Pawanmuktasana पवनमुक्त आसन Method, Benefits and Contraindication in Hindi

पवनमुक्त आसन का शाब्दिक मतलब है आसन जो पवन या हवा को मुक्त कराये। यह आसन पेट में गैस ठीक करने के लिए उत्कृष्ट है और इसलिए ही पवनमुक्त आसन कहलाता है। यह आसन पैनक्रीयास pancreas और पेट के अन्य अंगों organs in abdomen को सक्रिय करता है। यह हिप जॉइंट hip joint को भी ढीला करता है और पेट की मांसपेशियों muscles of abdomen और आँतों intestine को सक्रिय करता है। इस वजह से ये गैस और कब्ज़ की समस्या में राहत देता है।

Loading...

पवनमुक्त आसन करने की विधि How to do Pawanmuktasana

पीठ के बल, पैरों और हाथों को सीधा कर लेट जाएँ।

दाहिना पैर मोड़ें इसे दोनों हाथों को लाक करके पकड़ें और पेट पर दबाएँ। इस घुटने को छाती पर सांस छोड़ते हुए लायें।

सर को उठायें और नाक की टिप या ठोड़ी से घुटने को छूने का प्रयास करें। सांस लेते रहें। 10 सेकंड के लिए इस स्थिति में ही रहे।

बायाँ पैर सीधा ही रखें।

सांस लेते हुए दाहिना पैर फैलाएं और शुरू की स्तिथि में आ जाएँ।

loading...

यही प्रक्रिया बांये पैर के साथ दुहरायें। और फिर दोनों पैरों को एक साथ लेते हुए दुहरायें।

हमेशा दायें पैर शुरुवात करें। नियमित रूप से अभ्यास करें। दोनों पैर से ५-१० बार तक अपनी क्षमता के अनुसार करें। यह आसन खड़े हो कर भी बारी-बारी से दोनों पैरों से किया जाता है।

पवनमुक्त आसन के लाभ Benefits of doing Pawanmuktasana

  • पीठ और पेट की मांसपेशियों को मजबूत करता है Strengthens muscles of abdomen and back
  • पेट की बढ़ी हुई चर्बी को कम करता है reduces obesity
  • आंतों और अन्य अंगों पेट में मालिश होती है Massages
  • यह पेट की और आँतों की मांसपेशियों को टोन करता है Tones muscles
  • पाचन को सही करता है Corrects digestion
  • गैस और कब्ज़ की समस्या को दूर करने में मदद करता है Gives relief in gas and constipation
  • रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है improves blood circulation
  • शरीर के ऊपर के हिस्सों को मजबूत करता है strengthens upper body parts
  • मेरूदंड और कमर के नीचे के हिस्से में मौजूद तनाव दूर करता है Reduces tension in spine
  • प्रसव के बाद यह गर्भाशय को वापस वास्तविक स्तिथि में लाने में मदद करता है Restores the original position of uterus after delivery

यदि आप निम्न स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो पवन मुक्त आसन न करे

Contraindication of Pawanmuktasana

  • कमर दर्द, हर्निया hernia, स्लिप डिस्क slip disk
  • उच्च रक्तचाप, दिल की समस्या hypertension, heart diseases
  • हाइपर-एसिडिटी Hyperacidity
  • अंडकोष विकार
  • माहवारी periods, गर्भावस्था pregnancy
  • गर्दन और पीठ की समस्याओं में

इन स्तिथियों में इसे न करें या करें भी तो कुशल प्रशिक्षक की देख रेख में ही करें। जिनके घुटनों में तकलीफ हो उन्हें स्वस्थ होने के बाद ही यह योग करना चाहिए।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*