हिमालया V-Gel Detail and Uses in Hindi

loading...

वी-जेल, हिमालया ड्रग कंपनी द्वारा निर्मित आयुर्वेदिक दवा है। यह एक क्रीम या जेल है जिसे योनिशोथ vaginitis और गर्भाशयग्रीवाशोथ cervicitis होने पर बाह्य रूप से लगाया जाता है। इसको 15 दिनों तक नियमित १-२ बार लगाने से दर्द, खुजली, पेल्विस में भारीपन, स्राव, आदि से राहत मिलती है और माइक्रोबियल इन्फेक्शन को दूर करने में सहयोग मिलता है।

Vaginitis in Hindi वैजेनाइटिस या योनिशोथ

वैजेनाइटिस या योनिशोथ, योनि में बैक्टीरियल, फंगल या यीस्ट संक्रमण के कारण होने वाली सूजन है। इसके होने के मुख्य कारणों में शामिल हैं, यौन संचारित रोगों, माइक्रोबियल संक्रमण, एलर्जी प्रतिक्रिया (केमिकल, कंडोम से एलर्जी, स्पर्मीसाइड का प्रयोग, डिटर्जेंट, आदि)।

Cervicitis in Hindi सर्वीसाइटिस

सर्वीसाइटिस, सर्विक्स या गर्भाशयग्रीवा का शोथ या सूजन है। यह भी यौन गतिविधि के दौरान होने वाले संक्रमण या एलर्जी प्रतिक्रियाओं के कारण होता है।

वैजेनाइटिस और सर्वीसाइटिस के प्रमुख लक्षण हैं :

  • दर्द, खुजली, जलन
  • प्रदर (अत्यधिक योनि स्राव)
  • श्रोणि में भारीपन
  • असामान्य योनि से खून
  • संभोग के दौरान दर्द

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

हिमालया V-Gel के घटक Ingredients of Himalaya V-Gel

  • त्रिफला 4.0mg
  • सतपत्री (Rosa damascena syn. R.centifolia) 3.6mg
  • इला (Elettaria cardamomum) 3.6mg
  • पुनर्नवा (Boerhaavia diffusa) 3.6mg
  • शैलियां (Parmelia perlata) 2.0mg
  • निर्गुण्डी (Vitex negundo) 1.6mg
  • हरिद्रा (Curcuma longa) 1.6mg

हिमालया V-Gel के लाभ/फ़ायदे Benefits of Himalaya V-Gel

  • यह एक हर्बल दवा है।
  • यह रोगाणुरोधी, जीवाणुरोधी और ऐंटिफंगल है।
  • इसे प्रभावी ढंग से योनी का संक्रमण और गर्भाशयग्रीवाशोथ (गर्भाशय ग्रीवा की सूजन) को दूर करता है।
  • यह सूजन, खुजली, जलन और योनि स्राव में राहत देता है।
  • यह उपचार प्रक्रिया को तेज़ करता है।
  • इसका कोई साइड-प्रभाव नहीं है।

हिमालया V-Gel के चिकित्सीय उपयोग Uses of Himalaya V-Gel

  • वैजेनाइटिस और सर्वीसाइटिस
  • वजाइना में बैक्टीरियल, यीस्ट या परजीवी संक्रमण
  • Leucorrhea योनि स्राव

प्रयोग विधि How to Use Mahamarichyadi Taila

  • यह क्रीम केवल बाहरी उपयोग के लिए है।
  • इसे योनि दिन में दो बार, नियमित 15 दिनों तक लगायें।

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*