Panchatikta Ghrita Guggulu पंचतिक्त घृत गुग्गुल Details and Uses in Hindi

पंचतिक्त घृत गुग्गुल एक आयुर्वेदिक दवा है। यह दवा, पांच तिक्त/कडवी वनस्पतियों, घी, गुग्गुल और कई अन्य अवयवों से तैयार की जाती है।

Panchatikta Ghrita Guggulu is a polyherbal Ayurvedic formulation. This medicine is useful in skin diseases and variety of diseases.

Here information is given about complete list of ingredients, properties, uses and dosage of this medicine in Hindi language.

Loading...

पंचतिक्त घृत गुग्गुल के फायदे

पंचतिक्त घृत गुग्गुल एक आयुर्वेदिक दवा है। यह दवा, पांच तिक्त/कडवी वनस्पतियों, घी, गुग्गुल और कई अन्य अवयवों से तैयार की जाती है। ये पांच कडवी वनस्पतियों हैं: नीम, पटोल, कंटकारी, वासा, और गिलोय। पंचतिक्त घृत गुग्गुल वात, पित्त और कफ को संतुलित करता है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है। यह दवा त्वचा रोगों के इलाज के लिए विशेष रूप से उपयोगी है।

गुग्गुल भारत में पाए जाने वाले पेड़ कोमिफोरा मुकुल, पेड़ की गोंद से बनाया जाता है। इस पेड़ का सदियों से आयुर्वेदिक चिकित्सा में इस्तेमाल किया जाता है।

गुग्गुल को धमनियों का सख्त होने (atherosclerosis), मुँहासे और अन्य त्वचा रोग, वजन घटाने के लिए, उच्च कोलेस्ट्रॉल कम करने, और गठिया के ईलाज लिए प्रयोग किया जाता है।

Loading...

गुग्गुल में ऐसे पदार्थ पाए जाते हैं जो की कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करते हैं। ये पदार्थ मुँहासे के कुछ प्रकार में सूजन को कम करते हैं।

गुग्गुल में सूजन कम करने और जोड़ों के सही काम करने में मदद करने के गुण भी होते हैं और इसका प्रयोग गठिया, आर्थराइटिस, आदि जोड़ों के विकार में होता है।

नीचे पंचतिक्त घृत गुग्गुल के घटक, गुण, सेवनविधि, और मात्रा के बारे में जानकारी दी गयी है.

घटक Ingredients

Sr. NoNameIn HindiPart UsedQuantity
1.Nimbaनीम की छालStem Bark480 g
2.GuduchiगिलोयStem480 g
3.Vasaवासा वृषRoot480 g
4.Patolaपटोल पत्रLeaf/Plant480 g
5.Kantakariकटेली कंटकारीPlant480 g
6.Waterपानीfor decoction12.288 l reduced to 3.072 l
7.Ghritaगाय का घीGoghrita768 g
8.PathaपाठाRoot12 g
9.Vidangaविडंग’Fruit12 g
10.Suradaru DevadaruदेवदारुHt. Wd.12 g
11.Gajapakulya Gajapippaliगज पिप्पलीFruit12 g
12.Yavakshara Yavaयवक क्षारPlant12 g
13.Sarji Kshara Svarjiksharaसज्जी क्षार12 g
14.SunthiसोंठRhizome12 g
15.Nisha Haridraहल्दीRhizome12 g
16.MishriyaसौंफFruit12 g
17.Cavyaचव्यStem12 g
18.KushthaकूठRoot12 g
19.TejovatiमालकांगनीFruit12 g
20.Maricaकाली मिर्चFruit12 g
21.Vatsaka KutajaकुटजStem Bark12 g
22.Dipyaka YavaniअजवायनFruit12 g
23.Agni Citrakaचित्रकRoot12 g
24.Rohini KatukaकुटकीRoot/Rhizome12 g
25.Arushkara Bhallataka -Suddhaशुद्ध भिलावाFruit12 g
26.VacaवृषRhizome12 g
27.Kanamula Pippaliपिप्पलीRoot12 g
28.Yukta RasnaरसनाRoot/Lf12 g
29.ManjishthaमंजीठRoot12 g
30.AtivishaअतिविशRoot Tuber12 g
31.Vishani Ativisha bhedaअतीसRoot12 g
32.YavaniयवनीFruit12 g
33.Guggulu Suddhaगुग्गुलुExd240 g

मुख्य गुणधर्म और उपयोग Qualities and therapeutic uses

फायदे

  • यह रक्त को शुद्ध करता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है।
  • यह पाचन में सुधार करता है।
  • त्वचा रोगों और घावों के इलाज में मददगार है।
  • वात, पित्त और कफ की ख़राबी की वजह से होने वाली बीमारियों के इलाज में कारगर।
  • यह यकृत को उत्तेजित करता है।
  • यह आंतरिक स्नेहन oleation में मदद करता है।

चिकित्सीय उपयोग

  • संधिगत वात (Osteoarthropathy), अस्थिगत वात (वात हड्डियों तक ही सीमित), मज्जागत वात (अस्थि मज्जा से संबंधित विकार)
  • वाट रक्त (गठिया)
  • नदिव्रण (Fistula), भगंदर (Fistula-in-ano)
  • अर्बुद (Tumor), वृध्धि (Abscess), गण्डमाला (Cervical lymphadenitis)
  • कुष्ठ (Diseases of skin), सिर और गर्दन के रोग
  • गुदा रोग (Anorectal disease), मेह (Excessive flow of urine)
  • यक्षमा (Tuberculosis), अरुचि (Tastelessness)
  • अस्थमा (Dyspnoea/Asthma), पिनास (Chronic rhinitis/sinusitis), कास (Cough)
  • शोथ (Oedema), हृदय रोग (Heart disease), पंडू (Anaemia), पागलपन (Intoxication)

सेवनविधि और मात्रा How to take and dosage

6-12 grams, दिन में दो बार, गाय के दूध या पानी के साथ।

Where to buy

आप इस दवा को सभी फार्मेसी दुकानों पर या ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.