i-know Ovulation Test Strip in Hindi

loading...

आजकल भारतीय मार्किट में ओवुलेशन टेस्ट स्ट्रिप्स Ovulation test strips उपलब्ध हैं। यह स्ट्रिप्स इनफर्टिलिटी के उपचार में और महीने के दो सबसे फर्टाइल दिनों को जानने के प्रयोग की जाती हैं। इनका प्रयोग ओवुलेशन के बारे में १२ से २४ घंटे पहले ही सूचित कर देता है और अगर ओवुलेशन होने के ठीक पहले या बाद में सेक्स किया जाए तो गर्भ ठहरने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

i-sure आई-श्योर या i-know आई-नो, पिरामल हेल्थकेयर द्वारा निर्मित भारत में उपलब्ध एक ovulation परीक्षण स्ट्रिप है। आई-श्योर या आई- नो दोनों एक ही प्रोडक्ट है।

पिरामल फार्मा कंपनी ने नाम में परिवर्तन Assure Life Science Pvt Ltd एश्योर लाइफ साइंस प्राइवेट लिमिटेड, द्वारा पिरामल के खिलाफ दायर एक ट्रेडमार्क infringment मामले के कारण किया। पिरामल ने हाई-कोर्ट में एफ़ीडेविट जमा किया की वह अब से \’श्योर\’ का प्रयोग अपने किसी भी प्रोडक्ट में नहीं करेगी और आई-श्योर के पुराने स्टॉक को बेचने के बाद आगे से आई- नो नाम से अपने इस उत्पाद को मार्किट करेगी।

ओवुलेशन क्या है ?

ओवुलेशन Ovulation उस प्रक्रिया को कहा जाता है जब ओवरी/अंडाशय से एग/ओवा या अंडाणु का डिस्चार्ज होता है। औसतन यह माना जाता है की मासिक धर्म चक्र के मध्य की अवधि में यह हो सकता है, जैसे की २८ दिन के साइकल में यह १४ दिन पर हो सकता है।

लेकिन हर महिला में ओवोलेशन होने का समय भिन्न होता है। कुछ में यह बहुत जल्दी और कुछ में बहुत बाद में होता है।

अंडाणु ओवरी से निकल कर फैलोपियन ट्यूब में करीब 24 घंटे के लिए जीवित रहता है और इसी समय गर्भाधान की संभावना अधिक होती है।

loading...

ऐसे में दो संभावनाएं हो सकती है। पहली, ट्यूब में स्पर्म या शुक्राणु (शरीर में शुक्राणु करीब 72 घंटे तक जीवित रहते है) न हो। तब अंडाणु, डिसइंटीग्रेट हो जाता है और समय पर मासिक धर्म की शुरुवात हो जाती है।

दूसरी संभावना है, यदि फलोपियन ट्यूब में अंडाणु को स्पर्म या शुक्राणु मिल जाये। तब निषेचन हो जाता है और निषेचित अंडाणु ट्यूब से गर्भाशय में चला जाता है। गर्भाशय की लाईनिंग बढ़ने लगती है नाल का विकास होता है तथा निषेचित अंडाणु बच्चे के रूप में विकसित होता है। निषेचन होने के बाद मासिक नहीं आता जो की यह दर्शाता है की गर्भ ठहर गया है।

i-sure or i-know आई-श्योर काम कैसे करती है ?

आई-श्योर या इसी तरह की अन्य ओवुलेशन स्ट्रिप्स घर पर ही ओवुलेशन का पता करने की बहुत ही आसानी से उपलब्ध किट है। इससे जांच करना भी बहुत सरल है।

ओवुलेशन होने से पहले शरीर में एक हॉर्मोन उत्सर्जित होता है जिसे ल्युटनाइजिंग हार्मोन (एलएच) Luteinizing Hormone (LH) कहा जाता है।

आई-श्योर Ovulation test strip इसी हार्मोन की उपस्थिति या अनुपस्थिति को दिखाने के लिए एक डाई का उपयोग करता है। अगर स्ट्रिप पर दो लाइनें हैं तो टेस्ट पॉजिटिव है और ओवुलेशन होने वाला है। अगर एक ही लाइन है तो टेस्ट नेगेटिव है और इसे दुबारा किया जाना चाहिए।

Ovulation test strips की एक्यूरेसी ९९ प्रतिशत है।

When to do ovulation test

इसका प्रयोग महीने में तब किया जाना चाहिए जब आप को ऐसी संभावना लगे की ओवुलेशन होने वाला है। ओवुलेशन कुछ महिलायों में यह 8वें दिन पर या 19वें दिन पर भी हो सकता है।

अनियमित चक्र में ओवुलेशन के दिन को पता करने में के लिए बार-बार परीक्षण करने पड़ सकते है।

How to do ovulation test with i-sure test strip

एक सूखे और साफ कंटेनर में मूत्र को इकट्ठा करें और इस कंटेनर में स्ट्रिप को निर्धारित जगह तक डुबा दें। दस सेकंड के लिए प्रतीक्षा करें। सबसे पहले एक नियंत्रण रेखा control line दिखाई देती है। फिर यदि परीक्षण लाइन test line गहरे रंग की उभर आये तो परिणाम सकारात्मक है और ovulation होने जा रहा है। अगर टेस्ट लाइन नहीं है तो परिणाम नेगेटिव है और इसे दुहराने की ज़रूरत है।

इस टेस्ट को दोपहर में करें और अधिक पानी न पियें क्योकि यह मूत्र में हॉर्मोन की मात्रा को कम कर सकता है और परीक्षा परिणाम को प्रभावित कर सकता है।

इसका इस्तेमाल कौन कर सकता है ?

वे महिला जो इनफर्टिलिटी का उपचार करा रही हैं लेकिन सोनोग्राफी के लिए रोज़ स्त्री रोग विशेषज्ञ या रेडियोलाजिस्ट के पास नहीं जा सकती।

व्यस्त महिलायें, वो महिलायें जो सब कुछ सही होते हुए भी गर्भ धारण नहीं कर पा रही। या कपल्स जो किसी कारणवश एक दूसरे से दूर रहते है। वो सही समय का पता लगा कर बच्चा प्लान कर सकते हैं।

महिलायें जो फर्टाइल समय को जान कर प्रेगनेंसी को अवॉयड करना चाहती हैं।

आई-श्योर Ovulation test strip को मेडिकल स्टोर या ऑनलाइन (I-sure and i- know are same products) खरीदा जा सकता है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*