कांचनार गुग्गुलु Kanchanar Guggulu Details and Uses in Hindi

loading...

कांचनार गुग्गुलु एक आयुर्वेदिक दवा है। इसे कांचनार की छाल, गुग्गुलु, त्रिफला, त्रिकटु, त्रिजात, और वरुण की छाल से बनाया जाता है। इसे बनाने के लिए सभी घटकों का बारीक़ चूर्ण/ पाउडर लेते हैं और सब चूर्ण के बराबर गुग्गुल मिला कर, घी या तेल मिला कर गोलियां बना लेते है। इन गोलियों को सुखा लेते है। यही कांचनार गुग्गुलु कहलाती है।

कांचनार गुग्गुलु मुख्यतः थायराइड रोग, ग्रंथियों में सूजन, लिम्फ नोड्स सूजन, गर्भाशय पोलिप और शरीर की अन्य असामान्य वृद्धि के इलाज के लिए सबसे अच्छी आयुर्वेदिक दवाओं में से एक है।

इस दवा के मुख्य अवयव कांचनार और गुग्गुल हैं। आयुर्वेद में, कांचनार की छाल को कंठमाला, त्वचा रोग और अल्सर के उपचार में प्रयोग किया जाता है। यह एक टॉनिक और विशेष रूप से गर्दन की ग्रंथियों के गंडमाला वृद्धि के इलाज़ के लिए उपयोगी है।

गुग्गुलु एक पेड़ से प्राप्त किया जाता है और अनेक आयुर्वेदिक दवाओं के निर्माण में प्रयोग किया जाता है। यह वात, पित्त और कफ का संतुलन करता है। यह तासीर में गर्म होता है। गुग्गुलु शरीर की सभी प्रणालियों पर काम करता है। यह टॉनिक, एंटीसेप्टिक, दर्द से राहत, ऐंठन से राहत, और कफ कम करने वाला होता है। यह विशेष रूप से दर्द कम करने, शरीर से सूजन को हटाने, शरीर से टोक्सिन निकालने और ग्रंथियों की असामान्य बढ़वार को रोकने के लिए इस्तेमाल होता है।

Kanchanar Guggulu is a polyherbal Ayurvedic formulation. For preparing this medicine, first the bark of Bauhinia variegata, the three myrobalans, ginger, black pepper, long pepper and the bark of Crateva religiosa, cardamoms, cinnamon, and tejpatra leaves are powdered and then rubbed together with guggulu equal in weight to all the other ingredients. The tablet are rolled and dried. The dried tablet are known as Kanchanar Guggulu/ Kanchnar Guggul. This medicine is useful in scrofulous enlargement of glands, tumours, ulcers, skin diseases, fistula, thryoid dysfunction etc. This medicine is also known as Kanchnar Guggulu, Kanchanara Guggulu, Kanchnar Guggul, Kanchnaar Guggul.

Here information is given about complete list of ingredients, properties, benefits, uses, and dosage of Kanchanar Guggulu in Hindi language.

loading...

नीचे इस दवा के घटक, गुण, उपयोग और इस्तेमाल की विधि के बारे में जानकारी दी गयी है।

कांचनार गुग्गुलुके घटक Ingredients of Kanchanar Guggulu

Formulation composition:

  • Kancanara कांचनार Bauhinia variegata St. Bk. 480 g
  • Haritaki हरीतकी Terminalia chebula P. 96 g
  • Bibhitaka विभितकी Terminalia bellerica P. 96 g
  • Amalki अमलकी Phyllanthus emblica P. 96 g
  • Shunthi सोंठ Zingiber officinale Rz. 48 g
  • Marica काली मिर्च Piper nigrum Fr. 48 g
  • Pippali पिप्पली Piper longum Fr. 48 g
  • Varuna वरुण Cratmiva nurvala St. Bk. 48 g
  • Ela इलाइची (Sukshmaila) Elettaria cardamomum Sd. 12 g
  • Tvak दालचीनी Cinnamomum zeylanicum St. Bk. 12 g
  • Patra तेजपत्ता (TejaPatra तेजपत्ता) Cinnamomum tamala Lf. 12 g
  • Guggulu Shuddha Commiphora wightii O.R. 996 g

त्रिफला Triphala = हरड़, आमला, बहेड़ा; त्रिकटु Trikatu = सोंठ, काली मिर्च, पिप्पली; त्रिजात Trijata =इलाइची, तेजपत्ता, दालचीनी.

Lf. =Leaf; P. =Pericarp; Rt. =Root; Fr. =Fruit; Rz. =Rhizome; Sd.= Seeds; St. =Stem; St. Bk.= Stem Bark; Fl. Bd. =Flower Bud.

कांचनार गुग्गुलु के लाभ Benefits of Kanchanar Guggulu

  • ग्रंथियों में सूजन को कम करने के लिए सबसे अच्छी आयुर्वेदिक दवा। reduces swelling of glands, lymph nodes.
  • थायराइड की समस्याओं जैसे की उसका कम या ज्यादा होने के लिए बहुत बढ़िया। beneficial in thyroid disorder.
  • ग्रंथियों की वृद्धि को रोकने और ठीक करने में मदद करता।
  • वजन, कफ और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है।

कांचनार गुग्गुलु के चिकित्सीय उपयोग

कांचनार गुग्गुलु थायराइड रोगों, ग्रंथियों के बढ़ जाने, और कफ के इलाज में दी जाती है। यह कफको ढीला करता है और लसीका प्रणाली के सही दांग से काम करने में मदद करता है. यह शरीर से विषाक्त पदार्थों के निकाल, रोग को जड़ से हटाने में लाभप्रद है है। यह अमा या विषाक्त पदार्थों को नष्ट करता है। कांचनार गुग्गुलु ट्यूमर को रोकने में लाभदायक प्रभाव दिखाता है। यह अल्सर भर देता है। यह गुदा फिस्टुला के उपचार में उपयोगी है, कफ, रक्तपित्त (आंतरिक रक्तस्राव) और मासिक धर्म संबंधी विकार में भी उपयोगी है।

कांचनार गुग्गुलु मुख्य रूप से पेट में गांठ, गण्डमाला, कंठमाल), ग्रंथी, अल्सर, त्वचा के रोग, फाइलेरिया आदि के इलाज के लिए दिया जाता है।

  • गुल्म, पेट गांठ (abdominal lump)
  • Gandamala गण्डमाला (cervical lymphadenitis)
  • Apaci (chronic lymphadenopathy/scrofula कंठमाला)
  • Granthi (cyst)
  • Vrana (अल्सर) (ulcer)
  • Kushtha कुष्ठ त्वचा के रोग(diseases of skin)
  • Bhagandara फिस्टुला (fistula-in-ano)
  • Shlipada (फाइलेरिया) (filariasis)

सेवनविधि और मात्रा How to take and dosage

कांचनार गुग्गुलु, एक गोली दिन में दो बार। खुराक रोग की गंभीरता के अनुसार बढ़ायी जा सकती है। आदर्श खुराक चार गोलियां, एक दिन में तीन बार है।

Where to buy Kanchnar Guggulu

You can buy this medicine from medical stores or online.

This medicine is manufactured by Dabur (Kanchnar Guggulu), Shree Baidyanath Ayurved Bhawan (Kanchanar Guggulu), Zandu (Kanchnar Guggul Gutika), Patanjali Divya Pharmacy (Divya Kanchnar Guggul), Shree Dhootapapeshwar Limited (Kanchanar Guggul), Nirogam (Kanchnar Guggulu), Sri Sri Ayurveda (Kanchanara Guggulu), Planet Ayurveda (Kanchnaar Guggul) and some other pharmacies. You can buy it from medical store or online.

loading...

48 thoughts on “कांचनार गुग्गुलु Kanchanar Guggulu Details and Uses in Hindi

  1. Namastey sir,sir my name is Shubham dwivedi I am a 20 yrs old.
    Sir,mere body me multiple gaanth hai near about 10 to 15 in numbers.and it is a painful and maximum no.of gaanth in hand from elbow joint to wrist joint.and 1to 2 in numbers in hip joint to knee joint.and gaanth in movement in own place,please give me advice sir ,

  2. Sir,
    Kya aurved me aisi dawa hai ki mere body ke gathiya thik kar sake, mere body me anek gathiya ginha muskil hai,par wo gathiya dard nhi karti, balki bad rahi hai,maine har ek doctor ko dikhaya to usne batya ki ye gathiya charbhi ke vajse ho rhi hai, or unone kachnar guggule ki 2-2 goliya khane ko batya,or yog karne ko kaha kapalbharti,alonevilom karne ko kaha, mai 4 mahine se kar rahahu par aram nhi hai, to apki rah kya hogi, is par kya kru? Garib hu . 27 saal hu

    • Urticaria जिसे शीतपित्त भी कहते हैं, में स्किन पर लाल-खुजली युक्त उठे हुए पैचेज उभर आते हैं. यह अक्सर मौसम के बदलने, बहुत देर नमी/पानी में रहने से, टेम्परेचर के अचानक बदलाव में शरीर में निकल आती है. जिन्हें ये समस्या बार-बार परेशान करती हो, उन्हें हरिद्रा खंड का सेवन करना चाहिए अथवा रोज नियम से कुछ महीने कच्ची हल्दी को खरल में कूट कर दूध में उबाल कर दिन में एक बार लेना चाहिए. यह प्रयोग निश्चित ही लाभ करता है. इसे करके देखें.

  3. Mere body me hand pet me gilty hai iski number barh raha hai yah 20 sal se hai Pahle Ek ya do tha Ab bahut ho gaya hai please iska upchar bataye

    • ji ye dawa le sakate hain, waise isaka koi upchar nahi hota hai, isase jab tak koi dikkat na ho to koi paresaani ki baat nahi hai.
      Waise aap agar pradayam karane se bahut laabh hoga.

    • ji koi gaurantee nahi hai, ye natural hoti hain, jo kam jyada weather ke hisab se hoti rahati hain, agar dard hoto dr ko dikhayen.
      Sabase achchhha tareeka hai Pradayam karen(Anulom vilom) 15 minute roj

  4. Mere husband ko gadhan chhoti chhti ise lene se 100,% thik ho jayegi kya??koi side effect to nhi hai iske..or khane pine me koi parhej to nhi karna hai?? Wo smoking sometime drinking fish khate hai..kuch parhrj ho to bataiye plz

    • ji isaka koi permanent ilaj nahi hota hai, ye banati khatam hoti rahati hain, jab tak in gantho se koi dard na ho tab tak koi dikkat nahi hai. koi ghabarane ki baat nahi hai, ye dawa le sakate hain, aaram jaroor hoga.

      Sabase achchha hai ki Baba ramdev ka pradayaam karen

  5. mere sharir me 15-20 ganthe hai jyadatar pet ke nichli siro me. hamne bhu varanasi me aurved department ke doctor se salah li us samay kavi kavi dard hota tha .mane ganth par injection liya dard to aram hai par kavi kavi jalan hoti hai injection lene se ganth par dag ho gaya hai aur dag dhere dhere badh raha hai .koi upay bataye pls

  6. Mere bete 5 year old, ke Adenoitus or tonsils ki 3 saal samasya hai. ye kaanchnar guggulu dawa ya koi or iss rog ko thik kar sakti hai kya dr.

    • No need to worry, if there is no pain. Yes you can take this medicine for long time. 2 tablet 3 times a day with water or milk. Take it for 6 months then evaluate your self.

  7. mujhe hypothrodism hai jiske wajah se mera weight badh raha hai
    yeh kanchana guggule kitne din lene se wajan kam hona start ho jayega

  8. meri gardan me ek gath bani hui h 7-8 month se kya ye pills use theek kr shakti h agar ha to kitne din me,maine sare test kra liye h ye ghath normal h per iska size dheere dheere badh rha h to doctor ne operation ki advise di hai. plz addvise me

    • Yes.kanchnaar guggule ke sevan se pahle gath dhire dhire narm hogi. Fir ye gath pighalna shuru hogi.
      3 se 4 mahine me gath puri tarah disolve ho jayegi.
      Chikitsa ke dauraan spicy,oily,and non veg ko puri tarah se band karna hoga.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*