नारियल पानी Coconut Water in Hindi

नारियल के पेड़ के कच्चे हरे फलों में जो पानी मिलता है उसे नारियल पानी या नारियल जूस Coconut water or coconut juice कहते है। यह पानी ही धीरे-धीरे सफ़ेद गिरी में बदल जाता है। गिरी के बनने से पहले कच्चे फल तोड़ देने पर यह तरल पदार्थ पीने के काम आता है। कच्चे नारियल आजकर पूरे देश में मिलते हैं। इनका पानी सेहत के लिए बहुत ही लाभकारी है। इन्हें काटने के बाद तुरंत ही पी लेना चाहिए।

Loading...

coconut water

नारियल पानी तासीर में ठंडा cold in potency होता है। यह शरीर में वात और पित्त को कम करता है और कफ increases phlegm को बढ़ाता है। नारियल पानी का सेवन शरीर में एसिड की मात्रा को कम करता है। अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण यह शरीर को कैंसर जैसे रोगों से बचाता है। इसके सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। ऐसे तो नारियल पानी 95.5 % पानी है लेकिन इसमें विटामिन्स, मिनरल्स, फायटो होर्मोनेस तथा अन्य उपयोगी घटकों की अच्छी मात्रा पायी जाती है। इसका सेवन स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है।

तो आगे पढ़ें, इसके औषधीय गुणों, लाभदायक प्रभाव, कितना पियें और साइड-इफेक्ट्स के बारे में।

स्थानीय नाम

  1. Latin name: कोकस न्यूसीफेरा Cocos nucifera Linn।
  2. English: कोकोनट पाम Coconut Palm
  3. Ayurvedic: नारिकेला,नालिकेरा, लांगली, तुंगा Naarikela, Naalikera, Laangali, Tunga, Skandhaphala, Sadaaphala, Trnaraaja, Kuurchshirshaka, Trinaraja
  4. Unani: नारियल Naarjeel, Naariyal
  5. Siddha/Tamil: Thenkai Kopparai (kernel of ripe coconut)
  6. Kerala: Thengu, Nalikera
  7. Assamese: Khopra
  8. Bengali: Narikel, Narikel
  9. Gujrati: Naliar, Nariyel, Shriphal, Koprun
  10. Hindi: नारियल या गोला Nariyal, Gola
  11. Kannada: Khobbari, Tengnamara, Temgu, Thengu, Thenginamara
  12. Malayalam: Nalikeram, Ten, Thengu, Keram
  13. Marathi: Naral
  14. Oriya: Nariyal
  15. Punjabi: Narela, Khopra, Garigola
  16. Tamil: Tenkai, Kopparai
  17. Telugu: Narikelamu, Tenkay, Kobbari
  18. Urdu: Narjil, Narial

नारियल पानी में पाए जाने वाले पोषक पदार्थ

नारियल पानी में 95.5 पानी, चीनी, इलेक्ट्रोलाइट्स, खनिज, पौधे के होर्मोनेस, और एमिनो एसिड्स पाए जाते है। इसमें अन्य खुशबूदार तत्व भी पाए जाते हैं जो की इसे विशिष्ट स्वाद देते हैं। इसमें ट्रेस एलेमेंट्स जिंक, सेलेनियम, आयोडीन, सल्फर, मैंगनीज, बोरोन, मोलेबिडियम आदि भी होते हैं।

  1. प्रति 100 gram, में लगभग निम्न होते हैं:
  2. पानी Water 95.5 %
  3. पोटैशियम Potassium 312 mg
  4. क्लोरीन Chlorine 183 mg
  5. सोडियम Sodium 105.0 mg
  6. फॉस्फोरस Phosphorus 37 mg
  7. मैग्नीशियम Magnesium 30 mg
  8. कैल्शियम Calcium 29 mg
  9. सल्फर Sulphur 24 mg
  10. कार्बोहायड्रेट Carbohydrates 4.0 mg
  11. लोहा Iron 0.5 mg
  12. खनिज Mineral matter 0.4 mg
  13. वसा Fat 0.1 mg
  14. प्रोटीन Protein 0.1 mg
  15. कॉपर Copper 0.04
  16. कैल्शियम Calcium 0.02 mg
  17. फॉस्फोरस Phosphorus 0.01 mg

नारियल पानी के औषधीय गुण Medicinal Properties of Coconut Water

  1. कृमिनाशक anthelmintic ऐन्थेल्मिन्टिक
  2. विषहर antidote ऐन्टिडोट
  3. रोगाणुरोधी antimicrobial
  4. जीवाणुरोधी antibacterial
  5. मूत्रल diuretic
  6. विरेचक Laxative
  7. एंटीऑक्सीडेंट Antioxidant
  8. ज्वरनाशक Antipyretic/antifebrile
  9. शीत Cooling
  10. वाजीकारक Aphrodisiac

नारियल पानी पीने के लाभ

नारियल पानी पीने के ढेरों लाभ है। यह बुखार, पेचिश, हैजा, पेशाब के रोगों, हृदय के रोगों, गर्भावस्था आदि सभी में फायदेमंद है। किसी भी तरह के बुखार में इसका सेवन शरीर को ताकत देता है और पानी की कमी दूर करता है। ओआरएस ORS घोल की जगह इसका प्रयोग किया जा सकता है। गर्मी के मौसम में होने वाली आम बिमारियों जैसे की अधिक प्यास लगना, नकसीर फूटना, खून बहने के विकार, पेचिश, हाथ-पैर की जलन, नसें खिंचना आदि में इसका सेवन इन दिक्कतों को दूर करता है। नारियल पानी को मुहांसों पर भी लगा सकते है।

loading...
  1. यह एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल है।
  2. यह एंटीऑक्सीडेंट है और शरीर की फ्री सेल डैमेज से रक्षा करता है।
  3. इसका इलेक्ट्रोलाइट प्रोफाइल मनुष्य के प्लाज्मा human plasma की तरह है।
  4. यह शरीर में पानी की कमी को दूर करता है। उलटी, दस्त, अतिसार, लूज़ मोशन में इसका सेवन करना बहुत हितकर है।
  5. यह मूत्रल diuretic गुणों के कारण पथरी, पेशाब कम आना, पेशाब में प्रोटीन जाना, पेशाब का इन्फेक्शन आदि में लाभ करता है।
  6. पेशाब रोगों urinary diseases में यह एंटीसेप्टिक का काम करता है।
  7. यह शरीर को साफ़ करता है। इसके सेवन से एसिड की मात्रा शरीर में कम होती है और रक्त क्षारीय होता है।
  8. यह शरीर में इलेक्ट्रोलाइट की कमी को दूर करता है और बार-बार प्यास लगने को रोकता है।
  9. नारियल का पानी कॉलरा cholera रोग में फायदेमंद है क्योंकि इसमें पोटैशियम, सोडियम तथा एनी इलेक्ट्रोलाइट मौजूद है।
  10. इसमें पोटैशियम और क्लोरीन की अच्छी मात्रा होती है जिस कारण से यह हृदय, यकृत और गुर्दे के रोगों में विशेष रूप से लाभकारी है।
  11. पित्त की अधिकता से बुखार, डेंगू, ब्लीडिंग डिसऑर्डर, शरीर में अधिक गर्मी, हरारत, आदि में इसका सेवन न केवल शरीर को ज़रूरी पानी और पोषक पदार्थ देता है अपितु शीत गुणों के कारण यह शरीर का तापक्रम भी कम करता है।
  12. इसमें वसा fat free नहीं होता।
  13. यह विरेचक diuretic गुणों के कारण कब्ज़ में राहत देता है।
  14. यह वीर्य sperms को बढ़ाता है। इसके सेवन से पुरषों-स्त्रियों में कामेच्छा libido बढ़ती है। यह फर्टिलिटी को बढ़ाता है।
  15. गर्भावस्था में इसका सेवन बहुत लाभ करता है। यह ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करता है। पैरों में बार-बार होने वाले क्रैम्प को रोकता है। इसके सेवन से शरीर में पानी की कमी नहीं होती। इसमें फोलेट और विटामिन बी है जो गर्भवस्था में विशेष रूप से ज़रूरी हैं। इसके सेवन से स्वस्थ्य सुन्दर संतान होती है।
  16. यह पेट के कीड़े नष्ट करता है।
  17. यह शरीर को ठंडा cooling रखता है।
  18. नकसीर epistaxis/nosebleed की समस्या, ब्लीडिंग डिसऑर्डर abnormal bleeding due to excessive pitta में, यह लाभप्रद है।
  19. यह शरीर को ताकत देता है।

एक दिन में कितना नारियल पानी पिए?

  1. आप एक नारियल का पानी, दिन में एक या दो बार पी सकते है।
  2. अधिक मात्रा में इसका सेवन शरीर पर दुष्प्रभाव डालता है।

साइड-इफेक्ट्स

  • नारियल पानी का सेवन स्वास्थ्य के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है।
  • इसका शरीर पर किसी भी तरह का टॉक्सिक प्रभाव नहीं होता।
  • लेकिन इसका अधिक मात्रा में सेवन शरीर पर कई प्रकार के बुरे असर कर सकता है।

नीचे नारियल पानी के अधिक सेवन के कारण शरीर पर होने वाले दुष्प्रभाव दिए गए है:

  1. मूत्रल गुण होने से, इसका ज्यादा सेवन ज्यादा पेशाब लायेगा।
  2. ज्यादा पेशाब होने से किडनी को ज्यादा काम करना पड़ेगा।
  3. विरेचक होने से, लूज़ मोशन हो सकते हैं।
  4. इसमें अच्छी मात्रा में इलेक्ट्रोलाइट्स होने से, शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स का असंतुलन हो सकता है।
  5. तासीर में ठंडा होने से यह कफ अधिक बनाएगा।
  6. यह खून में शुगर की मात्रा बढ़ा सकता है।
  7. अधिक मात्रा में सेवन शरीर में पोटैशियम की मात्रा बढ़ा सकता है जिससे हृदय की धड़कन बढ़ सकती है, सुन्नता आती है, जी मिचलाना और उलटी आदि हो सकती है।
  8. ज्यादा मात्रा में सेवन वज़न भी बढ़ा सकता है।
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*