Malkangni Oil Details

Malkangni oil or Jyotishmati oil is obtained from the seeds of the medicinal plant Celastrus paniculatus. This oil is highly beneficial in stimulating intellect and sharpening the memory. It also acts as a potential nerving tonic, rejuvenator and an anti-depressant। It is powerful stimulant for neuromuscular system is also used for the treatment of rheumatism, gout, headache, leucoderma, leprosy and paralysis. This oil is used both internally and externally.

Loading...

मालकांगनी तेल को ज्योतिष्मती तेल के नाम से भी जाना जाता है। इसे एक औषधीय पौधे \’सेलसट्रस पेनिक्यूलेटा\’ के बीजों से प्राप्त किया जाता है। बीजों को कोल्ड प्रेस करने पर इनसे जो तेल मिलता है वही ज्योतिष्मती तेल कहलाता है। सेलसट्रस पेनिक्यूलेटा का आयुर्वेदिक नाम ज्योतिष्मति, कटभी, ज्योतिष्का, पारावतपदी, और पण्या लता है। यह क्योंकि बुद्धि पर प्रभाव डालता है इसीलिए इसका नाम ज्योतिष्मति दिया गया है।

मालकांगनी तेल का प्रयोग मस्तिष्क संबंधी विकारों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। बहुत सी अन्य औषधियों के साथ यह आमवात, वातरक्त, वातव्याधि या कुष्ट रोगों में भी प्रयोग किया जाता है।

मालकांगनी तेल के आयुर्वेदिक गुण

  • वमन कारक
  • पित्त बढ़ाने वाला
  • स्मरण शक्ति बढ़ाने वाला
  • रसायन
  • वात दोष , कृमि दोष और कफ दोष नाशक

मालकांगनी तेल का उपयोग

यह तेल मस्तिष्क पर प्रभाव डालता है। यह दिमाग का टॉनिक है जो स्मृति, एकाग्रता और सीखने को बढ़ाता है।

  1. इस तेल का प्रयोग मानसिक थकान, तनाव और अवसाद में राहत देता है।
  2. मालकांगनी तेल expectorant है और खाँसी और अस्थमा के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  3. इस तेल को गठिया, लकवा सहित मांसपेशियों और जोड़ों की सूजन के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है।
  4. यह तेल एंटी ऑक्सीडेंट और भूख बढ़ानेवाला गुण है। यह भूख लगने और पाचन में सुधार करता है।

मालकांगनी तेल को स्मृति, एकाग्रता और सीखने की क्षमता बढ़ाने के लिए, वात विकार, नींद न आने में, पुराने सिरदर्द में, पार्किन्सन आदि में प्रयोग किया जाता है।

बाह्य रूप से, यह तेल विशेष रूप से जोड़ों में दर्द, अल्सर, त्वचा रोग, पक्षाघात, लकवा, गठिया और चेहरे का पक्षाघात जैसे वात रोगों में, मालिश के लिए प्रयोग किया जाता है।

loading...

मालकांगनी तेल की मात्रा

2- 10 बूँदें, दूध के साथ, दिन में दो बार।

loading...

6 thoughts on “Malkangni Oil Details

  1. kya malkangini ka oil ek hi prakar ka hota hai, kya jo oil artherities me malish ke liye hai usko pine(drink) me prayog kiya ja sakta hai ya pine ka oil alag hota hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*