अपामार्ग क्षार तेल के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि

इसे बाहरी और आतंरिक दोनों रूपों में औषधीय प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाता है। अपामार्ग क्षार तेल कर्ण-रोगों के उपचार में इस्तेमाल किया जाता है । इसे बहरापन और कान में ध्वनि और कर्ण पूरन में उपयोगी है।

अपामार्ग क्षार तेल एक आयुर्वेदिक तेल है जिसे अपामार्ग क्षार, अपामार्ग कल्क और तिल तैल से बनाया गया है। अपामार्ग से तैयार क्षार को अपामार्ग क्षार कहा जाता है। इसे बाहरी और आतंरिक दोनों रूपों में औषधीय प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाता है। अपामार्ग क्षार तेल कर्ण-रोगों के उपचार में इस्तेमाल किया जाता है । इसे बहरापन और कान में ध्वनि और कर्ण पूरन में उपयोगी है।

Ingredients of Apamarga Kshara taila in Hindi

  • मार्ग क्षार जल (अपामार्ग क्षार ) 16 parts
  • जल Water 96 parts
  • तिल तैल Sesame oil 6 parts

कल्क द्रव्य : अपामार्ग (Plant) 24 parts

Loading...

तिल का तेल, सूजन दूर करने वाला और एंटीसेप्टिक है। यह सूक्ष्म और व्यवायी है ।

विवरण: औषधीय तेल, रंग में गुलाबी।

भंडारण: प्रकाश और नमी से दूर, कंटेनर में कसकर बंद कर एक शांत जगह में स्टोर करें।

Uses of Apamargakshara taila in Hindi | अपामार्ग क्षार का प्रयोग

  • अपामार्ग क्षार तेल कान विकारों के लिए प्रयोग किया जाता है ।
  • कान विकार Ear problems
  • बहरापन acquired Deafness
  • कान में आवाज़ Tinnitus (sound in ears)
  • कान बहना Otorrhoea/discharge from ear
  • नकसीर Nose bleed, Nakseer
  • योनी रोग vaginal diseases

How to use Apamarga kshara taila in Hindi

एक दिन में एक या दो बार कान में 2-5 बूँदें डालें। नस्य के लिए भी २-३ बूंदे नाक में डालें।

You can buy this medicine online or from medical stores. This medicine is manufactured by Atrey (Apamarga Kahar Tail) and some other Ayurvedic pharmacies.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.