दिव्य वृक्कदोषहर क्वाथ

दिव्य वृक्कदोषहर क्वाथ(Divya Vrikkdoshhar Kwath) स्वामी रामदेव की दिव्य फार्मेसी में निर्मित आयुर्वेदिक दवा है। वृक्क/गुर्दे /kidney शरीर के वे अंग हैं जिनका प्रधान कार्य मूत्र उत्पादन (रक्त शोधन कर) करना है।

Loading...

Divya Vrikkdoshhar Kwath is Ayurvedic medicine from Swami Ramdev’s Divya pharmacy. This medicine supports proper functioning of kidney and urinary system. It shows beneficial effect in urinary infections, inflammation and infection of kidney, stones and chronic renal failure.

Here is given information about complete list of ingredients, properties, uses and dosage of this medicine in Hindi.

This medicine is also known as Patanjali Vrikkdoshhar Kwath.

यह दवा गुर्दे और मूत्र प्रणाली के समुचित कार्य में मदद करता है। यह मूत्र संक्रमण, सूजन और गुर्दे के संक्रमण, पथरी, और क्रोनिक रीनल फेल्योर में फायदा करता है।

नीचे इस दवा के घटक, गुण, सेवनविधि, और मात्रा के बारे में जानकारी दी गयी है।

loading...

घटक Ingredients of Divya Vrikkdoshhar Kwath

प्रत्येक 5.00mg में:

ढाक 478 मिलीग्राम; 238 mg each: पित्तपापडा, पुनर्नवा मूल, पाषण भेद, वरुण, कासनी, पीपल, नीम, गोखरू, जौ, कुटकी; Each 119 mg कुल्थी, मकोय, धमासा, कुश, कास, धान, सरकण्ड. ईख, ऊंटकटार, गिलोय, अरणी, अमलतास, बला, शतावरी, विदारी, कटेरी छोटी, कटेरी बड़ी।

मुख्य गुणधर्म और उपयोग Qualities and therapeutic uses

यह काढ़ा मूत्रल, शीतल और सूजन कम करने वाला है।

इसके सेवन से गुर्दे की पथरी और मूत्राशय की पथरी छोटी हो के शरीर से निकल जाती है. यह गुर्दे के अन्दर का इन्फेक्शन और दूसरे विकारों को दूर करने में मददगार है पित्ताशय की पथरी में भी यह लाभ प्रद है।

सेवनविधि और मात्रा How to take and dosage

लगभग 400 मिलीलीटर पानी में दवा का 5-10 ग्राम मिश्रण लें और पकाएं। जब केवल 100 मिलीलीटर बचे इसे छान लें । सुबह खाली पेट और दोपहर के खाने के ५-६ घंटे बाद खाली पेट ले।

Where to buy

आप यह दवा पतंजलि स्टोर या ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*