लवंगादि वटी Lavangadi Vati Detail and Uses in Hindi

loading...

लवंगादि वटी, आयुर्वेदिक दवा है जिसे लौंग तथा अन्य घटकों जैसे की बहेड़े का छिलका, पिप्पली, सकरतिगार, काकड़ासिंगी, अनार, दालचीनी आदि से बनाया गया है। इस दवा को श्वसन संक्रमण, कफ, खासी, खांसी के दौरे, और जुखाम के ईलाज के लिए प्रयोग किया जाता है।

Lavangadi Vati is classical Ayurvedic medicine. It is used in treatment of respiratory ailments. It controls throat irritation and cough rapidly.

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

लवंगादि वटी के घटक Ingredients of Lavangadi Vati

  • लौंग (Syzgium aromaticum) – 10%
  • बहेरा (Terminalia bellirica) – 5%
  • पीपल (Piper longum) – 5%
  • सागर टिगल – 4%
  • काकडा-श्रंगी (Pistacia integerrima) – 3%
  • दाड़िम-त्वक (Bark of Punica granatum) – 2%
  • दालचीनी (Cinnamomum zeylanicum) – 3%
  • खैरसार (Acacia catecha) – 14%
  • मुलेठी सत्व (Extract of Glycyrrhiza glabra) – 26%
  • मुनक्का (Vitis vinifera) – 14%
  • आक के फूल (Flowers of calotrophic procera) – 7%
  • नौसादर – 3%
  • कपूर (Cinnamomum camphora) – 2%
  • सुहागा – 2%

लवंगादि वटी के लाभ/फ़ायदे Benefits of Lavangadi Vati

  • यह इम्युनिटी को बढाती है।
  • इसके सेवन से जमा हुआ कफ बाहर निकलने में मदद होती है।
  • इसे चूसने से कफ ढीला हो कर निकल जाता है जिससे सांस नली साफ़ हो जाती है और खासी आदि से राहत मिल जाती है।
  • यह तासीर में गर्म है।
  • यह वात-कफ को कम करता है और पित्त को बढ़ाता है।

लवंगादि वटी के चिकित्सीय उपयोग Uses of Lavangadi Vati

  • बहुत अधिक कफ
  • छाती में कफ का जम जाना
  • गले में खराश
  • सांस नली में कफ
  • अस्थमा, सांस लेने में दिक्कत
  • खांसी का दौरा
  • कॉमन कोल्ड और कफ

सेवन विधि और मात्रा Dosage of Lavangadi Vati

  • 1 गोली, दिन में 5-7 बार, सुबह और शाम लें।
  • इसे चूस कर लें।
  • इसे हर २-३ घंटे के बाद या जैसी ज़रूरत हो तब लें।
  • या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

इस दवा को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से ख़रीदा जा सकता है।

You can buy this medicine online or from medical stores.

This medicine is manufactured by Baidyanath (Lawangadi Bati), Dabur (Lavangadi Vati), Patanjali Divya Pharmacy (Lavangadi Vati), Manil (Lawangadi Vati), BAFCO (Lavangadi Vati) and many other Ayurvedic pharmacies.

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*