Nightfall स्वप्नदोष Information and Home Remedies

loading...

स्वप्नदोष या नाईटफाल को चिकित्सा दृष्टि से nocturnal emissions नोकटर्नल एमीशन कहा जाता है। इसमें नींद के दौरान सपने देखते हुए वीर्य का अनैच्छिक स्खलन होता है। स्वप्नदोष किशोरावस्था और शुरुआती वयस्क वर्षों में बहुत ही सामान्य होते हैं तथा ये शरीर में हार्मोनल परिवर्तन के कारण होते हैं। यौवनस्था शुरू होने पर दिन के अलग अलग समय पर erections हो सकते हैं। यदि व्यक्ति किसी भी यौन गतिविधि में शामिल नहीं है, तो ये एक तरीका है जिससे वीर्य शरीर से स्वाभाविक रूप से बाहर निकाला जाता है। इसके होने से युवाओं को कोई ग्लानि महसूस नहीं करनी चाहिए।

अगर 21-30 दिनों की अवधि के बाद स्वप्नदोष या नाईटफाल होता है तब यह पूरी तरह से सामान्य है और चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। लेकिन अगर वे एक सप्ताह में दो बार या उससे अधिक बार होते हैं और कुछ लक्षणों के साथ हैं जैसे की चक्कर आना, कमजोरी, नींद अशांति आदि तो उन्हें असामान्य माना जा सकता है।

Other Names

Sex dreams, Night discharge, Wet dreams, Swapna dosh, Night Fall

कुछ उपयोगी घरेलू उपचार / हर्बल उपचार स्वप्नदोष

आयुर्वेद में स्वप्नदोष होने का कारण, शरीर में अतिरिक्त गर्मी, सामान्य कमजोरी, नसों की कमजोरी, कब्ज और सेक्स के बारे में बहुत ज्यादा सोचना माना जाता है। इसका इलाज करने के लिए पूरे स्वास्थ्य में सुधार करने की कोशिश करनी चाहिए। स्वास्थ्यकर भोजन खाने और अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों से परहेज करके ऐसा किया जा सकता है।

अगर शरीर में पाचन सम्बन्धी विकार और कब्ज है तो पहले उसका इलाज करना महत्वपूर्ण है।

शरीर को ठंडक देने वाली जड़ी बूटियों का प्रयोग करके शरीर के अंदर अत्यधिक गर्मी को कम करने की कोशिश करनी चाहिए।

loading...

खाना ऐसा होना चाहिए जो सुपाच्य हो तथा गैस पैदा न करे।

अधिक सलाद खाने और त्रिफला पाउडर जैसे कुछ आयुर्वेदिक दवाई लेने से जीर्ण कब्ज ठीक हो सकता है। त्रिफला पाउडर तीन फल जैसे आंवला, हरीतकी, विभितकी के पेरिकार्प का सूखा पाउडर है। पांच ग्राम त्रिफला बिस्तर पर जाने से पहले गुनगुने पानी के साथ लिया जाना चाहिए। त्रिफला के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि यह आदत न बनाने वाला रेचक है। सनाए के पत्ते कई ओटीसी हर्बल विरेचक दवाओं का एक आवश्यक घटक है लेकिन ये एक आदत डालने बनाने वाला रेचक है।

चार ग्राम कबाब चीनी (Piper cubeba) को एक गिलास दूध के साथ मिला कर पीना उपयोगी है।

सोने से हल्दी वाला दूध लिया जाना चाहिए।

हल्दी और तिल के बीज का पाउडर बराबर मात्रा में मिलाया जाना चाहिए और तीन ग्राम की मात्रा में लिया जाना चाहिए।

ईसबगोल भूसी या Psyllium husk को पानी के साथ रात में लिया जाना चाहिए। यह लगातार 1-2 महीने के लिए लिया जाना चाहिए।

बरगद का दूध हर सुबह बताशे के साथ लिया जाना चाहिए।

शतावर, सफेद मूसली, तामलखाना और गोखरू को बराबर राशि में मिला कर तैयार का लें और दूध के साथ चार ग्राम की खुराक में लें।

प्रत्येक दस ग्राम अश्वगंधा, शतावर, विदारी (Pueraria Tuberosa), और तीस ग्राम शुगर/मिश्री मिला एक पाउडर तैयार करें। सभी हर्बल सामग्री पीस लीजिये, चीनी पाउडर अच्छी तरह से मिला लें। इस पाउडर को 2 ग्राम की खुराक में लिया जाना चाहिए।

अश्वगंधा चूर्ण Ashwagandha churna दूध के साथ लेने भी उपयोगी है।

गुलकंद Gulkand 10grams कब्ज, शरीर में गर्मी और स्वप्नदोष के लिए एक कारगर उपाय है।

पानी खूब पिएं।

यदि वजन कम है, तो इसे बढ़ाने का प्रयास करें।

वयस्क टीवी या वयस्क फिल्म न देखें। अच्छी किताबें पढ़ें, और प्राणायाम करें।

कुछ खाद्य पदार्थ रोगों के इलाज करने के लिए मदद करते है लेकिन कुछ समस्या को बढ़ाते हैं। ऐसे खाद्य पदार्थों की सूची नीचे दी गई हैं।

ये खाद्य पदार्थों खाने से बचें Foods to avoid

  • मांस, अंडे, मछली, शराब
  • बहुत मसालेदार भोजन
  • चिलगोजे, बैंगन, सूखे मेवे अखरोट
  • खट्टे खाद्य पदार्थों, चाट, चटनी
  • चाय, कॉफी, कैफीन और जंक फूड

ये खाद्य पदार्थों खायें Food to eat

  • सुपाच्य/आसानी से पाचन योग्य खाद्य पदार्थ
  • हल्का डिनर, सलाद के साथ
  • गाय का दूध, दही, मेथी दाना
  • ताज़े फल और सब्जियां
  • चावल, दाल, सूप, खिचड़ी

व्यायाम और प्राणायाम नियमित रूप से करें। प्राणायाम शरीर को ऑक्सीजन प्रदान करता है और शांति देता है।

भुजंग आसन, सूर्य नमस्कार, वज्र आसन, पद्म आसन और सर्वांग आसान करें।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*