ऐ-केयर एबॉर्शन पिल्स a-Kare Detail and Uses in Hindi

loading...

ऐ-केयर एक ऐलोपथिक प्रिसक्रिप्शन ड्रग (डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन पर मिलने वाली ) है जिसे गर्भपात कराने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें मीफेप्रिस्टोन 200 mg की एक गोली और माईज़ोप्रोस्टोल की 0.2 mg की चार गोलियां है। पहले मीफेप्रिस्टोन की गोली खाली पेट ली जाती है जो की गर्भावस्था के लिए हार्मोन प्रोजेस्टेरोन को रोकती है। यह सर्विक्स (गर्भाशय की गर्दन) को मुलायम करती है। फिर माईज़ोप्रोस्टोल की चार गोलियां 24 – 48 घंटे के अन्दर ली जाती हैं, जो की गर्भाशय से पदार्थ को बाहर करने का काम करते हैं।

यहाँ यह जानना बहुत ज़रूरी है की माईज़ोप्रोस्टोल को 24 घंटे से पहले और 48 घंटे के बाद लेने से दवा सही प्रकार से काम नहीं करती। इसलिए इसे 24 – 48 घंटे के बीच में लेना चाहिए।

इस दवा के सेवन से गर्भपात घर पर ही करवाया जा सकता है, लेकिन यह ज़रूरी है की ऐसा डॉक्टर की निगरानी में हो। पहले तो गर्भावस्था का कंफ़र्म होना आवश्यक है। यह भी पता लगाना ज़रुरी है की यह गर्भाशय में है या फालोपियन ट्यूब में। ऐसा डॉक्टर द्वारा अल्ट्रासाउंड द्वारा पता लगाया जाता है। दवा लेने के बाद, यह पता करने के लिए की एबॉर्शन पूरा हुआ की नहीं 15 दिनों के बाद फिर से एक अल्ट्रासाउंड किया जाता है। यदि एबॉर्शन न हुआ हो तो इसे दुबारा दवा दे कर या सर्जरी द्वारा निकला जाता है।

इस दवा के सेवन के बाद गर्भावस्था को नहीं चलने देना चाहिए क्योंकि बच्चे में बहुत सी जन्मजात विकृतियाँ हो जाती है।

ब्रांड का नाम : डीकेटी

जेनरिक: माईज़ोप्रोस्टोल और मीफेप्रिस्टोन

loading...

ऐ-केयर की प्रेगनेंसी केटेगरी:

केटेगरी एक्स X – मानव तथा पशुओं में किये गए अध्ययन, होने वाले बच्चों में असामान्यताओं fetal abnormalities को दिखाते है। इसका प्रयोग गर्भावस्था में वर्जित है।

Abortion pills can only be taken under supervision.

a-Kare is an abortion pill. It contains Mifepristone and Misoprostol. They are taken to induce labour when a decision has been made to stop a pregnancy.

Mifepristone blocks the pregnancy hormone progesterone which is needed to maintain a pregnancy. Blocking of hormone causes the lining of the uterus to change. Cervix (neck of the uterus) softens and the uterus is more likely to contract and labour when the second medication Misoprostol is given. Mifepristone decreases the time a woman may spend in labour from beginning induction of labour to the birth or miscarriage.

Here is given more about this medicine, such as indication/therapeutic uses, Key Ingredients and dosage in Hindi language.

ऐ-केयर के घटक Ingredients of a-Kare

माईज़ोप्रोस्टोल और मीफेप्रिस्टोन

ऐ-केयर के चिकित्सीय उपयोग Uses of a-Kare

यह दवा केवल एबॉर्शन कराने के लिए प्रयोग की जाती है। यह एक प्रिसक्रिप्शन ड्रग है और डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन पर मिलती है।

सेवन विधि और मात्रा Dosage of a-Kare

नोट: यह प्रिस्क्रिप्शन ड्रग है।

  1. इसे गर्भावस्था की पुष्टि के बाद, डॉक्टर के निर्देशानुसार ही लें।
  2. गर्भावस्था की पुष्टि के लिए अल्ट्रासाउंड pelvic ultrasound scan कराएं। इससे यह गर्भ कितने दिन का है व इसकी जगह ठीक से पता हो सकेगा inside the uterus / ectopic
  3. यह गोलियां गर्भपात कराने में 96% तक कारगर हैं.
  4. इनको लेने के बाद भी कुछ मामलों में यह संभावना रह ही जाती है की गर्भपात सही से न हो, बहुत खून जाए, इन्फेक्शन हो जाए या यह गोली काम न करे।
  5. आम तौर पर 1 टेबलेट मीफेप्रिस्टोन Mifepristone की पहले ली जाती है। इसे खाली पेट लेना होता है।
  6. फिर 48 घंटे बाद माईज़ोप्रोस्टोल Misoprostol की 4 गोलियाँ मुंह से ली जाती हैं या योनि के रास्ते गर्भ में डाली जाती हैं ।
  7. कुछ घंटों में 3-4 hours दर्द cramps के साथ बहुत अधिक ब्लीडिंग heavy bleeding शुरू हो जाती है। ब्लीडिंग के साथ टिश्यू tissue और क्लोट्स clots भी होते हैं। ब्लीडिंग के साथ कुछ सफ़ेद सा डिस्चार्ज भी हो सकता है जो की फ़ीटस के पार्ट्स होते हैं।
  8. ब्लीडिंग कुछ दिनों तक काफी मात्रा में जारी रहती है।
  9. ब्लीडिंग के दौरान पैड्स का इस्तेमाल करें।
  10. ब्लीडिंग पीरियड्स की ब्लीडिंग से ज्यादा होनी चाहिए।
  11. दर्द को कम करने के लिये ब्रूफेन ले सकते हैं। एस्पिरिन नहीं लेनी चाहिए।
  12. अगर एबॉर्शन होता तो माईज़ोप्रोस्टोल को डॉक्टर के निर्देश से फिर से लेना पड़ सकता है।
  13. योनि से ब्लीडिंग एक महीने तक जारी रह सकती है।
  14. यह अनिवार्य है की 15 दिनों के बाद एकअल्ट्रा साउंड स्कैन किया जाए जिससे यह पता लग सके की गर्भपात पूरा सही तरीके से हुआ है और गर्भाशय अब खाली है.
  15. गर्भपात के बाद दुबारा पीरियड्स कुछ महीनों में सामान्य हो पाते हैं।

पिल्स के द्वारा गर्भपात कराने के लाभ

  1. इसे घर पर ही किया जा सकता है।
  2. पिल्स के द्वारा गर्भपात कराने के नुकसान / साइड-इफेक्ट्स
  3. अपूर्ण गर्भपात
  4. भारी मात्रा में रक्तस्राव
  5. संक्रमण
  6. गर्भाशय में ब्लड क्लोट्स
  7. बुखार, चक्कर आना
  8. कमजोरी, हेमरेज
  9. ऐंठन, उलटी
  10. दर्द, सर में दर्द

इसे न लें यदि Contraindications

  1. गर्भ 9 सप्ताह से ज्यादा का हो
  2. एक्टोपिक प्रेगनेंसी
  3. पोरफाइरिया porphyria
  4. रक्त विकार जिसमे खून बहना न रुकता हो
  5. ब्लड क्लोटिंग डिसऑर्डर अधिवृक्क विफलता adrenal failure
  6. आईयूडी IUD लगी हो
  7. स्टेरॉयड दवा का सेवन
  8. गंभीर यकृत विफलता
  9. कुछ स्त्री रोग, गंभीर श्रोणि संक्रमण
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*