कल्याणक घृत Kalyanaka Ghrita Detail and Uses in Hindi

कल्याणक घृत, एक आयुर्वेदिक घी है। इसके सेवन से मानसिक रोगों जैसे की उन्माद, अपस्मार, दिमाग की कमजोरी, बुद्धि की कमी, में लाभ होता है। इसके अतिरिक्त यह आवाज़ के विकार, इनफर्टिलिटी, कमजोरी, वीर्य दोष आदि में भी दी जाती है। कल्याणक घृत का सेवन शरीर, दिमाग और प्रजनन अंगों को स्वस्थ्य और मजबूत बनाता है। यह पाचन की कमजोरी, और श्वसन अंगों के विकारों में भी लाभप्रद है। गर्भावस्था में इसके सेवन से होनी वाली संतान स्वस्थ्य और बुद्धिमान होती है।

Loading...

Kalyanaka Ghrita is an Ayurvedic ghee useful in mental and psychological ailments. It cures mental and general weakness. Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

कल्याणक घृत के घटक Ingredients of Kalyanaka Ghrita

  • हरीतकी (P.) 12 g
  • बिभीतका (P.) 12 g
  • आमलकी (P.) 12 g
  • विशाला (Rakta indravaruni) (Fr.) 12 g
  • भाद्रिला (Sthulaila) (Sd.) 12 g
  • देवदारु (Ht. Wd.) 12 g
  • एलवालुका (St. Bk.) 12 g
  • श्वेता सारिवा (Rt.) 12 g
  • कृष्णा सारिवा (Rt.) 12 g
  • हरिद्रा (Rz.) 12 g
  • दरहरिद्र (St.) 12 g
  • शालपर्णी (Pl.) 12 g
  • पृश्निपर्णी (Pl.) 12 g
  • फलिनी (Priyangu) (Fl.) 12 g
  • नता (Tagara) (Rt./Rz.) 12 g
  • बृहती (Pl.) 12 g
  • कुष्ठ (Rt.) 12 g
  • मंजिष्ठा (St.) 12 g
  • नागकेसर (Nagakeshara) (Stmn.) 12 g
  • दाड़िम -फल त्वक (Fr.) 12 g
  • वेल्ला (Vidanga) (Fr.) 12 g
  • तालीशपत्र (Talisa) (Lf.) 12 g
  • एला (Sukshmaila) (Sd.) 12 g
  • मालती मुकुल (jati) (Fl.) 12 g
  • उत्पला (Fl.) 12 g
  • दन्ती (Rt.) 12 g
  • पद्मका (Ht. Wd. 12 g
  • हिमा (Rakta candana) (Ht. Wd.) 12 g
  • सर्पि (Goghrita) 768 g

कल्याणक घृत के लाभ/फ़ायदे Benefits of Kalyanaka Ghrita

  • यह दिमाग के विकारों में बहुत लाभप्रद है।
  • इसके सेवन से बुद्धि की कमजोरी दूर होती है।
  • यह हकलाना, तुतलाना, आदि को दूर करता है।
  • इसके सेवन से गर्भपुष्टि होती है।
  • गर्भावस्था में इसका सेवन बच्चे की बुद्धि और शारीरिक विकास में सहयोग देता है।
  • यह इनफर्टिलिटी को दूर करता है और वीर्य और गर्भ को शक्ति देता है।
  • यह अत्यंत पौष्टिक है।
  • यह स्निग्ध है और आन्तरिक रूक्षता दूर करता है।
  • यह वज़न, कान्ति, और पाचन को बढ़ाता है।
  • यह कब्ज़ से राहत देता है।
  • यह दिमाग, नसों, मांस, आँखों, मलाशय आदि को शक्ति प्रदान करता है।
  • यह धातुओं को पुष्ट करता है।
  • यह पित्त विकार को दूर करता है।

कल्याणक घृत के चिकित्सीय उपयोग Uses of Kalyanaka Ghrita

  • अपस्मार (Epilepsy), हिस्टीरिया, पागलपन
  • भूतोन्माद (Exogenous psychosis)
  • उन्माद (Schzophrenia)
  • वंध्यत्व (Infertility)
  • योनिरोग (Disease of female genital tract)
  • कास (Cough)
  • पाण्डु (Anaemia)
  • बाल ग्रह (Specific disorders of children)
  • विषविकार (Morbidity due to Poisonous substance),
  • घरविष (Slow / accumulated poison)
  • कण्डु (Itching)
  • शोष (Oedema)
  • मेद (Adipose tissue)
  • भ्रम Delusion ज्वर (Fever)
  • स्मृति दौर्बल्य (Weak memory)
  • दौर्बल्य (Weakness)

सेवन विधि और मात्रा Dosage of Kalyanaka Ghrita

  • 1/4-1 चम्मच दिन में दो बार, सुबह और शाम लें।
  • इसे दूध अथवा गर्म पानी के साथ लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

कृपया ध्यान दें, आयुर्वेदिक दवाओं की सटीक खुराक आयु, ताकत, पाचन शक्ति का रोगी, बीमारी और व्यक्तिगत दवाओं के गुणों की प्रकृति पर निर्भर करता है।

मोटापा, हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल में एहतियात के साथ इस दवा का उपयोग करना चाहिए।

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

You can buy this medicine online or from medical stores.

loading...

This medicine is manufactured by Kerala Ayurveda (Kalyanaka Ghritham), SDP (Kalyanaka Gritha), Kottakkal Arya Vaidya Sala (Kalyanaka Ghritam), Atharv\’s (Kalyanaka Ghritam), AVP (Kallyanaka Gritham), Nagarjuna (Kalyanaka Ghrita) and many other Ayurvedic pharmacies.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*