नीम घन वटी के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि और प्राइस

नीम घन वटी दवा का केवल एक ही घटक है जो की नीम है। नीम घन वटी मुख्य रूप से चमड़ी के रोगों के लिए प्रयोग की जाती है। यह शरीर का वजन भी कम कराती है।

निम्ब या नीमघन वटी, एक आयुर्वेदिक दवाई है जिसे नीम से बनाया गया है। इस दवा का केवल एक ही घटक है जो की नीम है। नीम घन वटी मुख्य रूप से चमड़ी के रोगों के लिए प्रयोग की जाती है।

नीम के बारे में जानकारी

नीम को बहुत ही प्राचीन समय से चिकित्सीय रूप में प्रयोग किया जाता रहा है। नीम कड़वे रस वाला, कफ-नाशक, पित्तनाशक, भूख बढ़ाने वाला, खुजली, चमड़ी रोगों को दूर करने वाला और ज्वर नाशक है।

Loading...

यह पसीने को साफ़ करता है और शरीर से मोटापा हटाता है।

नीम का सेवन कृमि नाशक है। त्वचा रोगों में नीम का बाह्य और आंतरिक दोनों ही प्रयोग होता है। फोड़े-फुंसी, मुहासों में तो नीम का लेप बहुत ही कारगर है।

नीम के पत्तों को बुखार, मलेरिया, दस्त, त्वचा रोगों, डाईबिटिज़, के लिए घरेलू उपचार की तरह प्रयोग किया जाता है।

Loading...

नीम में बहुत से ऐसे कड़वे केमिकल पाये जाते हैं जो की एंटीपिरीयोडिक यानि की रोगों के दुबारा होने होने को रोकने वाले है। इस गुण के कारण बुखार में गिलोय के पत्ते और नीम के पत्ते पीस कर ५ ग्राम की मात्रा में तीन दिन तक दिए जाते है।

नीम का किसी भी रूप में सेवन लीवर, खून को साफ़ करता है।

आयुर्वेद, में यह माना जाता है किसी भी त्वचा विकार के होने का मुख्य कारण शरीर में दूषित पदार्थों की मौजूदगी है। नीम कृमि नाशक है और यह खून साफ़ करता है। यह विष नाशक है। शरीर की गर्मी, अधिक पित्त, अधिक कफ इसके सेवन से दूर होते है।

Neem Ghan Vati is an Ayurvedic medicine in tablet form. It is used in treatment of skin diseases. The only ingredients of this medicine is Neem. Neem is used in India since thousands years to treat various diseases. It effective in treatment of fever, malaria, diseases of skin etc. It is bitter and detoxifies blood and liver. Ghan Vati is prepared by making decoction of herb and then cooking it further to make it thick, which is then dried and rolled in form of pill. Ghan Vati can be understood as highly concentrated dried decoctions in tablet form. Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

नीम घन वटी के घटक | Ingredients of Neem Ghan Vati in Hindi

प्रत्येक गोली में ५०० mg नीम का एक्सट्रेक्ट

नीम घन वटी के लाभ | Benefits of Neem Ghan Vati in Hindi

  • यह एंटीसेप्टिक, एंटीफंगल, एंटीमिक्रोबिअल, एंटीवायरल और एंटी-पाईरेटिक (बुखार को कम) है।
  • यह खून से दूषित विषाक्त पदार्थों को दूर करती है।
  • यह आम त्वचा विकारों में लाभदायक है।
  • यह लीवर को डीटोक्सीफाई करने में मदद करती है।
  • यह शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है।
  • यह विषों से लीवर की रक्षा करती है।
  • यह बुखार, मलेरिया में लाभकारी है।

नीम घन वटी के चिकित्सीय उपयोग | Uses of Neem Ghan Vati in Hindi

  • मुहांसे
  • एग्जिमा
  • त्वचा विकार
  • खून में गन्दगी

सेवन विधि और मात्रा | Dosage of Neem Ghan Vati in Hindi

  • 1/2 गोली (below 12 year) से 1 गोली (above 12 year), दिन में दो बार, सुबह और शाम लें।
  • इसे दूध/ पानी के साथ लें।
  • इसे भोजन करने के बाद लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

You can buy this medicine online or from medical stores।

This medicine is manufactured by Patanjali Divya Pharmacy (Patanjali Neem Ghan Vati or Nimb Ghan Vati).

Loading...

Comments are closed.