पुनर्नवादि मंडूर Punarnavadi Mandur Detail and Uses in Hindi

loading...

पुनर्नवादि मंडूर, एक मंडूर कल्प है। मंडूर कल्प वह दवाएं हैं जिनमें मुख्य घटक शोधित मंडूर होता है। मंडूर भी एक तरह का लोहा है पर यह लौह भस्म से अधिक सौम्य है। यह शरीर में ज्यादा अच्छे से अवशोषित होता है और पचने में भी हल्का है। मंडूर कल्प में से गोमूत्र की तेज गंध आती है। मंडूर कल्प अपनी पोटेंसी को लम्बे समय तक बनाये रखते है। इनको नमी से दूर रखा जाना चाहिए।

पुनर्नवादि मंडूर, में पुनर्नवा और मंडूर के अतिरिक्त गोमूत्र, त्रिफला, त्रिकटु विडंग, हरदी, दारुहल्दी, मोथा आदि घटक हैं जो की यकृत-प्लीहा, उदर, रक्त, आदि के सही काम करने में सहयोग करते हैं। यह खून की कमी को दूर करती है। शरीर में खून की कमी, एनीमिया कहलाती है। इसमें हीमोग्लोबिन लेवल कम हो जाता है और शरीर में उर्जा, बल की कमी हो जाती है। पूरा शरीर पीला सा दिखता है और शरीर में पानी की मात्रा बढ़ जाने पर यह सूजा हुआ प्रतीत होता है। आयुर्वेडी में खा जाता हैं पांडू से कमाला होता है। इस दवा के सेवन से पूरे शरीर की सूजन दूर होती है। यह नवीन रक्त का निर्माण कर और पाचन को अच्छा कर पूरे स्वास्थ्य को अच्छा कर देता है।

Punarnavadi Mandur is a herbometallic Ayurvedic medicine. The main ingredient of this medicine is Punarnava and Mandoor. Mandoor is a type of iron preparation.

Punarnava is pungent, bitter and astringent in taste (rasa), pungent in the post digestive effect (vipaka) and has hot potency. It contains about 0.04 – 0.1% of alkaloid known as punarnavine (M.P. 235°C) and punernavoside, an antifibrinolytic agent. It also contains about 6% of potassium nitrate, an oily substance, and ursolic acid. It is stomachic, laxative, diuretic, aphrodisiac, diaphoretic, emetic, expectorant, febrifuge and laxative. It is especially useful in kidney and liver diseases, anasarca, ascites and jaundice.

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

पुनर्नवादि मंडूर के घटक Ingredients of Punarnavadi Mandur

  • पुनर्नवा Punarnava (Rakta Punarnava) Boerhaavia diffusa Rt. 48 g
  • त्रिवृत Trivrit Ipomea turpethum Rt. 48 g
  • सोंठ Shunthi Zingiber officinale Rz. 48 g
  • मरिच Marica Piper nigrum Fr. 48 g
  • पीपली Pippali Piper longum Fr. 48 g
  • विडंग Vidanga Embelia ribes Fr. 48 g
  • देवदारु Daru (Devadaru) Cedrus deodara Ht. Wd. 48 g
  • चित्रक Chitraka Plumbago zeylanica Rt. 48 g
  • कूठ Kushtha Saussurea lappa Rt. 48 g
  • हल्दी Haridra Curcuma longa Rz. 48 g
  • दारुहल्दी Daruharidra Berberis aristata St. 48 g
  • हरीतकी Haritaki Terminalia chebula P. 48 g
  • आमलकी Amalaki Emblica officinalis P. 48 g
  • विभीतक Bibhitaka Terminalia bellirica P. 48 g
  • दंती Danti Baliospermum montanum Rt. 48 g
  • चव्य Chavya Piper chaba St. 48 g
  • इन्द्रजौ Kalingaka (Indrayava) Holarrhena antidysenterica Sd. 48 g
  • पिप्पली Pippali Piper longum Fr. 48 g
  • पिप्पलामूल Pippalimula (Pippali) Piper longum St. 48 g
  • मोथा Musta (Musta) Cyperus rotundus Rz. 48 g
  • मंडूर Mandura (Mandura Bhasma (API)) Calcined Mandura 1.920 kg
  • गो मूत्र Gomutra Cow urine 6.144 l

पुनर्नवादि मंडूर के लाभ/फ़ायदे Benefits of Punarnavadi Mandur

  • यह रक्तवर्धक है।
  • यह शोथाघ्न है और शरीर से सूजन नष्ट करता है।
  • यह रक्त के परिसंचरण को सुधारता है।
  • यह यकृत की रक्षा करता है।
  • यह दीपन और पाचक है।
  • यह धातुओं को पोषित करता है।
  • यह खून की कमी और कमाला को दूर कर शरीर को स्वस्थ्य बनता है।
  • इसमें गोमूत्र है जिससे यह और अधिक प्रभावी हो जाता है।
  • यह पांडु, कमाला, यकृत-प्लीहा रोगों, सूजन, कृमि, श्वास, कास में उपयोगी है।
  • यह कब्ज़ को दूर करता है और दस्त को साफ़ करता है।
  • इसके सेवन से आंते मजबूत होती हैं, पेशाब खुल कर आता है और सप्रू से राहत मिलती है।

पुनर्नवादि मंडूर के चिकित्सीय उपयोग Uses of Punarnavadi Mandur

  • पांडु रोग Pandu Roga (anemia)
  • ग्रहणी Grahani (malabsorption syndrome)
  • शोथ Shotha (inflammation)
  • प्लीहा रोग Pliha Roga (splenic disease)
  • विषम ज्वर Vishamajvara (intermittent fever)
  • पाइल्स Arsha (hemorrhoids)
  • त्वचा रोग Kushtha (diseases of skin)
  • पेट में कीड़े Krimi (helminthiasis/worm infestation)
  • कफ दोष
  • सेवन विधि और मात्रा Dosage of Punarnavadi Mandur
  • 1-2 गोली, दिन में दो बार, सुबह और शाम लें।
  • इसे शरीर में सूजन में गोमूत्र के साथ / पांडु रोग में पुनर्नवा के रस के साथ / और पेट रोगों में त्रिफला काढ़े / या पानी के साथ लें।
  • इसके सेवन काल में दही और नमक का सेवन न करे।
  • इसे भोजन करने के बाद लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

loading...

Please note, the doses of Ayurvedic medicines are not fixed. Exact dose depends on the age, strength, digestive power of the patient, the nature of the illness, the state of the viscera and humours, and the properties of individual drugs.

You can buy this medicine online or from medical stores.

This medicine is manufactured by Baidyanath (Punarnawadi Mandur Tablet), Dabur (Punarnava Mandoor), Zandu (Zandu Punarnava Mandur), Patanjali Divya Pharmacy (Divya Punarnavadi Mandur), Planet Ayurveda (Punarnava Mandur), Shri Dhootapapeshwar Limited (Punarnava Mandoora), and many other Ayurvedic pharmacies.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*