गंधक रसायन Gandhak Rasayan Detail and Uses in Hindi

गंधक रसायन त्वचा रोगों के लिए उपलब्ध एक आयुर्वेदिक दवाई है। यह दवा गंधक को हर्बल घटकों की भावना दे कर बनाई जाती है जिससे इसमें अतिरिक्त चिकित्सीय गुण आते हैं और यह शरीर में आसानी से अवशोषित की जा सकती है।

Loading...

सल्फर को संस्कृत और हिन्दी में \’गंधक\’ के नाम से जाना जाता है। इसमें सड़े-अंडे की तरह गंध आती है इसलिए इसे गंधक कहते है। इसकी चार किस्में हैं लाल, पीला, सफेद और काला। इनमें से लाल और काले गंधक अब उपलब्ध नहीं है। पीली किस्म को आंतरिक उपयोग के लिए और सफेद को बाहरी प्रयोग रूप से प्रयोग किया जाता है।

आयुर्वेद में, शुद्ध सल्फर को विभिन्न प्रकार के रोगों के उपचार में प्रयोग किया जाता है। कम मात्रा में इसके आंतरिक प्रयोग से यह त्वचा, श्लेष्म झिल्ली पर कार्य करता है है। यह मूत्रवर्धक और विरेचक है। यह पित्त को बढ़ाता है और त्वचा रोगों, गठिया बढ़े हुए प्लीहा आदि में उपयोगी है। सल्फर आंतरिक और बाह्य दोनो रूपों में त्वचा के रोगों के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है।

Gandhak Rasayan is an Ayurvedic medicine containing Sulphur as chief ingredient.

The preparation of Gandhak Rasayan involves trituration of Suddha gandhaka (purified Sulphur) with Godugdha गो दुग्ध (Cow milk), Chaturjata चातुर्जात काढ़ा decoction (Dalchini + Ela + Tejpatra + Nagkeshara), Giloy juice swarasa, Triphala त्रिफला (Amla + harad + baheda) काढ़ा decoction, Sunthi ड्राई जिंजर पाउडर काढ़ा decoction, Bhringaraja swarasa भृंगराज का रस and Ardraka swarasa अदरक का रस, for 8 times each. The processing of Gandhak in herbal juices and decoctions gives it additional therapeutic properties and makes Sulphur more absorbable.

Gandhaka Rasayana is used in the treatment all types of kustha (skin diseases), nadivrana (sinuses) and kosthagata roga (Gastro-intestinal disorders).

loading...

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

गंधक रसायन के घटक Ingredients of Gandhak Rasayan

शुद्ध गंधक

भावना द्रव्य: चातुर्जात काढा, गिलोय रस, त्रिफला काढा, सोंठ काढा, भृंगराज रस और अदरक रस।

गंधक रसायन के लाभ/फ़ायदे Benefits of Gandhak Rasayan

  • यह रोगाणुरोधी antimicrobial, जीवाणुरोधी antibacterial, कवक रोधी antifungal, सूजन दूर करने के anti-inflammatory गुणों से भरपूर है।
  • यह खून purifies blood साफ़ करता है।
  • यह दर्द से राहत देता है pain reliving और घावों को जल्दी भरने fastens wound heling में मदद करता है।
  • यह क्रोनिक/पुराने त्वचा रोगों में लाभकारी प्रभाव दिखाता है।
  • यह शक्ति, पोषण देता है और पाचन में सुधार करता है।
  • यह रंग में सुधार improves complexion करता है।

गंधक रसायन के विशेष गुण

  • कुष्ठाघ्न Kushthaghna: Cure skin diseases.
  • विषघ्न Vishaghna: Act as antidotes to poisons.
  • जंतुघ्न Jantughna: Kills worms.
  • पित्तशामक Pittashamak: Pacifies excess pitta.
  • उष्णवीर्य: Hot in potency.
  • रसायन: Tonic.

गंधक रसायन के चिकित्सीय उपयोग Uses of Gandhak Rasayan

  • यह एक रसायन है। आयुर्वेद में, वे जड़ी बूटी/औषधि जो दीर्घायु, स्मृति, स्वास्थ्य, जीवन शक्ति, को बढ़ावा देती हैं उन्हें रसायन कहा जाता है।
  • यह जीवाणु और कवक के कारण होने वाले त्वचा रोगों skin diseases of bacterial and fungal origin के लिए अच्छी आयुर्वेदिक दवा है।
  • सभी प्रकार के त्वचा रोगों में लाभप्रद (फंगल इन्फेक्शन, दाद-खाज-खुजली, रूसी, खुजली, फोड़े-फुंसी, कंडू, कुष्ठ, खुजली,पामा, एक्जिमा, मुहांसे)
  • उपदंश या यौन रोग
  • भगंदर
  • नाड़ीव्रण
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकार
  • वात-रक्त, गठिया
  • पुराना बुखार
  • खून साफ़ करने के लिए

सेवन विधि और मात्रा Dosage of Gandhak Rasayan

  • 500 मिलीग्राम-1 ग्राम या 1-3 गोली, दिन में दो बार, सुबह और शाम लें।
  • इसे पानी के साथ लें।
  • इसे भोजन करने के बाद लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

This medicine is available in form of Guti/Vati/Tablets from various Ayurvedic Pharmacies like Baidyanath (Gandhak Rasayan), Dabur (Gandhak Rasayan), Zandu (Gandhak Rasayan) and Shri Dhootapapeshwar Limited (Gandhak Rasayan Guti).

loading...

2 thoughts on “गंधक रसायन Gandhak Rasayan Detail and Uses in Hindi

    • Kya aap ka pet saaf hota hai, agar constipation(Kabj) hai? Agar hai to sabase pahale usaka ilaag karaiye, sex sambandhi lagabhag sabhi bimarion ka mukhya karan kabj hoti hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*