आयुर्विन नुट्रीगेन के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि और प्राइस

आयुर्विन नुट्रीगेन भूख, पाचन और मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है जिससे वज़न बढ़ता है। यह उन लोगों के लिए टॉनिक है जो की दुबलेपन की शिकायत से परेशान है। नुट्रीगेन में आयुर्वेद के जाने माने घटक है जैसे की अश्वगंधा, शतावरी, मुस्ली, इला, आंवला, त्रिकटु आदि।

आयुरविन नुट्रीगेन, एक हर्बल हेल्थ सप्लीमेंट है। इसके सेवन से शरीर का वज़न बढ़ता है और पतलापन दूर होता है। यह भूख, पाचन और मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है जिससे वज़न बढ़ता है। यह उन लोगों के लिए टॉनिक है जो की दुबलेपन की शिकायत से परेशान है। नुट्रीगेन में आयुर्वेद के जाने माने घटक है जैसे की अश्वगंधा, शतावरी, मुस्ली, इला, आंवला, त्रिकटु आदि। इसके सेवन से शरीर में भूख बढ़ती है और पित्त का अधिक स्राव होता है, जिससे पाचन बेहतर होता है। यह सभी फैक्टर वेट गेन में सहयोगी है। यह पूरी तरह से हर्बल है।

Ayurwin Nutrigain is completely herbal medicine for Emaciation (Karshya), General Debility (Samanya Dourbalya) and auto immune diseases. It increases appetite, digestion and assimilation. All these factor contributes to gain weight.

Loading...

It is suitable for both male and female. But as it contains few ingredients which works on hormones, therefore it must not be given to children below the age of 15 years. It is also important to do exercise daily for at least half an hour for visible results.

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

  • ब्रांड: आयुर्विन Ayurwin Pharma Pvt. Ltd.
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • दवाई का प्रकार: हेल्थ सप्लीमेंट फॉर यूनिसेक्स (महिला और पुरुष दोनों के लिए)
  • मुख्य उपयोग: वज़न बढ़ाना

रेंज:

Loading...

Ayurwin Nutrigain Plus Granules / Powder

Ayurwin Nutrigain capsules

MRP: रूपये 655.00 / 500 gram, 60 capsules for Rs. 497.00

नुट्रीगेन के घटक | Ingredients of Nutrigain in Hindi

Ayurwin Nutrigain Plus Granules / Powder

100 gram में,

  • कार्बोहायड्रेट Carbohydrate 74 grams
  • प्रोटीन Protein 15 grams
  • फैट Fat 5 grams
  • द्राक्षा Grapes extract 1 gram
  • खजूर Dates extract 1 gram
  • सारिवा Sariva extract 0.8 gram
  • अश्वगंधा Ashwagandha extract 0.5 gram
  • गोखरू Gokshura extract 0.5 gram
  • जीरक Jeeraka extract 0.5 gram
  • पिप्पली Pippali extract 0.1 gram
  • मरिचा Maricha extract 0.1 gram
  • शुण्ठी Shunti extract 0.1 gram
  • आमलकी Amalaki extract 0.1 gram
  • शतावरी Shatavari extract 0.1 gram
  • मुस्ली Mushali extract 0.1 gram
  • इलाइची Ela extract 0.1 gram
  • शहद Madhu (honey) 0.5 gram

Ayurwin Nutrigain capsules

हर कैप्सूल में,

  1. अश्वगंधा Ashwagandha 50mg
  2. शतावर Shatavari 50mg
  3. मुस्ली Mushali 50mg
  4. आंवला Amalaki 40mg
  5. गोखरू Gokshura 50mg
  6. पिप्पली Pippali 50mg
  7. मारीचा Maricha 50mg
  8. शुण्ठी Shunti 50mg
  9. छोटी इलाइची Ela 50mg
  10. जीरा Jeeraka 50mg

इसमें शतावरी और अश्वगंधा हैं, इसलिए इसके सेवन से शरीर में चर्बी बढती है और पतलापन दूर होता है।

अश्वगंधा और सफ़ेद मुस्ली भी उत्तम रसायन या टॉनिक हैं। इन्हें इंडियन जिन्सेंग भी कहा जाता है यह वज़न को बढ़ाती है और डिप्रेशन/अवसाद को दूर करती हैं।

इला / इलायची, के बीज त्रिदोषहर, पाचक, वातहर, पोषक, विरेचक और कफ को ढीला करने वाला है। यह मूत्रवर्धक है और मूत्र विकारों में राहत देता है। इलाइची के बीज अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, गले के विकार, बवासीर, गैस, उल्टी, पाचन विकार और खाँसी में उपयोगी होते हैं।

त्रिकटु सौंठ, काली मिर्च और पिप्पली का संयोजन है। यह आम दोष (चयापचय अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों), जो सभी रोग का मुख्य कारण है उसको दूर करता है। यह बेहतर पाचन में सहायता करता है और कब्ज करता है। यह यकृत को उत्तेजित करता है। यह तासीर में गर्म है और कफ दोष के संतुलन में मदद करता है।

पिप्पली, उत्तेजक, वातहर, विरेचक है तथा खांसी, स्वर बैठना, दमा, अपच, में पक्षाघात आदि में उपयोगी है। यह तासीर में गर्म है। पिप्पली पाउडर शहद के साथ खांसी, अस्थमा, स्वर बैठना, हिचकी और अनिद्रा के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। यह एक टॉनिक है।

Loading...

मरिच या मरिचा, काली मिर्च को कहते हैं। इसके अन्य नाम ब्लैक पेपर, गोल मिर्च आदि हैं। यह एक पौधे से प्राप्त बिना पके फल हैं। यह स्वाद में कटु, गुण में गर्म और कटु विपाक है। इसका मुख्य प्रभाव पाचक, श्वास और परिसंचरण अंगों पर होता है। यह वातहर, ज्वरनाशक, कृमिहर, और एंटी-पिरियोडिक हैं। यह बुखार आने के क्रम को रोकता है। इसलिए इसे निश्चित अंतराल पर आने वाले बुखार के लिए प्रयोग किया जाता है।

अदरक का सूखा रूप सोंठ या शुंठी dry ginger is called Shunthi कहलाता है। एंटी-एलर्जी, वमनरोधी, सूजन दूर करने के, एंटीऑक्सिडेंट, एन्टीप्लेटलेट, ज्वरनाशक, एंटीसेप्टिक, कासरोधक, हृदय, पाचन, और ब्लड शुगर को कम करने गुण हैं। यह खुशबूदार, उत्तेजक, भूख बढ़ाने वाला और टॉनिक है। सोंठ का प्रयोग उलटी, मिचली को दूर करता है।

आयुरविन नुट्रीगेन के फायदे | Benefits of Ayurwin Nutrigain in Hindi

  1. यह वज़न / चर्बी को बढ़ाता है।
  2. इसके सेवन से ज्यादा एनर्जी मिलती है।
  3. यह एक्टिव रखने में सहयोगी है।
  4. यह शरीर में पित्त बढ़ाता है।
  5. यह आम दोष दूर करता है।

आयुरविन नुट्रीगेन के चिकित्सीय उपयोग | Uses of Ayurwin Nutrigain in Hindi

  1. कम वज़न underweight
  2. बॉडी बिल्डिंग muscles building
  3. फिटनेस के लिए maintaining fitness
  4. वज़न बढ़ाने के लिए to gain weight
  5. भूख, पाचन और अवशोषण को बढ़ाने के लिए

आयुरविन नुट्रीगेन की सेवन विधि और मात्रा | Dosage of Ayurwin Nutrigain in Hindi

  1. करीब 25 gm (2 scoops) Nutrigain को 50 ml गर्म दूध में डालें और मिलायें। इसमें 150 ml दूध और मिलाएं। अगर ज़रूरत हो तो चीनी मिला लें। इसे दिन में एक या दो बार खाने के बाद लें।
  2. १-२ कैप्सूल दिन में दो बार लें।
  3. अगर लैक्टोस इन्टोलेरेंस हो तो पानी में मिलाकर लें।
  4. इसे सुबह और शाम लें।
  5. इसे भोजन करने के बाद लें।
  6. इसके सेवन के दौरान कम से कम आधे-एक घंटे का व्यायाम ज़रूरी है।
  7. पानी पर्याप्त मात्रा में पियें। लस्सी, छाछ का सेवन करें।
  8. परिमाण कुछ महीने में दिखते हैं। रिजल्ट्स सभी के लिए एक जैसे नहीं हो सकते।
  9. इसे ठंडी, सूखी जगह पर रखें।
  10. प्रत्यक्ष सूर्य के प्रकाश से दूर रखें।
  11. फ्रिज में न रखें।
  12. हर प्रयोग के बाद जार कसकर बंद करें।
  13. कंटेनर खोलने के बाद 1 महीने से डेढ़ महीने के भीतर का प्रयोग करें। कैप्सूल और ग्रेन्युल का एक साथ प्रयोग, 3-6 महीने तक, मांसपेशियों को ताकत देता है।

Contraindications, Interactions, Side-effects and Warnings in Hindi

  1. इसमें त्रिकटु या त्रिकुटा है जो की तासीर में गर्म है। यदि शरीर में पित्त रोग हैं, अधिक गर्मी है,ब्लीडिंग डिसऑर्डर-a ulcers है तो इसका सेवन सावधानी से करें।
  2. इसे अधिक मात्रा में न खाएं। ज्यादा मात्रा में सेवन पेट दर्द, लूज़ मोशन, उलटी, एसिडिटी कर सकता है।
  3. गर्भवती महिलायें, स्तनपान कराने वाली माताएं और मधुमेह के रोगी इसका सेवन न करें।
  4. सेवन की मात्रा और दवा खाने के परिणाम, पाचन, उम्र तथा अन्य कारकों पर निर्भर हैं।
  5. यह 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के सेवन के लिए नहीं है।
Loading...

23 thoughts on “आयुर्विन नुट्रीगेन के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि और प्राइस

  1. Mam Mera gal pichka huaa hai may isko le sakta hu ?? Meri age 19 yars hai. Koi upaay btaiye jisse chehra full Jay. mujhe mote hone me koi intereste nahi hai.please Bataiye

    • Kitne dino tak eska sewan karna hai esko chhod dene par kya fir se pahle jesa ho jaye ga

    • Are yarr mera to batao koi sar ji ab hight 5.10 hogya hai wet 46 hi hai fitness thik hai bas wet ruka hua hai

  2. mai bahut hi patla hu… starting se hi…gaal dhase hue hi…agr ise lene ke baad mai exercise na kru..tho kya mujhe fayada hoga..
    mujhe ye kab tak lena chayie ise…

  3. Maim main mota hona chahata hu ise le sakta hu kinte bar din main or kitne din chhorne ke bad dubla to nahi ho jaunga

    • aap ka waight abhi bhi bana huaa h ya kam ho gya.
      eska koi saide efect to nhi h
      plz.. jawab jarur de

  4. Actually me sirf 18 years ki hu aur meri hight achchi he magar heath aur body fitness ki problem he kya main iska use kar sakti hu

  5. Dear sir main bhut pareshaan hoon meri bs height bad ri hai or wazan ni badra plzz kuch upay btaiyain
    maine apke product ke bare main suna kya sahi m wazan badhane main helpful h oske koi side effects to ni h ???
    kripya jaldi batayain i am very depressed.

    • ji puri duniya wajan ghatane ke liye paresaan hai aur aap badhane ke liye, koi jaroorat nahi hai wajan badhane ki, dubala patla shareer theek hota hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.