Home Remedies for Improving Complexion

loading...

हमारी त्वचा का रंग बहुत कुछ वन्शागुनत होता है। इसके अलावा यह बाहरी वातावरण पर भी निर्भर करता है। जिन जगहों पर बहुत अधिक धूप-गर्मी रहती है वहां के लोगों की त्वचा का रंग अधिक मेलानिन के कारण गहरा होता है। मेलानिन का कम या ज्यादा होना ही त्वचा की रंगत के लिए जिम्मेदार है। अधिक धूप मेलानिन के निर्माण को उत्तेजित करती है जिससे त्वचा का रंग सांवला हो जाता है।

यूं तो त्वचा की रंगत को बदल पाना संभव नहीं किन्तु कुछ तरीकों को अपनाकर त्वचा में निखार लाया जा सकता है। स्वस्थ्य त्वचा वैसे ही सुन्दर लगती है। इसके अतिरिक्त भारत जैसी जलवायु में, यदि घर से बाहर निकलते समय चेहरे को अच्छी तरह से ढँक लिया जाए तो यह अधिक धूप से होने वाले दुष्प्रभाव से बच सकती है।

ब्यूटी पार्लर जाने पर ब्यूटीशियन अक्सर ब्लीच का सुझाव देती हैं। ब्लीच करने से उन लोगों का लाभ होता है जिनके चेहरे का रंग अवांछित बालों के कारण डार्क दिखता है। ब्लीच, स्ट्रोंग केमिकल होते है जो की बालों का रंग उड़ा देते हैं। ब्लीच तुरंत ही अपना असर दिखाते है। कुछ लोगों में ब्लीच कराने से त्वचा पर दाने, रैश हो जाते है। कभी-कभी तो इनका का प्रयोग त्वचा को जला भी देता है। जलने पर चमड़ी बदरंग और काली दिखती है। इसलिए जहाँ तक हो सके त्वचा पर ब्लीच का प्रयोग न करें। यह त्वचा को रुखी, बेजान और सांवली बना देती है।

त्वचा हमारे स्वास्थ्य का आइना होती है। यदि हमारा स्वास्थ्य ठीक है तो त्वचा भी सुन्दर दिखेगी। कई बार जब हम कम पानी पीते है तो त्वचा भी ढीली हो जाती है। कम पानी से शरीर से टोक्सिन भी बाहर नहीं निकलते जो की त्वचा के रंग को प्रभावित करते हैं। याद रखें, डीहाइड्रेशन न होने दें। पूरे दिन में कम से कम 2 लीटर पानी पियें।

त्वचा पर यदि कील-मुहांसे हो तो कोई रक्तशोधक जैसे की साफी, सुरक्ता, का प्रयोग करें। ये हर्बल दवाएं पेट को साफ़ करती है और शरीर में दूषित पदार्थों को बाहर निकलती हैं।

Face Packs for Fairer Complexion in Hindi

यहाँ पर कुछ फेस मास्क दिए गये हैं जिनका नियमित प्रयोग त्वचा की रंगत को सुधारने में मददगार है।

loading...
  • दूध में हल्दी पाउडर चुटकी भर, मिलकर चेहरे पर लगायें और सूख जाने पर पानी से धो लें।
  • बादाम को दूध में भिगों कर पीस लें। इसमें शहद (कुछ बूँद) और नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगायें और सूख जाने पर धो लें।
  • 2 बादाम दूध में भिगों लें और पीस कर पेस्ट लगा लें और इसे चहरे पर लगायें।
  • बेसन को दूध में मिलाकर लेप बनायें और इसमें थोड़ी सी हल्दी मिला लें और इसे चेहरे पर 15 मिनट तक लगायें। यदि इस लेप से त्वचा सूख जाती हो तो इसमें शहद या थोडा सा सरसों का तेल मिलाकर लगायें।
  • चने की दाल को दूध में भिगो कर पीस लें। इसमें थोड़ी सी हल्दी और नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगायें।
  • खीरे का रस + शहद + नींबू का रस, बराबर मात्रा में मिलाकर चेहरे पर लगायें और सूखने पर धो दें।
  • रात को २ चम्मच चिरौंजी को आवश्यकता अनुसार दूध में भिगो दें और सुबह पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगायें।
  • दही + टमाटर का रस के साथ मिलाकर चेहरे पर लगायें।
  • दही १ चम्मच + बेसन १ चम्मच + हल्दी चुटकी भर + नींबू का रस आधा चम्मच + मलाई, मिलाकर चेहरे पर लगायें। १५-२० मिनट बाद सूखने पर छुड़ा लें।
  • दही १ चम्मच + मुल्तानी मिटटी २ चम्मच + शहद १/२ चम्मच + नींबू ४-४ बूंदें, को मिलाकर चेहरे पर लेप करें। १५ मिनट गुनगुने पानी से धो लें।
  • सप्ताह में दो बार, मुल्तानी मिटटी 1 चम्मच + संतरे के छिलके का पाउडर 1/४ चम्मच + नींबू की कुछ बूंदें, का पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगायें।
  • नींबू के रस + हाइड्रोजन परक्सोइड को बराबर मात्रा में मिलाकर चेहरे पर लगायें और सूखने पर धो दें।
  • यदि सनबर्न हो गया हो तो, आलू का रस, चेहरे पर लगायें।
  • पपीते का गूदा, मैश कर, चेहरे पर लगायें।
  • हल्दी पाउडर १० ग्राम + चन्दन पाउडर १० ग्राम + संतरे के छिलके का पाउडर ५० ग्राम + बेसन १२५ ग्राम, को मिलकर रख लें। आवश्यकता अनुसार पाउडर ले कर दूध के साथ पेस्ट बनायें और नियमित रूप से चेहरे पर लगायें।
  • अर्जुन के पेड़ की छाल का पेस्ट पानी में बनाकर शशाद मिलकर लगायें।
  • चेहरे पर कुमकुमादी तेल लगायें।

भोजन में

  • अनार का रस पियें।
  • नारियल पानी पियें।
  • पानी पर्याप्त मात्रा में पियें।
  • त्वचा को तेज़ धूप से बनायें।
  • पेट साफ़ रखें और कब्ज़ न होने दें.
  • यदि त्वचा पर कील, मुहांसे बहुत निकलते हों तो कोई रक्त शोधक लें।
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*