नीम Neem tree Information and Uses in Hindi
गूलर Information and Medicinal Uses of Gular
सहजन की पत्तियों(Moringa Leaves) के पाउडर के लाभ
अश्वगंधा Ashwagandha detail, benefits and uses in Hindi

कफ को कम करने के सामान्य उपचार How to Control Cough Naturally

जब शरीर में कफ अधिक हो जाता है तो भिन्न तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो जाती है। कफ दोष होने पर, अधिक म्युकस बनता है। शरीर में भारीपन, स्रोतों में अवरोध, अपच, खुजली, सूजन, ज्यादा नींद आना बढ़े हुए कफ के कुछ अन्य लक्षण हैं। जानें कफ को कैसे दूर करें।

फायदे ओट्स के Oats Health Benefits in Hindi

Oats

जई के बीज को ओटमील के रूप में पूरी दुनिया में ब्रेकफास्ट सीरियल की तरह खाया जाता है। ओट ब्रान में घुलने वाले फाइबर होते हैं जो की बुरे कोलेस्ट्रोल को कम करते हैं। कोलेस्ट्रोल कम होने से दिल का स्वास्थ्य बेहतर होता है। यह शरीर को इन्सुलिन को सही से प्रयोग करने में मदद देता है।

न्यूरोबियोन फोर्ट टैबलेट Neurobion Forte Tablet in Hindi

neurobion-forte-tablet

न्यूरोबियोन फोर्ट एक एलोपैथिक दवा है इसमें विटामिन बी 1 (thiamine), बी 2 (Riboflavin), बी 3 (Nicotinamide), बी 5 (Calcium Pantothenate), बी -6 (pyridoxine hydrochloride), और बी 12 (Cyanocobalamin) मौजूद है। यह दवा मर्क लिमिटेड (भारत) Merck Limited (India) द्वारा निर्मित है और विटामिन की कमी के इलाज के लिए प्रयोग की जाती है।

हर्पिस Herpes Simplex Infection In Hindi

हर्पिस सिंप्लेक्स, एक संक्रमण / इन्फेक्शन है जो की वायरस, हरपीज सिंप्लेक्स वायरस (एचएसवी) HSV के कारण होता है। हरपीज सिंप्लेक्स, का नाम ग्रीक भाषा के शब्द हर्पीज़ से लिया गया है, जिसका मतलब होता है रेंगना to creep or crawl, क्योंकि इसमें त्वचा पर होने वाले घाव फैलते रहते हैं, चाहे वह व्यक्ति के शरीर में हों या एक व्यक्ति से दुसरे तक हों। हर्पीज़ का संक्रमण न केवल त्वचा बल्कि केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को भी प्रभावित करता है।

बरना (Crataeva nurvala) Varuna Tree in Hindi

चरक, सुश्रुत संहिता तथा विभिन्न आयुर्वेदिक ग्रंथों में इसका प्रधान गुण अश्मरी नाशक ही बताया गया है। बरुन की छाल और पत्तों का मुख्य प्रभाव मूत्र अंगों पर होता है। यह मूत्रल है तथा अन्य मूत्रल वनस्पतियों के साथ मिलाकर, इसका काढ़ा बनाकर पीने से शरीर से पथरी टूट कर निकल जाती है। पथरी, बस्ती के दर्द, मूत्रकृच्छ, सुजाक में इसकी छाल को गोखरू, मुलेठी, कुल्थी की दाल, पुनर्नवा, आदि के साथ होता है।

शालपर्णी Shalaparni in Hindi

Salparni

शालपर्णी का प्रमुख गुण शरीर से दर्द और सूजन को दूर करना है। इसका प्रयोग शरीर में सूजन, बुखार के कारण मानसिक खराबी, वात, प्रमेह, पाइल्स, खांसी, त्रिदोष, प्यास, अतिसार, उलटी, पीठ में दर्द, मुंह के चाल, एक्जिमा आदि में किया जाता है। शालपर्णी, आंतो को संकुचित करता है। यह पेचिश में लाभकारी है। इसका विभिन्न प्रकार से सेवन शरीर में वात को संतुलित करता है। दवा के रूप में प्रयोग करने के लिए शालपर्णी की जड़ और पत्तों का उपयोग होता है।