Glycerin ग्लिसरीन जानकारी, लाभ और घरेलू उपचार

ग्लिसरीन एक पानी में घुलनशील, बेरंग, गंधहीन, चिपचिपा, आर्द्रताग्राही hygroscopic और स्वाद में मीठा, गाढ़ा सा तरल है। रासायनिक रूप से यह ट्राईहाईड्रिक अल्कोहल है। इसका रासायनिक सूत्र C3H8O3 है। यह बायोडीजल निर्माण में एक महत्वपूर्ण बाईप्रोडक्ट के रूप में तथा पशु वसा, पौधों, साबुन बनाने और हाइड्रोलिसिस से उत्पादित होता है।

Loading...

ग्लिसरीन की खोज, गलती से १७७९ में जर्मन स्वीडिश रसायनज्ञ, कार्ल विल्हेम शीले Carl Wilhelm Scheele द्वारा हुई जब उन्होंने जैतून का तेल और लिथार्ज litharge (लीड मोनोऑक्साइड) के मिश्रण को गर्म किया। उन्होंने इसे sweet principle of fat कहा। बाद में यही स्वीट प्रिंसिपल ऑफ़ फैट, 1811 में फ्रांसीसी रसायनज्ञ, Michel Eugène Chevreul, द्वारा ग्लिसरीन कहलाया।

ग्लिसरीन का उत्पादन

ग्लिसरीन, ट्राइग्लिसराइड्स के रूप में प्रकृति में बहुतायत से पाया जाता है। ट्राइग्लिसराइड्स, ग्लिसरीन और फैटी एसिड, का रासायनिक संयोजन है जो लगभग सभी वनस्पति और पशु वसा और तेलों का प्रमुख संघटक है। यह सभी जीवित कोशिकाओं का एक घटक है। इसलिए ग्लिसरीन को तेलों और पशु चर्बी द्वारा निकला जाता है। इसे बायोडीजल निर्माण में एक महत्वपूर्ण बाईप्रोडक्ट के रूप में भी प्राप्त किया जाता है।

  1. वसा और तेल प्रसंस्करण से
  2. Saponification (साबुन बनाने)
  3. Hydrolysis (वसा विभाजन)
  4. Transesterification (biodiesel)

परिशोधित ग्लिसरीन के प्रकार

  1. 99.5% Technical Grad
  2. 96% USP (Vegetable-based/from plant sourse)
  3. 99.5% USP (Tallow-based/पशु वसा से बनाया)
  4. 99.5% USP (Vegetable-based/वनस्पति-आधारित)

ग्लिसरीन के औषधीय गुण

  • यह बेरंग, बिना गंध, पानी में घुलनशील गाढ़ा तरल है।
  • यह ह्यूमेक्टेंट humectant और हाईग्रोस्कोपिक hygroscopic एजेंट है। जिसमें आसपास के वातावरण से पानी के अणुओं पकड़ करने की क्षमता है जिस कारण इसे ड्राईनेस को दूर करने के लिये प्रयोग किया जाता है।
  • यह डीमलसेंट demulcent है जो की दर्द और सूजन में राहत देता है।
  • यह इमाल्यन्ट emollient है और त्वचा को चिकनी और नरम रखता है।
  • इसमें उत्कृष्ट चिकनाई lubricating के गुण है और लगाने पर यह वांछनीय चिकनाई प्रदान करता है।
  • यह एंटीसेप्टिक और एनाल्जेसिक है।
  • यह अत्यधिक स्थिर और घुलनशील पानी है।
  • यह नॉनटॉक्सिक है।

ग्लिसरीन के घरेलू उपचार Home Remedies using Glycerin in Hindi

ग्लिसरीन, त्वचा और बालों के लिए बहुत तरह से प्रयोग की जाती है। यह टॉक्सिक नहीं है और आसानी से उपलब्ध भी है। इसलिए इसका प्रयोग हर कोई कर सकता है। इसको बिना हलका किये लगाने पर कुछ जलन सी होती है इसलिए इसे चेहरे पर लागने से पहले गुलाब जल में पतला कर लेना चाहिए। यदि आँखों में यह लग जाए तो आसूं निकलने लगते हैं ऐसे में आखों को साफ़ पानी से धो लेंन चाहिए।

त्वचा के लिए लाभ

  1. यह त्वचा मुलायम और कोमल बनाती है।
  2. यह त्वचा की रक्षा करती है।
  3. यह त्वचा की ड्राईनेस को दूर करती है।
  4. यह त्वचाको नमी देती moisturizes है।

कठोरता, ड्राईनेस और स्केलिंग के लिए

त्वचा पर दिन में दो बार ग्लिसरीन लगायें। एक या दो दिन में ही परिणाम दिखने लगेंगे।

loading...

चेहरे की त्वचा को साफ करने के लिए

गुलाब जल में ग्लिसरीन का मिश्रण बनायें और चेहरे पर लगायें।

झाइयाँ

ग्लिसरीन को गुलाब जल में मिला कर चहरे पर लगाना चाहिए।

कोमल, चिकनी त्वचा

ग्लिसरीन + गुलाब जल + नींबू का रस लगाएं और सूख जाने पर धो दें।

गुलाबी होंठ

सोने से पहले होठों पर गुलाब की पत्तियों के पेस्ट में ग्लिसरीन मिलाकर नियमित लगायें।

फटे होंठ

होंठ पर ग्लिसरीन लगायें।

लिप ग्लॉस

ग्लिसरीन होंठ को चमक दते है। बादाम का तेल और ग्लिसरीन को 1:2 अनुपात में मिलाकर होठों पर लगायें।

बालों को मुलायम बनाये

ग्लिसरीन को बराबर मात्रा में पानी में मिलाएं और बाल धोने के बाद कंडीशनर की तरह ५ मिनट लगाकर रखें और फिर धो दें।

सिर में रूसी

बालों में रूसी होने पर ग्लिसरीन को गुलाब जल में मिलाकर स्कैल्प पर लगायें।

फटी एडियाँ

ग्लिसरीन लगायें और मोज़े पहन लें।

घट्टे calluses

ग्लिसरीन को रगड़ें और रात भर कवर करके रखें।

सावधानी/दुष्प्रभाव

  1. ग्लिसरीन nontoxic है ।
  2. यह चिपचिपा है और गंदगी को आकर्षित करता है।
  3. चेहरे की त्वचा के लिए, इसे गुलाब जल या पानी में मिलाकर लगायें।
  4. आँख से संपर्क की स्थिति में, नेत्र तुरंत पानी से धो लें।
  5. बाह्य रूप से लगाने के लिए यह पूरी तरह से सुरक्षित है।
loading...

7 thoughts on “Glycerin ग्लिसरीन जानकारी, लाभ और घरेलू उपचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*