahi please suggest me

  3. Anupma parbhakar mam mera vajan 94 kg h…constipation bhi h fresh nhi ho pata khulkR…koi bhi kapda dalta hu uncomfirtable mahsus krta hu…height 5’8″ h….kaise kam kru upay batye mam

    • Read this
      Just start by following do walk of 1 hr daily, and increase speed day by day

      Drink atleast 3-4 litre water daily, this will reduce you 3~4 kg weight

      Eat citrus fruit, juice wale daily.

      Do above for 6 months to one year, if beneficial then do life long

      One more thing take Ayurvedic Triphala powder 3~5 gm daily.

    • केवल दवा के सेवन से वज़न कम कर पाना बहुत मुश्किल है. मोटापा दूर करने के लिए जीवनशैली, भोजन का सही चुनाव और व्यायाम बहुत आवश्यक है.

  4. mera waight 75 kg h hight 5.9 h mera belly fat boht zayada h . m ye teblets kese lu or ye kab tak asar dikhega iska meri age 27 h

    • jab tak exercise nahi karoge aur khane pine ka dhyan nahi doge to ye bhi kuchh nahi karegi, ise exercise karate huye len to ye catalyst ka kaam karati hai.
      Khoob paani piyo, 2-3 liter daily, namak aur meeta kam khawo, ghee/tel khawo lekin kam.
      1 hr fast walk 5 days a week, 6 month karo aur isako khawo, jaroor kam hoga.

  5. MERA VAJAN 51KG HAI AUR HEIGHT 4.7 HAI MUJHE PET KI CHARBI KAM KARNI HAI TO ME YE MEDOHARVATI LE SAKTI HU????????
    & HOW TO TAKE IT????????????
    PLEASE REPLY

  6. I m newly married but I want to reduce my weight ,if I use this medicine then there will be any problem in convincing baby or not

    • सिर्फ गोली लेने से नहीं होगा। आप को पूरी लाइफ अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में बदलाव करने होंगे जैसे कंट्रोल्ड खान पान और रोज का व्यायाम। 99kg को नार्मल करने में नेचुरल तरीके से 1-2 साल लग सकते हैं।
      इस दवा के साथ साथ रोज 1घंटे briskwalk, और 2-3 ltr पानी पियें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*