अमृतादि गुग्गुलु के फायदे, नुकसान और प्रयोग

अमृतादि गुग्गुलु को विशेष रूप से वात प्रधान वातरक्त में प्रयोग किया जाता है। वातरक्त में वात, जब रक्त को दूषित कर देता है तो जोड़ों में दर्द, सुजन, उँगलियों में दर्द, चमड़ी का सुन्न होना आदि लक्षण प्रकट होते हैं।

अमृतादि गुग्गुलु एक रक्तशोधक और वातनाशक गुग्गुलकल्प Guggulkalp है। यह दवा खून को साफ़ करती है जिससे त्वचा रोगों में लाभ होता है। यह दवा बहुत से रोगों जैसे की वातरक्त, आमवात, रयुमेटिज्म, पित्तनुबन्धी कुष्ठ, स्रावी कुष्ठ, स्रावी त्वचाविकार जैसे की पामा, विचर्चिका, कुष्ठ, अर्श, भगन्दर, नाड़ीव्रण, प्रमेह, शोथ और अम्लपित्त आदि रोगों में लाभकारी है।

अमृतादि गुग्गुलु को विशेष रूप से वात प्रधान वातरक्त में प्रयोग किया जाता है। वातरक्त में वात, जब रक्त को दूषित कर देता है तो जोड़ों में दर्द, सुजन, उँगलियों में दर्द, चमड़ी का सुन्न होना आदि लक्षण प्रकट होते हैं। ऐसे में इस गुग्गुलु कल्प का प्रयोग अच्छे परिणाम देता है।

Loading...

Amritadi Guggulu contains Guggulu and Giloy as chief ingredients.This medicine is especially useful in gout which is due to vitiation of Vata and blood.The intake of this medicine detoxifies the body.It has antibacterial, antimicrobial, pain relieving, swelling reducing, laxative and uric acid level lowering properties.Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

अमृतादि गुग्गुलु के घटक | Ingredients of Amritadi Guggulu in Hindi

गुडुची 960 grams; Each 480 grams गुग्गुल, (हरीतकी, बिभीतकी, आमलकी= त्रिफला); Each 24 grams: दंतिमुल, (शुंठी, मरीचा, पिप्पली = त्रिकटु ), विडंग, गिलोय, त्रिफला, दालचीनी ; निशोथ 12 grams;

अमृतादि गुग्गुलु के लाभ | Benefits of Amritadi Guggulu in Hindi

  • यह दवा रक्तशोधक blood purifying है।
  • यह दवा वातनाशक balances Vata है।
  • गुग्गुलु होने के कारण यह दवा जोड़ों के सूजन joint swelling और दर्द pain में आराम दती है।
  • यह शरीर में पाचन digestion और मल के उत्सर्जन को सही करती है।
  • त्रिफला होने के कारण इसमें मृदु विरेचक mild laxative और खून साफ़ करने के गुण है।
  • यह आम ama, जो की शरीर में सही पाचन न होने के कारण बनने वाला टोक्सिन toxin है को कम करने में सहायक है।
  • यह बढे हुए यूरिक एसिड uric acid को कम करती है।
  • यह त्वचा रोगों के लिए एक अच्छी औषधि है।
  • अर्श/बवासीर piles में भी इस दवा के सेवन के लाभ होता है।

अमृतादि गुग्गुलु के चिकित्सीय उपयोग | Uses of Amritadi Guggulu in Hindi

  • त्वचा रोग, पित्तनुबन्धी कुष्ठ, स्रावी कुष्ठ
  • स्रावी त्वचाविकार जैसे की पामा, विचर्चिका, कुष्ठ
  • वातरक्त, आमवात
  • अर्श, भगन्दर
  • नासूर/नाड़ीव्रण
  • प्रमेह, शोथ
  • अम्लपित्त

सेवन विधि और मात्रा | Dosage of Amritadi Guggulu in Hindi

  • 2-3 गोली/250 mg-375 mg, दिन में दो बार लें। औषधि की सही सेवन मात्रा व्यक्ति के स्वास्थ्य, आयु, बल और पाचन पर निर्भर करती है.
  • इसे गिलोय के काढ़े या गर्म पानी के साथ लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।
  • इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

You can buy this medicine online or from medical stores.

Loading...

This medicine is manufactured by Shri Dhootapapeshwar Limited (Amrutadi Guggul), Vyas Pharmaceuticals (Amritadi Guggulu), Manil Ayurved Pharma (Amrutadi Guggul) and many other Ayurvedic pharmacies.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.