फाइटो फेमीजेन के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि

फेमीजेन S।G। Phyto Pharma Pvt। Ltd। द्वारा निर्मित आयुर्वेदिक दवा है जिसे स्त्री रोग लिकोरिया के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है।

फेमीजेन SG Phyto Pharma Pvt। Ltd। द्वारा निर्मित आयुर्वेदिक दवा है जिसे स्त्री रोग लिकोरिया के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है। आम बोलचाल की भाषा में लिकोरिया को सफ़ेद पानी Safed pani की समस्या या वाइट डिस्चार्ज White discharge भी कहा जाता है। आयुर्वेद में यह प्रदर का एक प्रकार है जिसे श्वेत प्रदर कहा जाता है। आयुर्वेद में इसे कफ रोग कहा गया है जो प्रायः कमजोर स्त्रियों में देखा जाता है। श्वेत प्रदर में योनी से असामान्य स्राव abnormal discharge होता है। लिकोरिया में जनन अंगों के आस-पास खुजली itching और जलन भी होती है।

Phyto Femigen is an herbal medicine used in management of leucorrhoea/Shwet Pradar or white discharge. There is discharge of yellow-green colour with offensive smell in leucorrhoea. Generally it is caused due to microbial or yeast infection.

Loading...

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

फेमीजेन के घटक | Ingredients of Phyto Femigen in Hindi

Each Femigen Capsule contains

  • अशोक Ashok Saraca indica 30 mg
  • लोध्र Lodhra Symplocos racemosa 30 mg
  • बबूल Babul Acacia arabica 30 mg
  • शाल्मली Pandhari Savari Bombax pentandrum 30 mg
  • दारुहल्दी Daruhaladi Berberis aristata 30 mg
  • आम की छाल Amra Bark Mangifera Indica 30 mg
  • जामुन Jammun Eugenia Jambolana 30 mg
  • मोचरस Mocharas Bombax malbaricum 30 mg
  • कसीस भस्म Kasis Bhasma Processed ferrous sulphate 30 mg

फेमीजेन के लाभ | Benefits of Phyto Femigen in Hindi

  • यह एक हर्बल दवा है।
  • इसके सेवन से भिन्न कारणों से हुआ लेकोरिया ठीक होता है।
  • यह पेल्विस से कंजेशन दूर करती है।

फेमीजेन के चिकित्सीय उपयोग | Uses of Phyto Femigen in Hindi

  • लिकोरिया
  • मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव या मेनोरेजिया
  • पीठ में दर्द, योनि के आस-पास जलन, खुजली, दर्द, सूजन आदि

सेवन विधि और मात्रा | Dosage of Phyto Femigen in Hindi

  • 2 गोली, दिन में दो बार, सुबह और शाम लें।
  • इसे भोजन करने के बाद लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।
  • इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.