Depression in Hindi | डिप्रेशन के कारण, लक्षण और इलाज

Know about mental depression treatment in ayurveda in hindi, home remedies for depression in hindi. जानिये डिप्रेशन के प्रकार, बचने के उपाय, दवा, इलाज। डिप्रेशन का आयुर्वेदिक इलाज डिप्रेशन से छुटकारा दिलाता है।

क्या आप लगभग हर दिन दुखी, खाली और निराशाजनक महसूस करते हैं? क्या आपने अपने शौक या दोस्तों और परिवार के साथ में रुचि या खुशी खो दी है? क्या आपको सोने, खाने और काम करने में परेशानी हो रही है? यदि आपको कम से कम 2 सप्ताह के लिए इस तरह महसूस हुआ है, तो आपको अवसाद (Depression) हो सकती है, यह एक गंभीर लेकिन इलाज किया जाने वाली दिमागी बीमारी हो सकती है।

अवसाद क्या है? What is depression?

कभी-कभार सभी को दुखी या कमी लगती है, लेकिन ये भावनाएं आमतौर पर थोड़े समय में चली जाती हैं अवसाद – जिसे नैदानिक अवसाद(clinical depression) या अवसादग्रस्तता विकार(depressive disorder) भी कहा जाता है- एक दिमागी विकार है जो परेशान करने वाले लक्षणों का कारण बनता है जो आप सोचने समझने और दैनिक क्रियाकलापों को प्रभावित करते हैं, जैसे कि बहुत ज्यादा सोना या बहुत काम सोना, भोजन करना या बहुत ज्यादा करना। अवसाद के निदान के लिए, इसके लक्षणों को काम से काम २ सप्ताह तक होना चाहिए।

विभिन्न प्रकार के अवसाद क्या हैं? | What are the different types of depression?

सामान्य रूप से अवसाद दो प्रकार के होते हैं

Loading...

Major depression:
इस प्रकार के डिप्रेशन में इसके लक्षण रोज काम से काम २ सप्ताह तक रहते हैं जैसे की ठीक से नींद न आना पड़ने में परेसानी और खाना ठीक से न खाना, ऐसा किसी के भी जीवन में एक बार से ज्यादा हो सकता है।

Persistent depressive disorder (dysthymia)| हमेसा डिप्रेसिव रहना:
इस तरह के डिप्रेशन में डिप्रेशन के लक्षण का काम से काम २ साल तक रहते हैं, हो सकता है ये लक्षण कम या ज्यादा हों।

कुछ प्रकार के अवसाद थोड़ा अलग होते हैं, या वे किसी खास परिस्थितियों में विकसित हो सकते हैं, जैसे:

Loading...

१- Perinatal Depression: इस तरह का डिप्रेशन गर्भावस्था में या डिलीवरी के बाद हो सकता है, इसमें भी सारे लक्षण होते हैं।

२- Seasonal Affective Disorder (SAD): इस प्रकार के डिप्रेशन मौसमी होते हैं जो मौसम चेंज होने के साथ होता है और ठीक हो जाता है। ज्यादातर इस प्रकार का डिप्रेशन शुरुआती सर्दी में सुरु होता है और बसंत आते आते ठीक हो जाता है।

३- Psychotic Depression | मनोवैज्ञानिक अवसाद: इस प्रकार की अवसाद तब होती है जब किसी व्यक्ति को गंभीर अवसाद से अधिक मनोविकृति के कुछ प्रकार होते हैं, जैसे कि गलत विश्वासों (भ्रम) या सुनने या उन चीजों को परेशान करने जैसे जो दूसरों को सुन नहीं सकते या नहीं देख सकते हैं (मतिभ्रम)।

What causes depression? अवसाद का कारण क्या है?
बहुत सरे लोगों पर किये गए अनुसंधान से पता चलता है कि आनुवंशिक, जैविक, पर्यावरण और मनोवैज्ञानिक कारकों का एक संयोजन अवसाद के मुख्या कारण हैं।

अन्य गंभीर बीमारियों, जैसे मधुमेह, कैंसर, हृदय रोग और पार्किंसंस रोग के के कारण भी अवसाद (डिप्रेशन) हो सकता हैं। ड्प्रेशन की वजसे से ये बीमारिया और बढ़ जाती है। कभी-कभी इन बीमारियों के लिए ली गई दवाओं के कारण दुष्प्रभाव हो सकते हैं जिसके कारन डिप्रेशन हो सकता है।

अवसाद के लक्षण क्या हैं? What are the signs and symptoms of depression?

उदासी अवसाद का केवल एक छोटा सा हिस्सा है और कुछ लोगों को उदासी का सामना नहीं करना पड़ सकता है। अलग-अलग लोगों के अलग-अलग लक्षण हैं अवसाद के कुछ लक्षणों में शामिल हैं:

  1. लगातार उदासी, चिंतित, या “खाली” मूड
  2. निराशा या निराशावाद की भावनाएं
  3. अपराध, निष्ठा, या असहाय की भावनाएं
  4. शौक या गतिविधियों में रुचि या खुशी की कमी होना
  5. ऊर्जा में कमी, थकान
  6. निर्णय लेने, याद रखने, या निर्णय लेने में कठिनाई
  7. सोने में कठिनाई होना, नींद न आना या बहुत नींद लगना
  8. भूख और / या वजन में परिवर्तन
  9. मृत्यु या आत्महत्या या आत्महत्या के प्रयासों के विचार
  10. बेचैनी या चिड़चिड़ापन
  11. दर्द, सिरदर्द, ऐंठन या पाचन समस्याएं बिना किसी स्पष्ट शारीरिक कारण और / या जो उपचार के साथ भी कम नहीं होती हैं

क्या अवसाद(Dipression) के लक्षण हर किसी में एक ही जैसे होते हैं?

नहीं। अवसाद अलग-अलग तरीकों से अलग-अलग लोगों को प्रभावित करता है। उदाहरण के लिए:

महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अक्सर अधिक डिप्रेशन होता है। औरतों के शरीर में बहुत सारे हार्मोनल बदलाव होने के कारण महिलाओं में डिप्रेशन ज्यादा होता है। अवसाद के साथ महिलाओं में आम तौर पर उदासी, निष्ठा और अपराध के लक्षण होते हैं

अवसाद के साथ पुरुषों को बहुत थका हुआ, चिड़चिड़ा और कभी-कभी गुस्सा हो सकता है। वे काम या गतिविधियों में रुचि रखते हैं जिन्हें वे एक बार मजा आया, नींद की समस्याएं हैं, और बिना बेतहाशा व्यवहार करते हैं, जिनमें ड्रग्स या शराब का दुरुपयोग भी शामिल है। बहुत से लोग अपने अवसाद को नहीं पहचानते हैं और सहायता प्राप्त करने में विफल होते हैं।

पुरुषों में डिप्रेशन की वजह से थकान, चिड़चिड़ाहट और गुस्सा आना शामिल है। इसके अलावा नींद न आना, बहुत ज्यादा अग्रेशन की समस्या हो सकती है। पुरुषों में डिप्रेशन की वजह शराब और ड्रग भी होता है।

अवसाद के साथ छोटे बच्चे बीमार होने का नाटक करते हैं, स्कूल जाने से इंकार कर सकते हैं, माता-पिता से चिपक सकते हैं, या चिंता कर सकते हैं कि माता-पिता मर सकते हैं

बड़े बच्चों और किशोर अवसाद के साथ स्कूल में परेशानी हो सकती है स्कूल, चिड़चिड़ा, और चिड़चिड़ा हो। अवसाद के साथ किशोरों में अन्य विकारों के लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि चिंता, खाने का विकार, या मादक द्रव्यों के सेवन।

डिप्रेशन का इलाज कैसे होता है ?

इन सभी लक्षणों के होने पर सबसे पहले किसी डॉक्टर या मनो चिकिस्तक को दिखाना चाहिए, वही सही सलाह दे सकते है और दवाये दे सकते हैं। डिप्रेशन मनोचिकिसक की सलाह और दवाइयों से ठीक हो जाता है। डिप्रेशन के लक्षण होने पर किसी डॉक्टर को दिखाकर ही इलाज करना ठीक रहता है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.