पतंजलि हरीतकी चूर्ण के फायदे और नुकसान

पतंजलि हरीतकी चूर्ण Haritaki Churna Uses, Benefits, Side Effects, Dosage, Warnings in Hindi, हरितकी से बनाई गई है जो सभी पाचन से संबंधित समस्याओं के लिए उपयोगी है। यह पाचन एंजाइमों को बढ़ाकर पाचन में सहायता करती है। इसे खाने से पोषक तत्वों के अवशोषण में सुधार होता है, कब्ज और पाइल्स की समस्या में आराम होता है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करता है। हरितकी पाचन के लिए उपयोगी गुणों से भरपूर है।

  • दवा का नाम: पतंजलि हरीतकी चूर्ण Patanjali Haritaki Churna
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: हर्बल आयुर्वेदिक दवा
  • मुख्य उपयोग: पाचक, विरेचक
  • मुख्य गुण: विरेचन
  • गर्भावस्था में प्रयोग: नहीं करें
  • डायबिटीज में प्रयोग: कर सकते हैं
  • उच्च रक्तचाप में प्रयोग: कर सकते हैं
  • मूल्य: 100 ग्राम की कीमत 33 रुपये है

पतंजलि हरीतकी चूर्ण का वात-पित्त या कफ प्रभाव

  • वात कम करना।
  • पित्त वृद्धि करना।
  • कफ कम करना।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण के आयुर्वेदिक गुण और कर्म

  • रस (taste on tongue): मधुर, अम्ल, कटु, तिक्त, कषाय
  • गुण (Pharmacological Action): लघु, रुक्ष
  • वीर्य (Potency): उष्ण
  • विपाक (transformed state after digestion): मधुर

प्रधान कर्म

  • अनुलोमन: द्रव्य जो मल व् दोषों को पाक करके, मल के बंधाव को ढीला कर दोष मल बाहर निकाल दे।
  • आमदोषहर: टोक्सिन दूर करे।
  • कफ नि:सारक: चिपके बलगम की चिपचिपाहट कम कर कफ को बाहर निकालने वाला।
  • कफहर: द्रव्य जो कफ को कम करे।
  • क्षुधावर्धक: द्रव्य जो भूख बढ़ाए।
  • दीपन: द्रव्य जो जठराग्नि तो बढ़ाये लेकिन आम को न पचाए।
  • मूत्रल: द्रव्य जो मूत्र ज्यादा लाये। diuretics
  • रक्तप्रसादक: रक्त परिसंचरण को बढ़ाने वाला।
  • हृदय: दिन को ताकत देने वाला।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण के घटक Ingredients of Haritaki Churna

हरीतकी के पेरिकार्प का चूर्ण

पतंजलि हरीतकी चूर्ण के फायदे Benefits of Haritaki Churna

  • हरीतकी अफारे को दूर करती है।
  • हरीतकी पेट रोगों में प्रयोग की जाने वाली सबसे प्रभावी औषध है।
  • हरीतकी Terminalia chebula आयुर्वेद की रसायन औषधि है।
  • हरीतकी पेट के कीड़ों को भी नष्ट करती है।
  • हरीतकी मूत्रल और दस्तावर है।
  • हरीतकी सूजन को दूर करती है।
  • हरीतकी, विरेचक laxative, कषाय astringent, और रसायन tonic है।
  • हरीतकी, विषाक्त पदार्थों को शरीर से निकलती है व अधिक वात को काम करती है।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण के चिकित्सीय उपयोग Uses of Haritaki Churna

चिकित्सीय रूप से आप पतंजलि हरीतकी चूर्ण को निम्नलिखित स्वास्थ्य स्थितियों में प्रयोग कर सकते हैं:

Loading...
  • अपच Indigestion
  • अफारा Flatulence
  • अरुचि Anoraxia
  • अर्श piles
  • उदररोग digestive diseases
  • उदावर्ता gas
  • कब्जconstipation
  • कास cough
  • गुल्म gulma
  • जीर्णज्वर chronic fever
  • तमक श्वास asthma
  • पाइल्स piles
  • पाण्डु jaundice
  • प्रमेह prameha
  • फिस्टुला fistula
  • विबन्ध constipation
  • विषमज्वर intermittent fever
  • शोथ inflammation
  • हृदयरोग diseases of heart

पतंजलि हरीतकी चूर्ण की औषधीय मात्रा Dosage of Haritaki Churna

वयस्क इसको निम्न मात्रा में ले सकते हैं:

2-5 ग्राम।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण को कैसे लें (सेवन विधि)?

इसे भोजन करने के बाद में लें।

Loading...

पतंजलि हरीतकी चूर्ण का अनुपान क्या हो?

  • इसे शहद, हल्के गर्म पानी के साथ लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण कितने दिनों तक लें?

दवा को 1 से दो महीने ले सकते हैं। लेकिन रोग और रोगी की स्थिति के अनुसार ही दवा का ट्रीटमेंट कोर्स होता है। अतः डॉक्टर की राय लें।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण के इस्तेमाल में सावधनियाँ Cautions

  • हरीतकी के सेवन से पित्त बढ़ता है।
  • हरीतकी का अधिक सेवन शरीर में ड्राईनेस लाता है।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण का गर्भावस्था में प्रयोग

गर्भावस्था में हरीतकी का सेवन नहीं करना चाहिए।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण के साइड-इफेक्ट्स Side effects

  • हरीतकी स्वभाव से गर्म है इसलिए इसके सेवन से पित्त बढ़ता है।
  • हरीतकी के सेवन का विरेचक प्रभाव होता है।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण को कब प्रयोग न करें Contraindications

  • जिन लोगों को अधिक प्यास लगती हो, मुख सूखता हो और नया बुखार हो उन्हें भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  • जो लोग कमजोर, बल रहित, रुक्ष, कृश, अधिक पित्त वाले हों उन्हें हरीतकी का सेवन नहीं करना चाहिए।
  •  उपवास में भी इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए।

पतंजलि हरीतकी चूर्ण का ड्रग इंटरेक्शन Drug Interaction

इस बारे में जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसलिए डॉक्टर की राय प्राप्त करें।

भंडारण निर्देश

  • सूखी जगह में स्टोर करें।
  • इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें।

उपलब्धता

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

Haritaki Churna (Classical medicine) is Herbal Ayurvedic medicine. It is indicated in treatment of diegstive diseases. Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.