बायोटिन Vitamin H (Biotin) in Hindi

loading...

विटामिन एच या बायोटिन, पानी में घुलनशील, बी काम्पलेक्स विटामिन समूह का हिस्सा है। बी-काम्पलेक्स, शरीर में भोजन से मिलने वाले कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा या ग्लूकोज में बदलने में सहायक हैं। यह शरीर में प्रोटीन और वसा के मेटाबोलिज्म के लिए भी ज़रूरी है। बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन, स्वस्थ त्वचा, बालों, आँखों और यकृत के लिए भी अत्यंत आवश्यक हैं। ये तंत्रिका तंत्र के ठीक तरह से काम करने में भी मदद करते है।

बायोटिन, शरीर में कार्बोहाइड्रेट, वसा और अमीनो एसिड के चयापचय/मेटाबोलिज्म में सहायता करता है। यह भ्रूण के सामान्य विकास के लिए अत्यंत ज़रूरी है। यह बालों और नाखूनों को मजबूत बनाने के लिए भी प्रयोग किया जाता है।

शरीर में बायोटिन की कमी डायबिटीज/मधुमेह को गंभीर बना सकती है। ऐसा इसलिए होता है की बायोटिन ग्लूकोज के चयापचय में कई तरह से जुड़ा होता है। इसकी कमी से ग्लूकोज़ का सही से मेटाबोलिज्म नहीं हो पाता और यह ज्यादा मात्रा में खून में मौजूद रहता है।

बायोटिन शरीर में ट्राईग्लीसराईड्स के लेवल को कम करने में भी सहयोगी पाया गया है। इसकी कमी से त्वचा रोगों के साथ-साथ अन्य डिसऑर्डर दिखने लगते हैं।

Symptoms of Vitamin H deficiency

लम्बे समय तक एंटीबायोटिक दवाओं के सेवन, क्रोन Crohn डिजीज, एंटीएपिलेप्सी की दवा का सेवन, अंडे की सफेदी का सेवन, अल्कोहल का सेवन, आदि के कारण, कुछ लोग इसकी कमी का शिकार हो सकते है।

बायोटिन की कमी को जानने के लिए, कोई टेस्ट उपलब्ध नहीं है। लेकिन कुछ लक्षणों के आधार पर इसकी कमी होने का अंदाज़ा लगाया जा सकता है।

loading...
  • बालों का झड़ना, गंजापन
  • बालों का रंग उड़ना
  • चेहरे पर लाल पपड़ीदार दाने
  • नाखूनों का टूटना, परतदार होना
  • नवजात शिशुओं में बालों में पपड़ीदार पैच, रूसी Cradle Cap
  • शिशु की आँख, माक, गाल पर रैश, डायपर रैश
  • सूखी पपड़ीदार त्वचा
  • होठों के कोने पर दरार पड़ना
  • मोटी, सूजी हुई मैजंटा रंग की जीभ
  • आँखों में सूखापन
  • भूख न लगना, टेस्ट न आना
  • थकान, कमजोरी नींद न आना
  • डिप्रेशन, भ्रम, hallucination
  • बायोटिन का उपयोग कमज़ोर नाखून, तथा कुछ अन्य रोगों के उपचार में भी प्रयोग किया जाता है।

आहार स्रोत Dietary source

यह शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह के भोजन में पाया जाता है। कुछ में यह फ्री और कुछ में संयुक्त अवस्था में मिलता है। फ्री स्टेट में यह फल, सब्जियों, दूध में मिलता है। आंत में पाए जाने वाले बैक्टीरिया भी बायोटिन बनाते हैं।

बायोटिन पकाये अंडो, विशेष रूप से अंडे की जर्दी तथा लीवर, मीट, सूखे मेवे बादाम, मूंगफली, अखरोट, सोयाबीन, फलियां, साबुत अनाज, फूलगोभी, केले, मक्का, सोयाबीन,और मशरूम आदि में पाया जाता है।

  • मूंगफली, बादाम, अखरोट
  • सूखे मेवे, दालें
  • शकरकंद
  • चीज़, अंडे, किडनी, लीवर
  • सोयाबीन का आटा,
  • गोभी, मशरूम,
  • कम मात्रा में, ज्यादातर फल, रिफाइंड अनाज
  • टमाटर

बायोटिन की दैनिक ज़रूरत Daily requirement of Biotin

बच्चे

  • जन्म से 6 महीने: 5 mcg
  • 7-12 महीने: 6 mcg
  • 1-3 साल: 8 mcg
  • 4-8 साल: 12 mcg
  • 9-13 वर्ष: 20 mcg
  • 14-18 वर्ष: 25 mcg

वयस्क

  • 19 साल तथा बड़े : 30 mcg
  • गर्भवती महिलाएं: 30 mcg
  • स्तनपान कराने वाली महिला: 35 mcg

सावधानी

बायोटिन को लेना सुरक्षित है और इसको उच्च मात्रा में लेने से कोई साइड इफेक्ट नहीं देखा गया है।

loading...

4 thoughts on “बायोटिन Vitamin H (Biotin) in Hindi

  1. Mera age 29 yrs hai mere hair jhadta hai chest ka bal bhi jhadta hai, mujhe aisa feel hota hai urine k raastay Semen bhi nikalta hai. Aur pani jaisa patla ho gaya hai, mein kiya karu iske liye suggest Kare

  2. Mai ek ladka hon meri age 22 haii mara bal bahut jhadta hai mai kiya karu kuch samjh mai nahi aata hai koi trips bataye piz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*