कुटजारिष्ट Kutajarishta Details in Hindi

loading...

कुटजारिष्ट एक आयुर्वेदिक दवा है। इस दवा का मुख्य संघटक कुटज की छाल है। इस दवा के अन्य अवयवों मुनक्का, महुआ फूल, गंभारी, पुराना गुड़ और धातकी पुष्प हैं।

कुटजारिष्ट, पेचिश, बवासीर और स्प्रू के इलाज के लिए एक बहुत ही अच्छी और प्रभावी दवा है। यह जीर्ण ज्वर में भी उपयोगी है। यह खूनी बवासीर में फायदेमंद है। यह अत्यधिक कफ में भी उपयोगी है क्योंकि यह कफ को ढीला कर दस्त के रास्ते निकाल देती है ।

Kutajarishta is a polyherbal Ayurvedic medicine used to treat loose motions, diarrhea, dysentery, chronic fever and cough. It reduces excess cough and wind inside body. It is very effective medicine that cures diarrhea and also improves digestion, appetite and assimilation.

कुटजारिष्ट के निम्नलिखित गुण है:

Astringent: Astringent होने के कारण, आंतरिक इस्तेमाल करने पर यह श्लेष्मा झिल्ली mucous membranes को सिकोड़ रक्त सीरम या श्लेष्मा स्राव mucous secretions को कम कर देती है और इसलिए यह हेमोरेज, दस्त, या पेप्टिक अल्सर में उपयोगी है.

  • Stimulant या उत्तेजक: अस्थायी रूप से कुछ अंगों के कार्यात्मक गतिविधि को बड़ा देती है।
  • Anti-dysenteric एंटी-पेचिश सम्बन्धी: पेचिश रोकने के लिए उपयोगी ।
  • Anti-periodic: रोग की समय-समय पर लौटने को रोकने में मददगार।
  • पाचन: भोजन के पाचन को बढ़ावा देना ।
  • यह शरीर में वात और कफ को कम करती है।

कुटजारिष्ट के प्रमुख तत्व

सामग्री की पूरी सूची नीचे दी गई है:

Name

Botanical Name

Part

Quantity

1 Kutaja कुटज

Holarrhena antidysenterica

Stem Bark

4.8 kg

2 Draksha द्राक्षा

Vitis vinifera

Dry Fruit

2.8 kg

3 Madhuka Pushpa महुआ

(Madhuka) Madhuca indica

Flower

480 g

4 Gambhari गंभारी

Gmelina arborea

Stem Bark

480 g

5 Jala पानी

Water

 

for decoction 49.152 liter reduced to 12.288 liter

6 Guda गुड

Jaggery

 

4.8 kg

7. Dhataki धातकी

Woodfordia fruticosa

Flower

960 g

कुटजारिष्ट के लाभ और उपयोग

कुटजारिष्ट के लाभ

loading...
  • यह दवा पाचन शक्ति को मजबूत बनाती है।
  • यह पेचिश और खूनी पेचिश को ठीक रखती है।
  • यह पूरी तरह से हर्बल है।
  • यह आसानी से उपलब्ध है। उत्तर भारत में यह \’Kutajarishta\’ और दक्षिणी भाग में \’Kutajarishtam\’ कहा जाता है।

चिकित्सीय उपयोग:

  • प्रवाहिका (पेचिश), क्रोनिक दस्त
  • रक्त-अतिसार (रक्त के साथ दस्त)
  • जीर्ण ज्वर, लंबे समय तक निरंतर बुखार
  • खूनी बवासीर, कोलाइटिस,
  • पाचन, भूख को सही करना
  • खाँसी में भी उपयोगी

कुटजारिष्ट की खुराक

  • इसको 15 -30 मिलीलीटर की मात्रा में लिया जाना चाहिए।
  • इसे पानी की बराबर मात्रा में मिला कर लेना है।
  • एक दिन में दो बार भोजन के बाद यह दवा लें।

कुटजारिष्ट, डाबर, श्री बैद्यनाथ आयुर्वेद भवन, पतंजलि दिव्य फार्मेसी, सांडू, Oushadhasala (Kutajarishtam), केरल आयुर्वेद (Kutajarishtam), कोट्टाकल (Kutajarishtam) और कुछ अन्य फार्मेसियों द्वारा निर्मित है।

आप यह दवा ऑनलाइन या फार्मेसी स्टोर से खरीद सकते हैं।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*