सुहाग्रा Suhagra Detail and Uses in Hindi

loading...

सुहाग्रा को इरेक्टाइल डिसफंक्शन / स्तम्भन दोष या नपुंसकता में लिया जाता है। इरेक्टाइल डिसफंक्शन वो स्थति है जिसमें पुरुष का लिंग ठीक से खड़ा नहीं हो पाता जिस कारण पुरुष चाह कर भी सेक्स का आनंद नहीं ले सकता। इसमें लिंग में कडापन और सख्ती नहीं होती और इस वज़ह से सेक्स करना संभव नहीं हो पाता। यह दवाई, रोग का इलाज करती है उसे ठीक नहीं करती। इस दवा का सेवन सेक्स करने से एक घंटा पहले किया जाता है। भारी, फैटी भोजन का सेवन इस दवा का असर थोडा कम कर देता है। इसलिए इसे खाली पेट लेना चाहिए। इस पेज पर इस दवा के बारे बताया गया है जो की केवल जानकारी देने के उद्देश्य से है।

सिप्ला की सुहाग्रा एक ऐलोपथिक दवाई जो की प्रिसक्रिप्शन ड्रग (डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन पर मिलने वाली) है। यह दवा केवल पुरुषों के लिए है और बेटर इरेक्शन पाने में मदद करती है।

Suhagra is available in 50 mg and 100 mg. This Allopathic medicine is for achieving erection and used in treatment of erectile dysfunction or ED, condition in which man cannot get, or keep, a hard erect penis suitable for sexual activity. It works by increasing blood flow to the penis and relaxing the muscles. It should be taken an hour before the sexual intercourse. There are few conditions in which it should not be taken and like any other medicine it produces certain side-effect including headache, nausea, lowering of blood pressure etc.

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

रोग: इरेक्टाइल डिसफंक्शन

  • ब्रांड का नाम : Cipla
  • जेनरिक: Sildenafil citrate सिलडेनाफिल सिट्रेट
  • केमिकल फार्मूला: 5-[2-Ethoxy-5-[(4-methyl-1-piperazinyl)sulfonyl]phenyl]-1,6-dihydro-1-methyl-3-propyl-7Hpyrazolo[4,3-d]pyrimidin-7-one citrate

उपलब्धता Availability

सिलडेनाफिल सिट्रेट की मात्रा के अनुसार यह दवा दो प्रकार में उपलब्ध है। ज्यादातर लोगों के लिए 50 mg की मात्रा सही रहती है।

  1. सुहाग्रा 25 mg
  2. सुहग्रा 50 mg
  3. सुहग्रा100 mg

सुहाग्रा के घटक Ingredients of Suhagra

सिलडेनाफिल सिट्रेट

loading...

सुहाग्रा के चिकित्सीय उपयोग Uses of Suhagra

  1. स्तंभन दोष या इरेक्टाइल डिसफंक्शन ( संभोग के दौरान शिश्न / लिंग / जनेन्द्रिय के उत्तेजित न होने या उसे बनाए न रख सकने के कारण पैदा हुई यौन निष्क्रियता)
  2. हाइपरटेंशन

सेवन विधि और मात्रा Dosage of Suhagra

नोट: यह प्रिस्क्रिप्शन ड्रग है।

  1. इसे दिन में एक बार ही लेना है।
  2. एक बार से ज्यादा न लें। यह हानिकारक है।
  3. इसे पानी के साथ लें।
  4. इसे सेक्स करने से करीब एक घंटा पहले लें।
  5. भारी भोजन के साथ लेने पर इसका अवशोषण धीरे से होता है।
  6. या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।
  7. अल्कोहल का सेवन दवा के असर को कम करता है।
  8. यह रक्तचाप को कम करती है।

इसका सेवन न करें यदि Contraindications

  1. कोई भी नाइट्रेट मेडिकेशन (osorbide salts, sodium nitroprusside, amyl
  2. nitrite, nicorandil or organic nitrates), अगर ले रहें हों तो इसका सेवन न करें। यह रक्तचाप को खतरनाक ढंग से कम देगा।
  3. अगर एनजाइना है, छाती में दर्द है, तो भी इसका सेवन नं करें।
  4. दिल की बिमारी है जिस कारण से सेक्स करने की मनाही है।
  5. पिछले 6 महीने में स्ट्रोक हुआ हो।
  6. लीवर की गंभीर बीमारी है।
  7. रक्तचाप नियंत्रित नहीं है।
  8. आखों के रोग nonarteritic anterior ischaemic optic neuropathy (NAION) retinitis pigmentosa में
  9. दवा में प्रयोग किसी भी घटक से एलर्जी है।

दवाएं जो सिलडेनाफिल सिट्रेट के साथ इंटरैक्ट करती हैं Drug interactions

  1. अलसर की दवा cimetidine
  2. फंगस की दवा ketoconazole and itraconazole
  3. एंटीबायोटिक्स erythromycin and rifampicin
  4. कुछ प्रोटीएज इन्हीबीटर ritonavir and saquinavir

कुछ संभावित साइड-इफेक्ट्स Possible Side-effects

  1. सिर दर्द, चक्कर आना
  2. त्वचा का लाल,गर्म होना
  3. अपच, एसिडिटी
  4. नाक जाम होना
  5. साइनस कंजेशन
  6. नाक में सूजन
  7. लूज़ मोशन
  8. त्वचा पर चक्कते
  9. चिड़चिड़ापन
  10. शरीर गर्म महसूस होना
  11. आँखों में जलन

गंभीर साइड-इफेक्ट्स Serious Side-effects

  1. हृदय की धड़कन में परिवर्तन
  2. पेशाब का इन्फेक्शन, पेशाब में जलन, बार बार पेशाब की इच्छा
  3. पेशाब में खून जाना
  4. नाक से खून आना
  5. लगातार सिरदर्द
  6. हाथ-पैर सुन्न होना
  7. आँखों का लाल होना
  8. पफी आँखे
  9. आँखों में दर्द
  10. मांसपेशियों में दर्द

अगर यह लक्षण हो तो डॉक्टर से संपर्क करें:

  1. छाती में दर्द
  2. दिल की धड़कन बढ़ना
  3. सुनाई न देना
  4. सीज़र, फिट्स
  5. सही से दिखाई न देना
  6. रंगहीन चीजें कलरफुल लगना
  7. लाल-पीले धब्बे दिखना
  8. इरेक्शन का कुछ घंटों तक रहना, इससे पेनिस को नुकसान होता है

दवा से एलर्जी के लक्षण Allergic reactions

  1. कफ, सांस ठीक से न आना
  2. चेहरे पर सूजन
  3. शरीर के अन्य हिस्सों पर सूजन
  4. हाइव्स, रैश
  5. बेहोशी
  6. हेफीवर जैसे लक्षण

भण्डारण Storage

  1. इसे 30°C से कम तापक्रम पर रखें। इसे ठन्डे और सूखे स्थान पर रखें।
  2. दवा को बाथरूम, सिंक आदि गीली जगहों पर न रखें।
  3. इसे कमरे की खिड़की, धूप वाली जगह या कार में न रखें।
  4. नमी और गर्मी दवा को ख़राब कर देती है।
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*