पेट सफा Pet Saffa Natural Granules Detail and Uses in Hindi

loading...

पेट सफा, दिविसा द्वारा निर्मित हर्बल आयुर्वेदिक गेंयूल्स है। इसका सेवन कब्ज़ से राहत पाने के लिए किया जाता है। यह एक ओटीसी दवा है।

पेट सफा में आयुर्वेद के जाने-माने विरेचक है जैसे की सनाय के पत्ते, त्रिफला, हरीतकी, अमलतास, एरंड का तेल आदि। सनाय दस्तावर, रेचक, कसैला, कड़वा, तीखा, गर्मी पैदा करने, जिगर टॉनिक और पित्त स्राव को बढ़ाने वाला है। अजवाइन गर्म, कड़वा, वातहर, भूख बढ़ाने वाला, और रेचक है।

अदरक का सूखा रूप सोंठ या शुंठी dry ginger is called Shunthi कहलाता है। एंटी-एलर्जी, वमनरोधी, सूजन दूर करने के, एंटीऑक्सिडेंट, एन्टीप्लेटलेट, ज्वरनाशक, एंटीसेप्टिक, कासरोधक, हृदय, पाचन, और ब्लड शुगर को कम करने गुण हैं। यह खुशबूदार, उत्तेजक, भूख बढ़ाने वाला और टॉनिक है। सोंठ का प्रयोग उलटी, मिचली को दूर करता है। शुण्ठी पाचन और श्वास अंगों पर विशेष प्रभाव दिखाता है। इसमें दर्द निवारक गुण हैं। यह स्वाद में कटु और विपाक में मधुर है। यह स्वभाव से गर्म है।

सज्जी क्षार, उल्टी, दस्त और पेट फूलना साथ, अपच में उपयोगी है। इसी तरह हर्रे, निशोथ आदि भी दस्तावर और रेचक है। काला नमक पेट में दर्द, पेट में ट्यूमर, पेट के कीड़े और कब्ज में फायदेमंद है।

Pet Saffa is an herbal proprietary medicine from Divisa. It is Laxative Powder containing Senna, ajwain, Ispaghula, Triphala, Svarjiksara, Haritaki, Amaltash, Saunf, Sonth, Nishoth, jeera and castor oil.

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

loading...
  • उपलब्धता: यह ऑनलाइन और दुकानों में उपलब्ध है।
  • निर्माता: दिविसा
  • मूल्य Price / MRP: ₹ 72 for 120 grams

पेट सफा के घटक Ingredients of Pet Saffa Natural Granules

Each 100 grams contains herbs:

  1. सनाय की पत्ती Senna leaves 35 grams
  2. काला नमक Kala namak 12 grams
  3. अजवाइन Ajwain 10 grams
  4. इसबगोल की भूसी Ispaghula 9 grams
  5. त्रिफला Triphala 9 grams
  6. सेंधा नमक sendha namak 5 grams
  7. सज्जीक्षार Svarjiksara 3 grams
  8. हरीतकी Haritaki 3 grams
  9. अमलतास Amaltash 3 grams
  10. सौंफ Saunf 3 grams
  11. सोंठ Sonth 3 grams
  12. निशोथ Nishoth 2.5 grams
  13. जीरा Jeera 2 grams
  14. अरंड का तेल Castor oil 2 grams
  15. Preservatives

सनाय को आयुर्वेद में मदनी और स्वर्णपत्री कहा जाता है। इसका लैटिन नाम केसिया अनगस्टीफोलिया Cassia angustifolia है। यह मटर कुल का पौधा है। यह एक छोटा क्षुप है जो की भारत में दक्षिण राज्यों में उगाया जाता है। इसके पत्तों में बहुत से फायटोकेमिकल (Anthraquinone, glucoside, flavonoids, steroids and resin) पाए जाते हैं।

सनाय के आयुर्वेदिक गुण और कर्म

स्वाद में यह कटु, तिक्त और कषाय है। गुण में यह लघु, रूक्ष और तीक्ष्ण है। स्वभाव से यह गर्म है और कटु विपाक है। यह कटु रस औषधि है। कटु रस तीखा होता है और इसमें गर्मी के गुण होते हैं। गर्म गुण के कारण यह शरीर में पित्त बढ़ाता है, कफ को पतला करता है। यह पाचन और अवशोषण को सही करता है। इसमें खून साफ़ करने और त्वचा रोगों में लाभ करने के भी गुण हैं। कटु रस गर्म, हल्का, पसीना लाना वाला, कमजोरी लाने वाला, और प्यास बढ़ाने वाला होता है। यह रस कफ रोगों में बहुत लाभप्रद होता है। पित्त के असंतुलन होने पर कटु रस पदार्थों को सेवन नहीं करना चाहिए।

रस (taste on tongue): कटु, तिक्त, कषाय

गुण (Pharmacological Action): लघु, रुक्ष, तीक्ष्ण

वीर्य (Potency): उष्ण

विपाक (transformed state after digestion): कटु

कर्म:

विरेचन

पेट सफा के लाभ/फ़ायदे Benefits of Pet Saffa Natural Granules

  1. यह आयुर्वेदिक है।
  2. यह पेट को साफ़ करता है।
  3. सनाय के पत्ते मुख्य रूप से एक्यूट कब्ज़ को दूर करने में लाभप्रद है।
  4. इसमें इसपगोल है जिसमें फाइबर होता है तथा स्टूल को बल्क देता है।
  5. इसमें त्रिफला है जो की गैस, अपच, आदि को दूर करता है।
  6. अजवाइन, सेंधा नमक, सोंठ, काला नमक, जीरा आदि सभी गैस को दूर करते है और पाचक रसों के स्र्रव को बढाते हैं।
  7. यह कब्ज़, पेट फूलना, गैस, कब्ज़ के कारण पेट में दर्द, आराम न मिलना आदि परेशानियों को दूर करता है।
  8. पेट सफा के चिकित्सीय उपयोग Uses of Pet Saffa Natural Granules
  9. जैसा नाम से पता चलता है, यह विशेष रूप से पेट को साफ़ करने की या कब्ज़ को दूर करने की दवा है।
  10. पुराना कब्ज constipation
  11. पेट की गैस Gas, bloating, flatulence
  12. सिरदर्द headache

सेवन विधि और मात्रा Dosage of Pet Saffa Natural Granules

1-2 चम्मच चूर्ण (5-10 ग्राम) एक गिलास गुनगुने पानी के साथ रात को सोते समय यदि ज़रूरत है तो लें।

पेट साफ़ करने की दवाएं रात को सोने से पहले ली जाती है।

या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

इस दवा को ऑनलाइन या स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

सावधानियाँ

  1. ज्यादा मात्रा में दवा का सेवन पेट दर्द, दस्त और शरीर में पानी की कमी हो सकती है।
  2. यह तासीर में गर्म है। गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान इसका प्रयोग न करें।
  3. 12 साल से कम उम्र के बच्चों को न दें।
  4. सनाय के पत्ते एक हैबिट फोर्मिंग लेक्सेटिव habit forming laxative: promote dependency on it for motion) है।
  5. इसमें नमक (काला नमक और सेंधा नमक) की अच्छी मात्रा है। इसलिए उच्च रक्तचाप तथा वे रोग जिनमें सोडियम का कम प्रयोग करने को कहा गया है, में इसका प्रयोग न करें।
  6. आयुर्वेद में नमक को चमड़ी के रोगों और ब्लीडिंग डिसऑर्डर में लेने की मनाही है। नमक पित्त और कफ दोष को बढ़ाता है लेकिन वात को कम करता है। कम मात्रा में नमक विरेचक है और अधिक मात्रा में उल्टी लाने वाला।
  7. इसमें सज्जीक्षार है। लंबी अवधि के लिए इसका नियमित उपयोग शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता कम कर सकता है।
  8. पेट में दर्द, में इसका प्रयोग न करें।
  9. दस्त में उपयोग न करें।
  10. चिकित्सक की सलाह के बिना लम्बे समय के प्रयोग से बचें।
loading...

2 thoughts on “पेट सफा Pet Saffa Natural Granules Detail and Uses in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*