जापानी तेल Japani Oil Uses, Benefits, Side Effects, Dosages, Warnings in Hindi

जापानी तेल एक आयुर्वेदिक मालिश करने का तेल है। इसे लिंग की कमजोरी दूर करने के लिए है और लिंग की कठोरता बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। इससे मालिश करने से बेटर इरेक्शन / लिंग स्तम्भन हो सकता है। इस आयुर्वेदिक दवा का प्रयोग इरेक्टाइल डिसफंक्शन functional ED में किया जाता है। यह फंक्शनल ईडी में फायदेमंद है।

loading...

जापानी तेल में अकरकरा रूट, मल्ल / संखिया खनिज, मालकांगनी बीज, केशर स्टिग्मा, हरताल मिनरल, लवंग फ्लॉवर बड, और जैतून और तिल ऑयल हैं। संखिया और हरताल, विषाक्त खनिज हैं।

जापानी तेल को पेनिस के ऊपर लगाकर अच्छे से मालिश करनी चाहिए। इसे पेनिस के हेड पर नहीं लगाना चाहिए। इसका इस्तेमाल चिकित्सा पर्यवेक्षण के अंतर्गत करें। यदि कोई भी एलर्जिक रिएक्शन हो तो इसका इस्तेमाल नहीं करें।

दवा के बारे में इस पेज पर जो जानकारी दी गई है वह इसमें प्रयुक्त जड़ी-बूटियों के आधार पर है। हम इस प्रोडक्ट को एंडोर्स नहीं कर रहे। यह दवा का प्रचार नहीं है। हमारा यह भी दावा नहीं है कि यह आपके रोग को एकदम ठीक कर देगी। यह आपके लिए फायदेमंद हो भी सकती हैं और नहीं भी। दवा के फोर्मुलेशन के आधार और यह मानते हुए की इसमें यह सभी द्रव्य उत्तम क्वालिटी के हैं, इसके लाभ बताये गए हैं। मार्किट में इसी तरह के फोर्मुले की अन्य फार्मसियों द्वारा निर्मित दवाएं उपलब्ध हैं। इस पेज पर जो जानकारी दी गई है उसका उद्देश्य इस दवा के बारे में बताना है। कृपया इसका प्रयोग स्वयं उपचार करने के लिए न करें। हमारा उद्देश्य दवा के लेबल के अनुसार आपको जानकारी देना है।

Japani Oil is an herbal formulation containing well-known Ayurvedic Oils and used to have better erection for longer duration. This medicine is meant for topical use in males only. It is for external application. It is applied on penis. It should not be applied to the glans penis or the head of penis. Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

  • दवा का नाम: जापानी तेल Japani Oil, Japani Tail, Japani Tel
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • श्रेणी: आयुर्वेदिक तेल Ayurvedic Oil
  • मुख्य उपयोग: इरेक्टाइल डिसफंक्शन
  • मूल्य: Japani Oil Chaturbhuj Pharma 15 ml bottle @ ₹ 171.00

पेनिस में इरेक्शन नहीं होने के कुछ कारण

पुरुष में दृष्टि, विचार या स्पर्श से यौन उत्तेजना आती है। उत्तेजना से मस्तिष्क संकेतों को भेजता है जिससे पेनिस की धमनियों के आसपास की चिकनी मांसपेशियों को रिलैक्स किया जाता है जो पेनिस में रक्त की आपूर्ति करती हैं। खून की बढ़ी हुई राशि से पेनिस कड़ा हो जाता है। त्वचा का दबाव आंशिक रूप से नसों के वाल्व को बंद कर देता है, जिससे इरेक्शन को बनाए रखने में मदद मिलती है। यह इरेक्शन सम्भोग के लिए ज़रूरी है। स्खलन या उत्तेजना के समाप्ति के बाद, रक्त शरीर में वापस लौट जाता है, पेनिस में रक्त के प्रवाह का स्तर सामान्य हो जाता है। शिश्न एक बार फिर वापस से नार्मल अवस्था में आ जाता है।

Loading...

स्तंभन दोष, जो तकनीकी रूप से “संभोग के लिए पर्याप्त निर्माण को प्राप्त करने या बनाए रखने में असमर्थता” के रूप में परिभाषित किया गया है। यह पुरुषों में सबसे आम यौन बीमारियों में से एक है। यद्यपि स्तंभन दोष मुख्य रूप से मूल में मनोवैज्ञानिक हो सकता है, ज्यादातर पुरुषों के लिए यह आमतौर पर एक शारीरिक विकार है, अक्सर कुछ मनोवैज्ञानिक कारणों के साथ आता है। यह निर्धारित करना अक्सर मुश्किल होता है कि स्तंभन दोष का कारण शारीरिक या मनोवैज्ञानिक या संयोजन है।

मनोवैज्ञानिक नपुंसकता आचानक हो सकती है और हाल की स्थिति से संबंधित हो सकती है। इरेक्शन कुछ परिस्थितियों में सक्षम हो सकता है, लेकिन दूसरों में नहीं। सुबह जागने पर इरेक्शन अनुभव नहीं होना से पता चलता है कि समस्या मनोवैज्ञानिक नहीं शारीरिक है।

शारीरिक नपुंसकता धीरे-धीरे होती है, लेकिन समय के साथ लगातार बढ़ती है। अगर नपुंसकता तीन महीने की अवधि में बनी रहती है और ऐसा किसी तनावपूर्ण घटना, नशीली दवाओं के उपयोग, शराब या चिकित्सा की स्थिति के कारण नहीं है, तो व्यक्ति को नपुंसकता के विशेषज्ञ urologist से सलाह करनी पड़ सकती है।

सामान्य स्वास्थ्य में कमी और शारीरिक थकावट इरेक्शन को प्रभावित कर सकते हैं। जब पुरुष बहुत थका हुआ हो, तो उसे केवल एक इरेक्शन हो सकता है, लेकिन फिर भी चरमोत्कर्ष करने में सक्षम हो सकता है। इरेक्शन का टाइम लगभग 30 – 45 मिनट के आसपास हो सकता है।

एंग्जायटी Anxiety में भावनात्मक और शारीरिक परिणाम होते हैं जो इरेक्शन को प्रभावित कर सकते हैं। यह मनोवैज्ञानिक नपुंसकता के लिए सबसे अधिक कॉमन कारणों में से एक है। यौन प्रदर्शन की चिंता, विफलता से आत्म-संदेह का गहन भय पैदा हो सकता है। इस प्रभाव से नपुंसकता का चक्र बन सकता है। एंग्जायटी के जवाब में, मस्तिष्क न्यूरोट्रांसमीटर के रूप में जाने वाले रसायनों को जारी करता है जो लिंग और उसकी धमनियों की चिकनी मांसपेशियों को बाधित करती है। यह रक्त के प्रवाह को कम कर देता है और पेनिस में कड़ापन नहीं आता। सरल तनाव मस्तिष्क के रसायनों की रिहाई को भी बढ़ावा दे सकता है जो पेनिस के इरेक्शन को प्रभावित करते हैं।

  • डिप्रेशन, स्तंभन दोष के साथ जुड़ा हुआ है। एक अध्ययन में, 82% पुरुषों ने मध्यम से गंभीर स्तंभन दोष से पीड़ित पुरुषों में अवसाद के लक्षण भी थे। अवसाद निश्चित रूप से यौन इच्छा कम कर सकता है
  • सामाजिक आर्थिक मुद्दों, जैसे नौकरी खोना या कम आय या होने से नपुंसकता का खतरा बढ़ जाता है।
  • धूम्रपान (विशेष रूप से भारी) को नपुंसकता के विकास में एक योगदानकारी कारक है
  • शराब भी नपुंसकता पैदा करने का कारक है। अधिक मात्रा में शराब यह केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को दबा सकता है और यौन क्रिया को कम कर सकता है।
  • हृदय की समस्याओं, रक्त वाहिकाओं में रुकावट, कोरोनरी हृदय रोग से इरेक्शन दोष हो सकता है। उच्च रक्तचाप में इरेक्शन की समस्या ज्यादा गंभीर है। उच्च रक्तचाप का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के दुष्परिणाम से भी नपुंसकता हो सकती है।
  • पार्किंसंस रोग नपुंसकता के लिए एक जोखिम कारक है।
  • मल्टीपल स्केलेरोसिस केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है और इरेक्शन कम करता है।
  • रीढ़ की हड्डी की चोट और पैल्विक आघात, जैसे कि पैल्विक फ्रैक्चर, तंत्रिका क्षति के कारण हो सकता है जो नपुंसकता का कारण बन सकता है।
  • मधुमेह नपुंसकता के मामलों के रूप में 40% के रूप में योगदान कर सकते हैं।
  • अध्ययनों से संकेत मिलता है कि नियमित साइकिलिंग लिंग के रक्त प्रवाह को कम कर इरेक्शन का जोखिम पैदा कर सकता है।
  • पुरुष नसबंदी से स्तंभन दोष नहीं होता लेकिन यह मनोवैज्ञानिक ढंग से नपुंसकता का कारण हो सकता है।
  • हार्मोन की कमी से इरेक्शन पर असर पड़ सकता है।

जापानी तेल के घटक Ingredients of Japani Oil

Each 5 ml of Japani Tail contain

  • अकरकरा Akarkara Pellitory Root Anacyclus pyrethrum 50 mg
  • संखिया Malla / Sankhia Arsenic Arsenicum 25 mg
  • ज्योतिष्मति Malkangni Staff Tree Oil Celastrus paniculatus Wild 12.5 mg
  • केशर Kesar / Zafran Saffron Crocus sativus 25 mg
  • हरताल Harttal Orpiment Auripigmentum 62.5 mg
  • ओलिव आयल Jaitoon Oil Olive Oil Olea europaea Q.S.
  • लौंग का तेल Laung Clove Oil Syzygium aromaticum 50 mg
  • तिल का तेल Tilli oil Sesame Oil Sesamum indicum Q.S.

अकरकरा, जिसका बोटानिकल नाम एनासाइक्लस पायरेथम Anacyclus pyrethrum है, वह उत्तरी अफ्रीका, अलजीरिया और अरब में पायी जाने वाली वनस्पति है। भारत में उत्पन्न एक अन्य वनस्पति स्पाईलेंथस पेनीकुलेटा Spilanthes paniculata को देसी अकरकरा कहते है। अकरकरा एक औषधीय वनस्पति है। यह काम शक्ति को बढ़ाने और वाजीकारक की तरह, आंतरिक और बाहरी, दोनों ही तरह से प्रयोग किया जाता है। बाहरी रूप से इसका लेप (तिला के रूप में) और आंतरिक रूप से इसे चूर्ण की तरह प्रयोग किया जाता है। इसका सेवन उत्तेजना लाता है और इन्द्रिय को अधिक खून की सप्लाई करता है।

क्लव आयल (साइज़ीगियम एरेमेटिकम) या लौंग का तेल, प्रभावित स्थान पर लगाने से हिस्सा सुन्न हो जाता है और दर्द दूर होता है। लौंग के तेल का दांतों के दर्द में भी इसी कारण से प्रयोग किया जाता है। यह लिडोकेन Lidocaine के लिए एक प्राकृतिक विकल्प के रूप में निर्धारित किया गया है।

इसका बेस तेल तिल का तेल है। तिल का तेल, भारी, संकोचक और स्वाभाव से गर्म है। मालिश करने के लिए यह बहुत ही लाभकारी है।

तिल के तेल को मालिश के तेल बनाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। यह शरीर में वात को कम करता है। इससे मालिश करने से गर्मी आती है।

जापानी तेल के लाभ/फ़ायदे Benefits of Japani Oil

इसमें ज्योतिष्मती है। ज्योतिष्मती पेनिस (शिश्न) की संवहनी चिकनी मांसपेशियों को आराम देती है, जिससे वासोडिलेशन होता है और परिणामस्वरूप पेनिस खड़ा होता है। यह रूबेफिएन्ट के रूप में भी कार्य करता है, जो पुरुष यौन अंग के संवेदनशील तंत्र को उत्तेजित करता है। लताकस्तूरी एक कामोत्तेजक एजेंट है जो यौन इच्छा को बढ़ाता है और साथ ही पेनिस में आए इरेक्शन को बरकरार रखने में सहयोग करता है।

  • यह पेनिस की कमजोरी में फायदेमंद हो सकती है।
  • यह आयुर्वेदिक है और इसका कोई गंभीर साइड इफ़ेक्ट नहीं है।
  • इससे मालिश करने से लिंग की नसें उत्तेजित होती हैं।
  • इससे पुरुष यौन अंग में रक्त प्रवाह बढ़ता है, और अधिक देर तक संभोग करने में भी मदद मिलती है।
  • इसे पुरुष यौन अंग पर लगाने से पेनिस में अच्छा कड़ापन आता है।

जापानी तेल के चिकित्सीय उपयोग Uses of Japani Oil

जापानी तेल का इस्तेमाल अच्छे इरेक्शन के लिए किया जाता है। इसे बाहरी रूप से लगाया जाता है।

इसको लगाने से वैसोडायलेटेशन (dilatation of blood vessels, which decreases blood pressure) होता है, जिससे ब्लड वेसेल फैल जाते हैं और रक्त का प्रवाह अच्छा होता है। रक्त प्रवाह अच्छा होने से लिंग सख्त और कड़ा होता है। यह पेनिस को मॉइस्चराइजिंग असर भी देता है। इसको लगाने से मसल्स रिलैक्स होते है। यह मांसपेशियों को आराम देता है और सूजन दूर करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण हैं।

loading...

इरेक्शन करने के लिए जीवनशैली में बदलाव

  • सामान्य स्वास्थ्य बनाए रखें। हृदय रोग की सम्भावना कम करें।
  • ताजे फल और सब्जियों, साबुत अनाज, और फाइबर खाएं। संतृप्त वसा और सोडियम में कम बहुत कम खाएं। चूंकि स्तंभन दोष अक्सर परिसंचरण की समस्याओं से संबंधित होता है, हृदय को लाभ देने वाले आहार विशेष रूप से महत्वपूर्ण होते हैं।
  • नियमित व्यायाम कार्यक्रम बेहद महत्वपूर्ण है।
  • शराब और धूम्रपान छोड़ना जरूरी है।
  • यौन सक्रिय रहने से नपुंसकता को रोकने में मदद मिल सकती है। बार बार होने वाले इरेक्शन से खून का पेनिस में दौरा ठीक रहता है।
  • Kegel व्यायाम करें। यह उन पुरुषों के लिए सहायक भी हो सकता है जिनके स्तंभन दोष विकृत रक्त परिसंचरण के कारण होता है।
  • यदि दवाएं नपुंसकता पैदा कर रही हैं, तो रोगी और चिकित्सक को विकल्पों या कम मात्रा में होने वाले खुराकों पर चर्चा करनी चाहिए।

जापानी तेल का उपयोग कैसे करें How to Use Japani Oil in Hindi

  • जापानी तेल को 5-7 ड्राप की मात्रा में लेना और लिंग पर लगा कर मालिश करें।
  • अधिकतम प्रभाव के लिए पूरी तरह से मालिश करें।
  • धीरे-धीरे 5 मिनट के लिए मालिश करें। ऐसा दिन में दो बार करें या चिकित्सक द्वारा निर्देशित तरीके से करें।
  • अच्छे परिणाम के लिए इसे तुरंत नहीं धोएं।
  • इसे ग्लांस पेनिस पर न लगायें।
  • इसे ठंडी सूखी जगह पर रखें।
  • सेक्स से पहले पेनिस धो लें।
  • इसे खिड़की के पास, बाथरूम में, सिंक के पास आदि गीली और नम जगहों पर न रखें।
  • इसका इस्तेमाल 2 सप्ताह या अधिक तक करके देखें।

यह निम्न पुरुषों के लिए फायदेमंद हो सकता है:

  • 18 वर्ष या उससे अधिक उम्र के पुरुष
  • 3 महीने की अवधि में इरेक्शन पाने या बनाए रखने में 50% या अधिक विफलता की दर
  • 2 सप्ताह पहले रात में इरेक्शन
  • 2 सप्ताह पहले पूरा सम्भोग किया हो
  • इरेक्शन नहीं आने का कोई शारीरिक कारण नहीं है।

यह निम्न पुरुषों के लिए फायदेमंद नहीं हो सकता:

  • पेनिस में शारीरिक विकृतियां
  • प्रोस्टेट ग्रंथि को निकाला गया है
  • रीढ़ की हड्डी की चोट
  • अस्थिर एनजाइना पेक्टोरिस
  • मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन
  • उच्च रक्तचाप
  • अनियंत्रित मधुमेह
  • हार्मोनल उपचार, एंटीडिप्रेसंट वाले पुरुष
  • एंटीसाइकोटिक या अन्य साइकोएक्टिव ड्रग्स लेने वाले पुरुष आदि।

सावधनियाँ/ साइड-इफेक्ट्स/ कब प्रयोग न करें Cautions/Side effects/Contraindications

  • इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें।
  • यह तेल केवल बाहरी प्रयोग के लिए है।
  • इसका कोई साइड इफ़ेक्ट ज्ञात नहीं है।
  • इस तेल को छिले, घाव, फोड़े आदि होने पर प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  • इसका प्रयोग सेक्स के दौरान स्नेहक के रूप में नहीं किया जाना चाहिए।
  • इसमें मल्ल या आर्सेनिक है जो एक जहरीला रासायनिक पदार्थ है। इसलिए दवा के इस्तेमाल के बाद हाथों को अच्छे से धो लें।
  • बच्चों के पहुँच से बाहर रखें।
  • इस तेल का कोई भी ज्ञात पक्ष साइड इफ़ेक्ट नहीं है हालांकि इसमें संखिया और हरताल होने के कारण 10 से अधिक बोतलों का उपयोग नहीं करना चाहिए।
  • ज़रूरत हो तो डॉक्टर से राय लें।
loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.