हीरक भस्म Heerak Bhasma Detail and Uses in Hindi

Loading...

हीरक भस्म या हीरा भस्म को वज्र भस्म भी कहते हैं। इसे हीrरा जिसे डायमंड कहा जाता है से बनाया जाता है। हीरा बहुत ही कीमती और कठोर माणिक है। आयुर्वेद में इसकी भस्म को शरीर को पुष्ट बनाने वाला, वृष्य और रसायन माना गया है। यह हृदय के लिए उत्तम है और वाजीकारक है। इसके सेवन से रोग दूर होते हैं और शरीर में बल आता है। हीरक भस्म को तपेदिक (टी बी), कफ रोग, वातरोग, मोटापे, पांडु, भगंदर, कोढ़, नपुंसकता, आदि में दिया जाता है।

हीरा भस्म कार्बन बेस्ड दवा है। प्राकृतिक रूप से मिलने वाले हीरे को आयुर्वेदिक तरीके से हीरे की भस्म में बदला जाता है। हीरक भस्म को आयुर्वेद में हृदय के लिए उत्तम बताया गया है। यह सीने में दर्द, हृदय रोग आदि में उपयोगी है और कमज़ोर हृदय को ताकत देने वाली दवा मानी गई है।

हीरक भस्म में एंटीट्युमर गुण भी है और यह कैंसर में भी प्रयोग की जाती है। राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय, हंडिया ने कैंसर को दूर करने के लिए विशेष शोध किया है। इसमें कैंसर रोगियों को हीरक भस्म, गोमूत्र के साथ कुछ दवाओं का सेवन कराया गया। हीरे की भस्म को तीन दर्जन से अधिक कैंसर पीड़ितों में प्रयोग किया गया। इसमें दस रोगियों को तीन सप्ताह में 40 प्रतिशत आराम मिल गया, जबकि 15 ऐसे मरीज थे जिनको पांच सप्ताह में 45 प्रतिशत आराम मिला।

हीरे की भस्म शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है इसलिए यह hiv-एड्स में भी लाभ करती है।

इस पेज पर जो जानकारी दी गई है उसका उद्देश्य इस दवा के बारे में बताना है। कृपया इसका प्रयोग स्वयं उपचार करने के लिए न करें। हमारा उद्देश्य दवा के लेबल के अनुसार आपको जानकारी देना है।

  • अन्य नाम: Heerak Bhasma, Hirak Bhasma, Heera Bhasma, Hiraka Bhasma, Diamond Ash Powder, Vajra Bhasma
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: हीरे की भस्म
  • मुख्य उपयोग: शरीर से रोग हटाना और प्रजनन क्षमता बढ़ाना
  • मुख्य गुण: बल देना

Hiraka, Vidura, Vajra, Svdrichakra and Taraka are synonymous of diamond. The specific oxide of diamond known as Vajra or Hiraka Bhasma or diamond oxide is given in doses of 1/32 to 1/16 grain once a day. The dose can be increased according to condition to be treated. It is powerful but is the most expensive and generally used only in extreme conditions.

loading...

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

हीरक भस्म के घटक Ingredients of Heerak Bhasma

  • हीरा डायमंड
  • प्रयुक्त अन्य द्रव्य कुल्थी का काढ़ा, सेंधा नमक

हीरक भस्म के लाभ / फ़ायदे Benefits of Heerak Bhasma

  • यह वात-पित्त और कफ को संतुलित करने वाली औषध है।
  • यह वाजीकारक है।
  • यह रसायन है।
  • यह दवा शरीर को कांति देती है।
  • यह सारक, कसैली, शीतल, मधुर, नेत्र ज्योतिवर्धक, बलवर्धक, त्रिदोषनाशक, रंग को उत्तम करने वाली और बुद्धिवर्धक औषध है।
  • यह हृदय रोगों में लाभप्रद है।
  • यह शरीर से थकावट दूर करती है।
  • यह शरीर की मांसपेशियों को ताकत देती है।
  • यह इम्युनिटी को बढ़ाती है।

हीरक भस्म के चिकित्सीय उपयोग Uses of Heerak Bhasma

हीरे से बनी यह भस्म, शरीर के अंगों और मांसपेशियों को बल देती है। यह बल्य, हृद्य, मेद्य, वृष्य, और बुढ़ापे को दूर करने वाली औषध है। इसके सेवन से पुरुषों की यौन क्षमता बढ़ती है और परफॉरमेंस सही होती है। यह स्रोतों से रुकावट दूर कर खून के दौरे को ठीक करती है। स्रोतों की रुकावट दूर होने से अंगों तक दवा ठीक से पहुँच कर काम करने लगती है।

  • अस्थमा
  • एड्स
  • कैंसर
  • ट्युबरकुलोसिस
  • डायबिटीज
  • धमनियों का सिकुड़ जाना
  • नपुंसकता
  • मोटापा
  • वाजीकरण
  • वीर्य विकार
  • शीघ्रपतन
  • हृदय में दर्द
  • हृदय रोग

हीरक भस्म की सेवन विधि और मात्रा Dosage of Heerak Bhasma

हीरक भस्म को सही प्रकार से लेने के लिए वैद्य से संपर्क करें। रोगानुसार इसे अन्य औषधियों के साथ दिया जाता है।

  • 2 mg से 10 mg दिन में एक बार लें।
  • इसे दूध के साथ लें।
  • इसे भोजन करने के बाद लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

सावधनियाँ / साइड-इफेक्ट्स / कब प्रयोग न करें Cautions/Side effects/Contraindications

  • हीरक भस्म को केवल डॉक्टर की देख-रेख में इस्तेमाल करें।
  • इसे बिना डॉक्टरी सलाह के लेना खतरनाक हो सकता है।
  • हीरक भस्म का अधिकता में सेवन से पेट में जलन तथा पेट के अन्य लक्षण हो सकते हैं।
  • इसे बताई गई मात्रा और समय तक ही लिया जाना चाहिए।
  • इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें।
  • इसे डॉक्टर द्वारा बताई मात्रा से ज्यादा मात्रा में न लें।
  • हीरक भस्म को गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान न लें।
  • लाभ पाने के लिए डॉक्टर से सलाह कर, सही दवाओं के कॉम्बिनेशन में इसे प्रयोग करे।

उपलब्धता

  • इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।
  • बैद्यनाथ Baidyanath Heerak Bhasma
  • डाबर Dabur Heerak Bhasma 100mg का मूल्य MRP 860 रुपए है।
  • पतंजलि Patanjali Divya Pharmacy Heerak Bhasma 300 mg का प्राइस MRP INR 720 रुपए है।
  • उंझा Unjha Hirak Bhasma/ heerak bhasma 100mg का मूल्य INR 803 है।
  • श्री धूतपापेश्वर Shree Dhootapapeshwar Limited SDL Heeraka Bhasma
  • तथा अन्य बहुत सी फर्मसियाँ।
loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*